हॉट लड़की को चोदने का मजा ही अलग है

hindi sex stories, antarvasna हेल्लो मेरे नल्ले दोस्तो | आज मैं आपको एक मस्त नयी नवेली घटना सुनाने वाला हूँ | यह एक ऐसी घटना है जो की मेरे जिन्दगी से जुडी हुयी है | मैं आपको अपनी चुदाई की घटनाओ से परिचित कराने जा रहा हूँ | जिन लोगो ने उनकी जवानी में चुदाई नही की है | उनके लिए मेरे पास एक सलाह है जिसे अपनाकर वो लोग जिन्होंने आज तक चुदाई नही की है किसी भी लड़की को आसानी से चोद सकते है | चलिए जानते है कि क्या हुआ था मेरी जवानी के समय | मैं एक जवान लड़का था जिसके पास फुरसत का समय बहुत हुआ करता था | मैं अपने फुरसत के समय पर इधर उधर घूमा करता था | मुझे नही मालूम था कि एक दिन ऐसा भी हो सकता है कि मैं लड़की को पाने के लिए अपना घर तक छोड़ सकता हूँ | मैं अपने छोटे भाई के साथ रहा करता था | मेरे पास एक फार्म हाउस था जिसे मैं किराये पर दिया करता था | एक दिन मेरे मकान पर एक लड़का आया हुआ था उसने मुझ से कहा कि मुझे किराये पर मकान लेना है | लेकिन मेरे पास उस समय कोई भी माकन किराये पर देने के लिए नही था |

इसलिए मैंने उस लड़के से कहा की मेरे पास एक फार्म हाउस है तुम वहा पर रह सकते हो | उस लड़के को मेरा प्रस्ताव पसन्द आया और वो मेरे फार्म हाउस में रहने लगा | कुछ महीने तक वो फार्म हाउस में अकेला रहा और उस फार्म हाउस की रखवाली करने के लिए एक चौकीदार भी था | समय के बीतने पर एक दिन मुझे मालूम चला कि उस लड़के के साथ फार्म हाउस में एक लड़की आ कर रहने लगी है | मैंने उस लड़के को फोन लगाया और पूछा कि तुम किसी लड़की के साथ फार्म हाउस में रह रहो हो क्या | तब उसने मुझे फोन पर बताया कि ऐसा कुछ नही जो लड़की मेरे साथ रह रही है वो मेरी बहन है | मैंने उस लड़के को कहा कि और कुछ तो नही है हो सकता है वो लड़की तुम्हारी गर्लफ्रेंड हो मैंने उसे ऐसा फोन पर कहा | मुझे उस पर भरोसा था लेकिन फिर भी मैं उस लड़के से मिलने के लिए फार्म हाउस पर गया | उस लड़के ने मुझ से फोन पर कहा की अगर आपको भरोसा नही है तो आप का फार्म हाउस मैं छोडकर चला जाता हूँ | मैंने उस लड़के को मनाया और उसे फोन पर कहा मुझे सावधानी बरतना पड़ती है इसलिए मुझे ऐसा करना पड़ता है | वो लड़का मेरे ऐसा कहने पर फार्म हाउस छोड़ने के लिए तयार नही हुआ |

उसी दिन मैं उस लड़के से मिलने और उस लड़की के विषय में जानने के लिए अपने फार्म हाउस पर गया | मैं जैसे ही फार्म हाउस के गेट पर पहुंचा तो वो लड़का और उसकी बहन भी फार्म हाउस के गेट पर खड़े हुए थे ताकि मेरे आने पर मेरा स्वागत कर सके | क्योकि मैं एक साल में दस दिन ही सिर्फ फार्म हाउस देखने के लिए आया करता था | मैं फार्म हाउस की साफ सफाई करवाने के समय पर ही फार्म हाउस आया करता था | जब उसकी बहन ने मुझे देखा तो उसने मुझे नमस्ते किया और मेरे लिए खाने के लिए मिठाई लेकर आई |

