पैसा डुबाने के बाद कॉल गर्ल बनना पड़ा

sex stories in hindi

मेरा नाम सारीका है, मैं जयपुर की रहने वाली एक शादीशुदा महिला हूं। मेरी शादी को 8 वर्ष हो चुके हैं और मेरी उम्र 34 वर्ष की है। मेरे पति विदेश में नौकरी करते हैं और मैं यहां आपने सास-ससुर और अपने बेटे के साथ रहती हूं। मेरा एक 6 वर्ष का लड़का भी है। मैं अपने स्कूल टाइम से ही कुछ ना कुछ करने की सोचती थी लेकिन जब मैं कॉलेज में आई तो मैं पढ़ने में भी बहुत अच्छी थी और मैं अपने कॉलेज के  हर प्रोग्राम में हिस्सा लिया करती थी जिससे कि मेरे कॉलेज के टीचर भी मुझसे बहुत खुश होते थे और मैं कॉलेज की शान हुआ करती थी  लेकिन जब से मेरी शादी हुई है उसके बाद से तो मैं कुछ भी नहीं कर पाई और मैं सिर्फ घर का ही काम करती हूं।

मुझे कई बार ऐसा लगता है कि मुझे कहीं पर कोई जॉब कर लेनी चाहिए थी लेकिन मेरे पति ने मुझे मना कर दिया और कहने लगे कि मुझे अच्छी सैलरी मिलती है उसके बाद भी तुम जॉब करो तो यह उचित नहीं है और मेरे पापा ने भी इसके लिए मुझे मना कर दिया। मैं घर में बोर होती रहती हूं। फिर मैंने सोचा क्यों ना कहीं पर कुछ काम ही कर लिया जाए क्योंकी मेरा लड़का भी बड़ा हो चुका है और उसे मेरे सास-ससुर देख लेते हैं। जब मेरी ननद को समय मिलता है तो वह भी उसकी देखभाल कर लेती है। मेरी ननद और मेरे बीच में बहुत ही अच्छे संबंध है हम दोनों एक दूसरे को बहुत ही अच्छे से समझते हैं और वह मुझसे हमेशा ही कुछ ना कुछ टिप्स लिया करती है क्योंकि वह भी कॉलेज की पढ़ाई कर रही है और मुझे कहती है कि भाभी आप तो कॉलेज में बहुत ही एक्टिव थी। मैं उसे कहती हूं कि वो समय तो कुछ और ही था लेकिन अब तो मैं सिर्फ घर का काम ही संभाल रही हूं और कुछ भी नहीं कर पा रही हूं। मेरी ननद मुझे हमेशा ही कहती है कि आपको कुछ ऐसा करना चाहिए जिससे कि आप बिजी भी रहे और आपको अच्छा भी लगे। मैंने उससे पूछा कि ऐसा कोई भी काम नहीं है मैं जो कुछ भी करूँगी तो उसके लिए मुझे घर से बाहर जाना पड़ेगा और तुम्हें तो पता ही है कि तुम्हारे भैया किस तरीके के हैं वह तो मुझे साफ़ मना कर देते हैं कि तुम्हें कुछ भी करने की जरूरत नहीं है, मुझे जब इतनी अच्छी सैलरी मिल रही है तो उसके बाद भी यदि तुम काम करो तो यह मेरे लिए अच्छा नहीं है लेकिन मैं भी एक तो घर में बोर हो चुकी हूं और मैंने कुछ ना कुछ करने की तो ठान ही ली थी लेकिन मुझे कोई ऐसा काम नहीं मिल रहा था जिसे कि मैं कर पाऊं, ना ही मुझे कुछ समझ में आ रहा था कि मुझे ऐसा क्या करना चाहिए जिससे कि मुझे बहुत अच्छा पैसा मिले और मेरा समय भी बीत जाए।

