जिम्मेदारी (कुछ नयी कुछ पुरानी) -39

kamukta अध्याय 39
सुबह सुबह निधि जल्दी से तैयार हुई आज उसके कॉलेज का पहला दिन था..वही साथ ही सुमन को भी जाना था,दोनो ही तैयार थे ,उन्हें पहुचने के लिए बड़े ताम झाम किये गए थे,अजय ,विजय,कलवा और चम्पा साथ जाने वाले थे…चम्पा सुमन और किशन पर नजर रखने के लिए वहां जा रही थी ,जब किशन को पता चला चम्पा भी साथ जा रही थी तो वो अपना जाना ठीक नही समझा ,विजय को तो मेडम से मिलने की चाह सता रही थी जो काम उसने अधूरा छोड़ा था उसे पूरा करना चाह रहा था,और उसने अजय से कह दिया था की दोनो को कॉलेज छोड़ने की पूरी जिम्मेवारी उसकी…….
कॉलेज पहुचने पर अजय और कलवा की आंखे तो जैसे किसी शख्स पर जम सी गयी वो और कोई नही रामचन्द्र तिवारी का छोटा बेटा महेंद्र था,साथ में बजरंगी भी था और एक लड़का भी साथ था,ऐसे तो महेंद्र अजय का मामा था पर दुश्मनी ने खून के रिस्तो को भी कहा अपना होने दिया है….
कलवा ने धीरे से अजय के कानो में कहा..
“लगता है महेंद्र अपने बेटे को भी यहां एडमिशन कराने लाया है”
अजय ने उस लड़के को देखा ,रिस्ते में तो उसका भाई था पर अब उसे निधि की चिंता सताने लगी पुरानी दुश्मनी के कारन कही उसकी बहनों पर कोई आंच ना आ जाय….कलवा अजय की चिंता समझ चुका था,
“फिक्र की कोई बात नही है अजय ,विजय तो यहां इन्हें लाने लेजाने आएगा ही साथ में ही हम थोड़ी और सिक्योरटी यहां बढ़ा देंगे कुछ लोग हमेशा यहां पर रहेंगे “

अजय ने सहमति में अपना सर हिलाया..वही महेंद्र की नजर भी ठाकुरो पर पड़ी तो जैसे किसी ने तपते तवे पर पानी के झिटे मार दिए हो गुर्राया पर बजरंगी ने उसका हाथ थाम लिया और उसे शांत किया वो अपने बेटे के साथ कॉलेज के अंदर चला गया वही अजय विजय भी निधि और सुमन के साथ अंदर गये.
इधर काव्या मेडम की हालात थोड़ी खराब थी वो ठाकुरो का रोब तो देख ही चुकी थी और उसे बहुत खुशी थी की यहां वो विजय के साथ ऐसा करेगी पर यहां आने पर उसे पता चला की यहां पर तिवारियो का भी बोल बाला है और दोनो के बीच पुश्तैनी दुश्मनी है…उसकी हालात तो खराब हो चुकी थी पर उसने अपने ट्रांसफर की बात भी की पर किसी ने एक नही सुनी ,अब तो उसे बस विजय पर ही कुछ भरोसा था की वो कुछ कर दे…महेंद्र और अजय आमने सामने हुए महेंद्र तो अजय को देख कर उसे पूरी तरह से इग्नोर की कर दिया पर अजय के दिल में ना जाने क्या आया उसने महेंद्र के पास आकर उसके पैर छू लिये…सबके लिए ये बात बहुत ही चौकाने वाली थी अजय ने निधि ,सुमन.और विजय की तरफ इशारा किया
“ये हमारे मामा जी है इनके पैर छुओ “
निधि और सुमन को इसका कोई भी ज्ञान नही था उन्होंने तुरंत उनके पैर छू लिए पर विजय तो सब जानता था और उन्हें ही अपने मा बाप का कातिल मानता था,वो कैसे उसके पैर छुता विजय की नाराजगी तो अजय समझ चुका था पर वो उसे कुछ भी नही कहा…
महेंद्र ना चाहते हुए भी अपने भांजे भांजियों को आशीर्वाद दे डाला ,निधि को देखकर तो उसके आंखों में आंसू ही आ गए बड़ी ही मुश्किल से वो उसे सम्हाल पाया ,निधि में उसे अपनी बड़ी बहन का चहरा दिखा उसकी वही लाडली बहन जिसके लिए तीनो भाई अपना सबकुछ हस्ते हस्ते नॉछवार कर देने को तैयार थे ,पर एक गलती और सब कुछ बदल गया इतने सालो से वो दर्द उसके अंदर था वो आज फिर से ताजा हो गया और वो ना चाहते हुए भी निधि के बालो बड़े प्यार से सहला गया,बड़ी ही मुश्किल से उसने अपने आंसुओ को सम्हाल था,लेकिन निधि ने अपने बालो पर रखे हाथ से आने वाले प्यार के अहसास को समझ लिया और वो बड़े ही प्यार से महेंद्र को देखने लगी ,