जब मुझे मालूम चला की उस लड़के के साथ एक लड़की रहने के लिए आई है तो मैं अचम्भे में पड़ गया था क्योकि मैंने उससे कहा था कि कोई भी लड़की को फार्म हाउस नही लाना | अगर कोई तुम्हारी गर्लफ्रेंड है तो भी उसे फार्म हाउस पर चोदने के लिए नही लाना | वो तो चौकीदार ने मुझे फोन लगाया और बाताया की उस लड़के ने किसी लड़की को फार्म हाउस में लेकर आया है वरना मैं नहीं आता | पहेली मुलाकात में वो लड़की के व्यवहार ने मुझे उसका कायल बना दिया | उस लड़की से मिलने के बाद जब मैं अपने परिचित के लोगो से मिलता था तब उस लड़की का जिक्र ज़रूर किया करता था | उस लड़की ने उस दिन पहेली बार मेरे फार्म हाउस पहुँचने पर मेरा स्वागत तो किया लेकिन उसने मुझ से शानदार बर्ताव किया उसकी वजह से मैं उससे मिलने के लिए अगली दफा फिर अपने फार्म हाउस पर गया | मुझे देखकर उस लड़की ने मुझे उनके कमरे के अन्दर आने के लिए कहा और मुझे पानी पीने के लिए पूछा | जब उसने मुझे पानी पीने के लिए दिया तो उसने मुझे भोजन खाने के लिए भी पूछा |

लेकिन मैंने भोजन करने से इनकार कर दिया ताकि मेरी वजह से उस लड़की को महनत न करना पड़े | उस लड़की का भाई भी वहां पर मौजूद रहता था | उस लड़की से अलविदा लेने का समय आया और उस लड़की ने मुझे से कहा की आपके स्वागत के लिए हम लोग हमेशा तैयार रहेंगे | मुझे उस लड़की का पहनावा भी रोचक लगता था क्योकि वो लोवर और टीशर्ट पहना करती थी |