एक दिन मेरी सहेली मुझे मिली और कहने लगी कि एक ऐसा काम है जिसमें कि तुम यदि इन्वेस्टमेंट करते हो तो तुम्हें उसका पैसा मिलेगा। मैंने उसे कहा कि ऐसा कौन सा प्लान है जिसे हम करेंगे और हमें उसका पैसा मिलेगा। वो कहने लगी मैंने भी कंपनी जॉइन कर ली है और उसमें अपना पैसा लगा दिया है, जब उसने मुझे चेक दिखाया कि मेरे पैसे भी वापस आ चुके हैं तो मुझे उस पर यकीन हो गया और मैंने भी उस कंपनी के बारे में जानने के लिए उसके साथ उसके ऑफिस भी चली गई। जब मैं उनके ऑफिस में गई तो वहां पर बहुत सारा स्टाफ था और उन्होंने बहुत ही अच्छे से अपने ऑफिस को डेकोरेट किया हुआ था और वहां पर कई लोग अपने पैसे लेने भी आ रहे थे। जीसमे की उनको उनकी रकम की दोगुनी रकम मिलने वाली थी। मुझे भी वह सब देख कर अच्छा लगा और मैंने भी सोचा कि क्यों ना वहां पर इन्वेस्टमेंट कर दूं, उन्हीं के साथ जुड़कर कुछ काम कर लिया जाए। मैंने उसी काम में पैसे डाल दीये और मैंने कुछ पैसे भी जमा कर दिए थे जब मैंने वह पैसे जमा किए तो मैं खुश हो गई कि चलो कम से कम मुझे उसकी दोगुनी राशि तो मिल ही जाएगी। मैंने उसमें पहले कम पैसे लगाये, मैं देखना चाहती थी कि क्या वह लोग सही में पैसे देते भी हैं या नहीं। 6 महीने बाद मेरे पैसे दोगुने हो गए और मैंने वहां से पैसे ले लिए। अब मुझे उन पर पूरा भरोसा हो चुका था और मुझे लगने लगा था कि यह तो बहुत ही अच्छा प्लान है। अब मैंने अपने कुछ ज्यादा ही पैसे लगा दिये और मैंने कई लोगों को उसके बारे में भी जानकारी दी, उन्होंने भी अपने पैसे लगा लिए थे इस बार मैंने बड़ी अमाउंट लगा दी थी।

मैं सोच रही थी कि चलो कम से कम  ज्यादा पैसे आ जाएंगे तो मेरे पति भी बहुत खुश हो जाएंगे लेकिन मुझे नहीं पता था कि इस बार सब कुछ उल्टा होने वाला है। जब मैं उनके ऑफिस में पैसे लेने के लिए गई तो उन्होंने कहा कि आप कुछ दिनों बाद आइएगा क्योंकि आजकल ऑफिस में कुछ ज्यादा काम है इस वजह से हम आपको वह पैसे अभी नहीं दे सकते। मैं भी निश्चिंत हो गई और मुझे लगा कि चलो कुछ दिनों बाद मैं आ जाती हूं। जब मैं अगली बार आई तो दोबारा से उन्होंने मुझे यही बात कही, मुझे समझ नहीं आ रहा था कि इस बार वह लोग इस तरीके से क्यों बात कर रहे हैं। जब मैं अगली बार उनके ऑफिस गई तो वहां पर उनका ऑफिस नहीं था। उन लोगों ने वहां से अपना ऑफिस खाली कर दिया था। मेरे पास उनके सीनियर का नंबर था तो मैंने उन्हें फोन करते हुए कहा कि आपका ऑफिस तो यहां से बंद हो चुका है और मैंने कुछ पैसे भी जमा करवाए थे। वो कहने लगे कि हम लोग तो सिर्फ यहां पर काम करते हैं और हमे इसके बारे में कोई भी जानकारी नहीं है। मैंने उनकी कंप्लेंट पुलिस स्टेशन में भी करवा दी क्योंकि मुझे बहुत ज्यादा डर लगने लगा था कि कहीं वह पैसे डूब गए तो मेरे पति मुझे बहुत कुछ सुनाएंगे इस वजह से मैं बहुत ही डर गई थी। मैं बहुत ज्यादा परेशान भी हो रही थी क्योंकि मुझे कहीं ना कहीं ऐसा लग रहा था कि यदि यह बात मेरे पति को पता चल गई तो वह कहीं मुझे घर से ही ना निकाल दें। मैंने पुलिस स्टेशन में भी कंप्लीट की थी लेकिन उसका भी कोई फायदा नहीं हुआ।

