अंकिता की मदमस्त जवानी के मजे

antarvasna sex stories

मेरा नाम रोहन है, मैं 24 वर्षीय कॉलेज का छात्र हूं। मेरी पूरी फैमिली अजमेर में रहती है। मेरे पिता की चूड़ियों की दुकान है और वो काफी समय से चूड़ियों का काम कर रहे हैं। वह इस कारोबार में बहुत पहले से ही काम कर रहे हैं इसलिए उनकी दुकान अब अच्छी चलती है। मेरा बड़ा भाई भी मेरे कॉलेज में ही है, उसका नाम पंकज है। वह और मैं साथ में ही कॉलेज जाते हैं। वह मुझसे एक क्लास सीनियर है। मेरे भाई और मेरे बीच में बहुत ज्यादा बनती है क्योंकि हम दोनों बचपन से ही एक ही स्कूल में पढ़ते थे और उसके बाद हम दोनों ने एक ही कॉलेज में दाखिला लिया है जिस वजह से पंकज और मेरे बीच बहुत ही अच्छी बातचीत है और जब भी हम दोनों कॉलेज जाते हैं तो मैं अक्सर उसे कुछ ना कुछ पूछता ही रहता हूं। वह अपनी क्लास के बारे में भी मुझे बताता है। उसकी क्लास में ही एक लड़की है उसका नाम अंकिता है।

वह मुझे बहुत ही पसंद है लेकिन मैं उससे कभी भी अपने दिल की बात बोल ना सका क्योंकि उसका एक बॉयफ्रेंड भी है, उसका नाम अमित है, मैं इसी वजह से चुप हो जाता हूं क्योंकि उसका बॉयफ्रेंड है। मैंने जब अपने भाई को यह बात बताई तो वह कहने लगा कि तुम भी अंकिता से बात कर सकते हो लेकिन मैंने अपने भाई से बोला कि अमित तो कॉलेज का सबसे स्मार्ट लड़का है और वह बहुत ही पैसे वाला भी है, उसके पीछे कॉलेज की सारी लड़कियां पड़ी हैं लेकिन अंकिता और उसका रिलेशन भी बहुत पुराना है क्योंकि मैं ज्यादा बात नहीं करता इसी वजह से शायद मैं भी अपने दिल की बात ना कह सका। जब भी हम लोग कैंटीन में बैठे होते हैं तो अंकिता मुझसे काफी बात किया करती थी लेकिन उसके बावजूद भी मैं उससे ज्यादा बात नही करना चाहता था। मुझे ऐसा लगता था कि कहीं यह बात अमित को पता चल गई तो वह मुझसे झगड़ा ना कर ले इसी वजह से मैं अंकिता से ज्यादा बात नहीं करता था लेकिन मेरे दिल में उसके लिए जो कुछ भी चल रहा था, वह मैं उसे जल्दी ही बोलने वाला था। मैंने अब अपनी हिम्मत करते हुए एक दिन उसे किसी तरह से अपने दिल की बात कह दी लेकिन अंकिता मुझे कहने लगी यदि यह बात अमित को पता चल गई तो वह तुम्हारा बुरा हाल कर देगा।