टीशर्ट से उसके दूध ऊपर ऊठे हुए दिखाई देते थे | उसके होंठ भी लाल थे जिसे चूमने का मौका मुझे तलाश करना पड़ा | मैंने अपने चौकीदार से सुना था की वो लड़की हाफ पेन्ट पहनती है जब बाहर से लौटकर फार्म हाउस में आया करती थी | उस लड़की को हाफ पेन्ट में देखने के लिए मैं अपनी कार को अपने फार्म हाउस के सामने एक दिन ले जा कर रोक दिया और मैंने फिर उस लड़की को देखा की वो हाफ पेन्ट में घूम रही थी | उस लड़की के जांघ मोटे थे और मैं उसे देख रहा था | तभी उसका भाई आ गया और उसने मुझे पहचान लिया और मुझे फार्म हाउस के अन्दर चलने के लिए कहा | मैं फार्म हाउस के अन्दर गया और उस लड़की की जांघ को देख रहा था | वो लड़की को मालूम था की मैं फार्म हाउस के अन्दर घुस गया हूँ लेकिन फिर भी उसने उसके कपडे नही बदले | वो समय मेरे लिए एक बेहतर समय था क्योकि उस लड़की को और उसके भाई को कोई एतराज नही था कि वो लड़की किसी बाहर वाले के सामने छोटे कपडे पहने | मैं उसकी जाँघों को ही देख रहा था | उस दिन उन्होने मुझे भोजन के लिए पूछा लेकिन मैं एक सख्त लड़का था भोजन करने से इनकार कर दिया | अगले दिन मैंने उस लड़की को बाजार में घूमते हुए देखा और मुझे लगा की अब उस लड़की को सेट करना पड़ेगा | मैंने एक दिन फार्म हाउस की साफ सफाई करने का बहाना बनाया और एक मजदूर को ले कर फार्म हाउस में घुस गया | उस मजदूर ने फार्म हाउस की साफ सफाई करना शुरु किया | मैं भी उस मजदूर की सहायता कर रहा था | मैं फार्म हाउस की सफाई करते हुए थक गया था इसलिए मैं फार्म हाउस के छत पर चढ़ गया था तभी उस लड़की से मैंने पानी मंगवाया और उस लड़की ने मुझे पानी पीने के लिए दिया | पानी पीते समय उस लड़की ने मुझ से पूछा की आपको कुछ खाना है तभी मैंने उससे कहा की आप मेरे और मेरे मजदूर के लिए शरबत तैयार कर दो | वो लड़की शरबत तयार करने में लग गयी और कुछ समय बाद मेरे और मेरे मजदूर के लिए शरबत बनाकर ले कर आई | मैं उस लड़की के होटो को देख रहा था और उसके दूध को | उसके दूध उसके कपडे के बाहर निकलने के लिए झूल रहे थे | उसके दूध को देखने के बाद मुझे उस दिन उस लड़की को चोदने का फैसला किया | उस लड़की का भाई कार्य करने के लिए कही गया हुआ था इसलिए मैंने एक योजना बनाया था की मैं आज उसको छोडकर अपने घर जाने वाला हूँ  | मुझे मालूम था की साफ सफाई का कार्य करते समय सुबह से शाम हो जाएगी इसलिए मैंने उस लड़की को भोजन बनाने के लिए कह दिया था | वो लड़की मेरे और मेरे मजदूर के लिए भोजन बनाने में व्यस्त थी | जब वो लड़की भोजन बनाकर तयार कर चुकी थी तब उसने मुझे और मेरे मजदूर को भोजन करने के लिए बुलाया | लेकिन मुझे उस लड़की को अकेले में चोदना था इसलिए मैंने अपने मजदूर से कहा की तुम पहेले भोजन कर लो मुझे कुछ कार्य करना है | मेरा मजदूर भोजन कर रहा था और मैं उस लड़की को देख रहा था | उस लड़की ने मेरे मजदूर को भोजन परोसा और मजदूर ने कुछ समय तक भोजन समाप्त कर दिया | फिर उस लड़की ने मुझे भोजन करने के लिए पूछा और मैंने उस लड़की से कहा की मैं आ रहा हूँ | अब मेरे पास एक मौका था की मैं उस लड़की को एकांत में चोद सकता था | उस लड़की ने मेरे लिए भोजन परोसा | मैंने उस लड़की से कहा की मैं पंखे के नीचे बैठकर भोजन करता हूँ | इसलिए उस लड़की ने मुझे मेरे एक फार्म हाउस के कमरे के अन्दर बैठने के लिए कहा | लड़की पहले मेरे लिए एक थाली ले कर आई फिर उसके बाद उस लड़की ने कहा मुझे आपसे काम है आप अन्दर आओ | उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे अपने कमरे में ले गयी और कहा भाई आज नहीं है पर आप मुझे और मेरी प्यास को शांत कर दो | मैंने कहा यही तो मैं चाहता था और मैंने उसको चूमना चालु कर दिया | वो भी मेरा भरपूर साथ दे रही थी और मुझे अपने आगोश में ले रही थी | वो पेंट के ऊपर से ही मेरा लंड मसल रही थी और मैं भी उसकी शर्ट के ऊपर से ही उसके दूध दबा रहा था | उसके बाद उसने अपनी शर्ट को उतार दिया और ब्रा में कसे हुए उसके बड़े दूध मेरे सामने थे | मैं तुरंत उसके दूध पर टूट पीडीए और उनको चूमने लगा | उसने धीरे से अपनी ब्रा के हुक खोलके उनको आज़ाद कर दिया | मेरे मुंह में उसके निप्पल आ गए और मैं उनको चूसने लगा | वो गरम होने लगी और मेरा लंड भी खड़ा हो गया | मैं पागलों की तरह उसके निप्पल चूसे जा रहा था |

उसने मेरा मुंह अलग किया और कुर्सी पर बैठ के अपनी चूत पर रख दिया | मैं उसकी चूत को भी जोश के साथ चाटे जा रहा था और वो मादक स्वर निकालते जा रही थी | उसने फिर मुझे खड़ा किआ और मेरे लंड को चूस के गीला कर दिया | अब वो लेट गयी और उसने मेरा लंड अपनी चूत में घुसा लिया और मैं उसे धक्के मारते हुए चोदता गया | उसके बाद मैं अपनी चुदाई की रफ़्तार को बढ़ा दिया | उसको मैंने भरके चोदा और वो सिस्कारियां लेती गयी | मैंने एक घंटे की जंगली चुदाई के बाद अपना मुट्ठ उसके मुंह के अन्दर भर दिया जिसे वो पी गयी |