उन लोगों का कोई अता-पता नहीं चल रहा था और मेरी सहेली का भी मुझे फोन आया वह भी कहने लगी की मेरे भी पैसे डूब चुके हैं। मैं बहुत ही तनाव में रहने लगी और मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था कि मुझे क्या करना चाहिए क्योंकि मेरे पति कुछ समय बाद वापस आने वाले थे और यदि उन्हें मैं यह सब बताती तो उन्हें भी टेंशन हो जाती। वह पैसे उन्होंने मुझे नए घर बनाने के लिए दिए थे और मैंने सारे ही पैसे डूबा दिए। मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि मेरे साथ ऐसा हो जाएगा लेकिन जो भी हुआ वह मेरे समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था। मैंने पुलिस स्टेशन के भी बहुत चक्कर मारे लेकिन उसके बावजूद भी मुझे कोई हल नहीं मिला और ना ही मुझे किसी भी प्रकार से कोई मदद मिल रही थी। पुलिस स्टेशन में भी वह लोग बोल रहे थे कि हम भी कार्रवाई कर रहे हैं यदि जैसे ही हमें कुछ जानकारी प्राप्त होती है तो हम आपको तुरंत ही बता देंगे, मैंने उन्हें कहा कि मेरी एक बड़ी अमाउंट है वह लोग कहने लगे कि यहां पर और भी लोगों ने कंप्लेंट करवा रखी है और उन लोगों ने भी बहुत पैसे लगाए थे। मैं बहुत ही ज्यादा परेशान हो गई थी। मुझे कुछ भी चीज समझ नहीं आ रहा था। तभी मेरी दोस्त मुझे मिली और वह कहने लगी तुम अब अपनी चूत मरवाओ तभी तुम्हें कहीं से पैसे मिलेंगे मैंने उसे कहा कि मेरी चूत कौन लेगा। वह कहने लगी कि मेरे पास बहुत से कस्टमर है वह तुम्हें अच्छा पैसा दे देंगे तुम्हें उन्हें खुश करना होगा। मुझे यह कहते हुए मुझे उसने नंबर दे दिया जब मैंने उन्हें फोन किया उसके बाद में उनके घर पर चली गई। वह अधेड़ उम्र के थे जब मैं उनके पास गई तो वह मुझे कहने लगे कि तुम्हें सब कुछ पता है ना। मैंने उनसे कहा कि हां मुझे सब कुछ पता है उन्होंने मुझे कुछ पैसे पकड़ा दिया और मैंने तुरंत ही उनके लंड को चूसना शुरू कर दिया। मै बहुत अच्छे से उनके लंड को चूस रही थी मुझे बड़ा ही अच्छा लग रहा था जब मैं उनके लंड को अपने मुंह के अंदर ले रही थी और काफी देर तक मैंने ऐसे ही उनके लंड को चूसना जारी रखा लेकिन एक समय बाद वह पूरे उत्तेजित हो गए।

उन्होंने मेरी दोनों पैरों को चौड़ा करते हुए मेरी चूत को अच्छे से चाटा जिससे कि मेरी योनि से पूरा पानी निकलने लगा और अब मेरी उत्तेजना भी बड गई। उन्होंने जैसे ही अपने मोटे लंड को मेरी चूत मे डाला तो मुझे बहुत तेज दर्द हुआ लेकिन वह मुझे ऐसे ही धक्के दिए जा रहे थे और मुझे अच्छा भी लग रहा था। उन्होंने मुझे बड़ी तेज तेज धक्के मारे जिससे कि मेरा शरीर पूरा दुखने लगा उन्होंने मुझे बहुत देर तक ऐसे ही चोदा। उसके बाद उन्होंने मेरी चूतड़ों को पकड़ते हुए मेरी गांड को चाटना शुरू कर दिया जब वह मेरी गांड को चाट रहे थे तो मुझे भी अच्छा लग रहा था। जैसे ही उन्होंने मेरी गांड में अपना मोटा लंड डाला तो मैं चिल्लाने लगी और मेरी गांड से खून भी आ रहा था। वह मुझे बड़ी तेजी से झटके मार रहे थे और मेरी गांड में दर्द हो रहा था लेकिन अब मुझे भी मजा आने लगा। मैं भी अपनी गांड को चौड़ा कर रही थी वह बहुत ही खुश हो रहे थे और मुझे बड़ी तेजी से धक्के मार रहे थे। जब उनका वीर्य मेरी गांड में  के अंदर गया तो वह बहुत शांत हो गए। अब मेरे पास काफी पैसे जमा हो चुके थे और मैंने अपने पैसो की भरपाई कर ली लेकिन मैं कॉल गर्ल बन गई और उसके बाद ना जाने कितने लोगों ने मेरी गांड के घोड़े खोल दिए। मुझे बहुत ही अच्छे से सब लोग चोदते हैं मेरे पास अब बहुत ही पैसे हो चुके हैं अब मैंने यही काम पकड़ लिया है क्योंकि मेरे पति भी बाहर रहते हैं। मुझे यह काम करने में बहुत ही अच्छा लगता है ऐसे मे मेरा दिल भी बहल जाता है और पैसे भी आ जाते हैं।