मैंने उसे कहा कि वह तो सही है परंतु मेरे जो दिल में बात थी मैंने तुमसे वह कह दिया, आगे तुम्हें फैसला लेना है। वो कहने लगी कि मैं अमित को किसी भी तरीके से छोड़ नहीं सकती और ना ही मैं  अमित से अलग रह सकती हूं, हम दोनों के बीच में बहुत ही अच्छा रिलेशन है और अमित भी मुझे बहुत अच्छा लगता है। यह बात अंकिता ने अमित से तो नहीं कहीं पर कहीं ना कहीं मुझे उसकी बात बहुत ही बुरी लगी और मैंने भी सोच लिया कि मैं भी अमित के जैसे बन कर उसे दिखाऊंगा। मैंने भी अपने पापा से कहा कि मुझे एक स्पोर्ट्स बाइक लेनी है। जब उन्होंने मेरे लिए स्पोर्ट्स बाइक ले ली तो मैं बहुत ही खुश था और मेरा भाई कहने लगा कि तुमने पापा का बेमतलब का खर्चा करवा दिया। मैंने उसे कहा कि अब मैं भी अपने तरीके से अंकिता को दिखाऊंगा कि मैं अमित से कम नही हूं। जब मैं अपनी स्पोर्ट बाइक लेकर कॉलेज में गया तो अंकिता की नजर मुझ पर पड़ी और उसके बाद वह अपनी नजरें छुपाते हुए वहां से चली गई लेकिन मैं भी चाहता  था की मेरा रिलेशन अंकिता से हो जाए। मैंने अपने लुक को भी पूरा चेंज कर लिया और अब मैं पहले से बेहतर दिखने लगा था। मेरा भाई पंकज मुझे समझा रहा था कि तुम बे मतलब ही अंकिता के चक्कर में पड़े हो, अमित और उसका रिलेशन बहुत पुराना है और वह दोनों एक साथ काफी समय से रह रहे हैं लेकिन मुझे अमित बारे में पता था कि वह किस तरह का लड़का है और उसकी कई गर्लफ्रेंड है लेकिन यह बात अंकिता को बिल्कुल भी नहीं मालूम थी। वह अपने क्लास की ही लड़कियों से फ्लर्टिंग किया करता था और उन्हीं के साथ वह घूमने भी जाया करता था। मैं चाहता तो अंकिता को यह सब बता सकता था लेकिन मैंने सोचा कि उसे खुद ही पता चल जाए तो ज्यादा अच्छा रहेगा। कुछ समय बाद अमित के खिलाफ एक लड़की ने कंप्लेंट करवा दी और कहा कि अमित ने उसे प्रेग्नेंट कर दिया है।

जब यह बात कॉलेज में पता चली तो पूरे कॉलेज में हंगामा हो गया और अमित अपना मुंह छुपाता फिर रहा था। उसकी सारी हेकड़ी बाहर आ गई और वह चुपचाप अपनी गर्दन नीचे कर के अब कॉलेज में आया करता था क्योंकि उसके पापा बहुत पैसे वाले थे इसलिए उन्होंने उस लड़की से अमित की शादी करवा दी और उनकी शादी हो चुकी थी। अमित और अंकिता का रिलेशन भी अब खत्म हो चुका था। अंकिता को जब यह बात पता चली थी तो वह बहुत ही शॉक्ड हुई लेकिन वह मुझसे भी रिलेशन नहीं रखना चाहती थी। मैं जब भी अंकिता से मिलता था तो वह मुझसे बहुत ही कम बात किया करती थी लेकिन मैं चाहता था कि अब हम दोनों  का रिलेशन आगे बढ़े। मैंने एक बार अंकिता से कहा कि यदि तुम्हें बुरा ना लगे तो तुम मेरे साथ घूमने के लिए चल सकती हो, तो वो कहने लगी कि मैं तुम्हारे साथ नहीं आ सकती लेकिन मैंने उसे जिद की और वह मेरे साथ आ गई। जब वह मेरी बाइक के पीछे बैठी हुई थी तो मुझे बहुत ही अच्छा महसूस हो रहा था क्योंकि मैं चाहता था कि अंकिता ही मेरी गर्लफ्रेंड बने। जब उसने अपने हाथ मेरे कंधे पर रखे तो मुझे बहुत ही अच्छा लगा और ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे अंकिता  भी मुझसे प्यार करने लगी है। मैं उसे मूवी दिखाने ले गया और हम लोग साथ में बैठकर मूवी देख रहे थे।

मैंने जब अंकिता का हाथ पकड़ लिया तो उसने भी मेरा हाथ पकड़ते हुए मुझे प्रपोज कर दिया और अब हम दोनों की नज़दीकियां बहुत बढ़ चुकी थी। मैं अंकिता से फोन पर भी काफी देर तक बात किया करता था और कॉलेज में भी उसके साथ बहुत समय बिताता था। मुझे अंकिता के साथ समय बिताना बहुत अच्छा लगता था और जब यह बात मेरे भाई पंकज को पता चली तो वह कहने लगा कि तुम बेकार में ही अंकिता के पीछे पड़े हुए हो, तुम अपनी पढ़ाई में ध्यान दो और अपने आगे का भविष्य बनाओ। मैंने अपने भाई से कहा कि मैं अंकिता से अब आगे रिलेशन रखना चाहता हूं और उसी से मुझे शादी करनी है, इसी वजह से मैं अंकिता से प्रेम करता हूं।  अंकिता और मैं अब अक्सर घूमने के लिए चले जाया करते थे और यह बात अंकिता के घर वालों को भी पता चल चुकी थी और अब मेरे घर वालों को भी अंकिता और मेरे रिलेशन के बारे में पता चल गया था क्योंकि मेरे भाई ने घर में मेरे पापा को मेरे रिलेशन के बारे में बता दिया था। अब अंकिता हमारे घर पर भी आने जाने लगी थी और मैं भी उसके घर पर चला जाया करता था। हम दोनों एक दूसरे के साथ बहुत ही खुश है और जब वह अमित की बात करती थी तो वह रो पड़ती थी और कहती थी कि मैंने उस पर बहुत ही भरोसा किया और उसने मेरे भरोसे को बहुत ही ठेस पहुंचाई। मैं अंकिता को समझाया था की तुम्हें इस चीज के बारे में ज्यादा सोचना नहीं चाहिए क्योंकि अब हम दोनों रिलेशन में हैं और मैं तुम्हें कभी भी इस प्रकार का धोखा नहीं दे सकता और ना ही मैं कभी तुम्हारे साथ कुछ भी गलत होने दूंगा। अंकिता को मुझ पर बहुत ही भरोसा था इसलिए वह मेरे साथ खुश थी। मैं भी अंकिता के साथ बहुत ज्यादा खुश था। अंकिता और मैं पार्क में बैठे हुए थे हम दोनो आपस में बातें कर रहे थे उसी दौरान अंकिता ने मुझे गले लगा लिया वह कहने लगी कि मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं। जब उसने मुझे गले लगाया तो मैंने भी उसे कसकर पकड़ लिया ना जाने मुझे अंदर से कुछ अलग ही फीलिंग आने लगी थी और वह पूरी गर्म होने लगी। मैंने जब अंकिता के स्तनों को छुआ तो उसने तुरंत ही मेरे होठों को किस कर लिया और मैंने भी उसे किस कर लिया लेकिन हम लोग पार्क में सेक्स नहीं कर सकते थे इसलिए मैंने तुरंत ही उसे बाइक पर बैठाया और एक होटल में ले गया।

जब मैं उसे होटल में ले गया तो हम दोनों जैसे ही कमरे में गए मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए और उसका नंगा बदन मेरे सामने था। मैं उसके नंगे बदन को देखता ही रह गया उसने मेरे लंड को अपने मुंह में ले लिया और उसे बहुत अच्छे से चूसने लगी। काफी देर तक उसने मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसा। उसके तुरंत बाद मैंने उसके स्तनों को दबाना शुरू कर दिया और उसके स्तनों को बड़ी जोर से मैं दबाए जा रहा था वह बहुत खुश हो रही थी और मैं उसके स्तनों को बड़ी तेजी से दबा रहा था। मैंने उसके दोनों पैरो को चौडा करते हुए उसकी योनि के अंदर अपने लंड को उसकी योनि के अंदर तक डाल दिया। जैसे ही मेरा लंड उसकी योनि के अंदर घुसा तो वह कहने लगी तुम्हारा तो अमित से भी ज्यादा मोटा है। जब उसने यह बात मुझे कहीं तो मैंने उसके दोनों पैरों को मिला लिया और उसे बड़ी तीव्र गति से धक्के देने शुरू कर दिए मैंने उसे इतने जोर से धक्के मारे उसका पूरा शरीर गर्म होने लगा उसे बिल्कुल भी रहा नहीं गया। वह मुझसे कहने लगी कि मुझे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा है मैंने उसे कहा कि अभी तो मैंने शुरू किया है। मैंने उसे इतनी तेजी से धक्के मारे कि उसकी चूत पूरी गिली होने लगी उसे बहुत मजा आने लगा। जब वह झड़ने वाली थी तो उसने अपने दोनों पैरों को कस कर मिला लिया उसकी चूत इतनी ज्यादा टाइट हो गई कि मुझे भी उसे धक्के मारने में बड़ा मजा आने लगा। मै उसे बड़ी तेज तेज झटके मारे जा रहा था जिससे कि उसकी योनि से कुछ ज्यादा गर्मी बाहर निकलने लगी मुझे भी अच्छा लगने लगा जब मेरा माल उसकी योनि के अंदर गिरा तो उसे बहुत अच्छा महसूस हुआ।