“मामाजी ….हमे तो पता भी नही था की हमारे मामा भी है..आप कहा थे मामाजी..”निधि की बातें महेंद्र को फिर से चुभ गयी ,
“इतने दिनों तक आपको क्या हमारी याद नही आयी और जब माँ चली गयी तो क्या आपने हमसे रिश्ता ही खत्म कर दिया”
निधि की बातो से महेंद्र ही नही साथ खड़े सभी लोग हस्तप्रद थे क्योकि जवाब किसी के भी पास नही था,पर निधि ने जो किया वो महेंद्र के लिए सहन के बाहर था,वो जाकर सीधे महेंद्र के गले से लग गयी ….और रोने लगी …महेंद्र को अपनी बहन की छवि उसमे दिख रही थी पर उसके इस तरह उससे लिपटना उसके लिए बहुत ही भावुक हो गया वो अपने को रोक नही पाया और फुट फुट कर रोने लगा जैसे कोई जवालामुखी सा आज फुट गया हो ….उन्हें दूर से देख रहे कलवा,चम्पा और बजरंगी भी वहां आ चुके थे और इस नजारे को देख कर थोड़े भावुक हो गए थे…उसके साथ आया उसका बेटा भी बड़े ही आश्चर्य से उन्हें देखे जा रहा था,पर कुछ कह नही पा रहा था ,आज तक उसने अपने पिता को दुसरो को रुलाते ही देखा था पर ये लोग कौन थे जिसे देखकर उसके पिता यू रो रहे है…
महेंद्र ने निधि को गले से लगा कर अजय को भी अपने पास बुलाया और उसे अपने गले से लगा लिया विजय को ये बिल्कुल भी पसंद नही आ रहा था पर वो मजबूरी में वहां खड़ा था …
“मेरे बच्चों मुझे माफ कर देना मेरे बच्चों ,हमारे ही कारण मेरी बहन को इतना दुख उठाना पड़ा,वो हमसे अलग हो गयी वो इस दुनिया से चली गयी हमारे ही कारण …..”
विजय को और भी गुस्सा आया ,महेंद्र अजय और निधि से अलग हुआ और दोनो के माथे पर अपना हाथ फिराया और अजय की तरफ देख कर बोला,
“मुझे पता है की तुम शायद यही सोचते होंगे की हमने ही तुम्हारे माता पिता का एक्सीडेंट करवाया है पर मेरा यकीन मानो हम आज भी अपने बहन से उतना ही प्यार करते है जितना पहले करते थे ,आज भी हमारी प्रोपर्टी का एक हिस्सा उसके नाम पर है ,लेकिन भाई (वीरेंद्र ) की मौत के बाद मैं और भइया (गजेंद्र ) तुम्हारे पापा और चाचा से बदला लेना चाहते थे जो भी हुआ पर हम अपनी बहन को चोट भी नही पहुचा सकते थे ……….”अचानक ही महेंद्र की आंखे लाल हो गयी ..
“जिसने भी मेरी बहन को मारा है मैं उसे कभी नही छोडूंगा,हम आज भी उसकी तलाश में है…”
ये वहां खड़े सभी लोगो के लिए बड़ा सा शॉक था क्योकि सभी को लगता था की तिवारियो ने ही वो एक्सीडेंट करवाया था..पर अजय को ये बात पता थी

“मुझे पता है मामाजी की आप लोग इतना नही गिर सकते की अपनी ही बहन को इस तरह से ………लेकिन जिसने भी ये किया है उसे मैं ढूंढ कर रहूंगा,पर अब ये दुश्मनी मुझसे बर्दाश्त नही होती हमे एक हो जाना चाहिए कितनो दिनों तक हम यू ही लड़ते रहेंगे और इस जहर से अपने परिवार के लोगो की खुशियो की बलि देंगे…प्लीज् मामाजी अब ये बंद होना चाहिए ..”महेंद्र ने अजय को ध्यान से देखा वही चमक जो वीर में थी वही सोच,….अब उसे अपने और अपने भाई के ऊपर ही गुस्सा आ रहा था ,पर शायद अब भी सब कुछ ठीक हो सकता था…उसने अजय के कन्धे पर अपना हाथ रखा…
“हाँ बेटा अब ये दुश्मनी खत्म होनी चाहिये पर भईया …मैं अपने तरफ से पूरी कोसिस करूँगा..और अभी भैया विदेश में है शायद कुछ ही दिनों में वो आने वाले है ,जब वो आय तो तुम सब एक बार हमारे घर जरूर आना ,पिताजी तुम्हे देखकर बहुत खुस होंगे…”
अब अजय ने उस लड़के की तरफ चहरा किया …

“बिल्कुल मामाजी ,और ये हमारा भाई है ,अब तुम अपनी बहन के साथ ही पढोगे क्या नाम है तुम्हारा “
“जी धनुष “
सभी के चहरो पर हसी और मुस्कान था यहां तक की विजय की आंखों में भी कुछ आंसू आ चुके थे हालांकि विजय ने उसे छुपा लिया था…
पर एक चहरा किसी को घूर रहा था…वो था बजरंगी ….
सुमन को देखने के बाद से ही उसे कुछ अपनापन सा महसूस हो रहा था ,कलवा ने इस बात को ताड़ लिया और इससे अच्छा समय क्या हो सकता था इस राज को खोलने के लिए ,उसने बजरंगी के कंधे पर हाथ रखा
“भैया जब ये अपने इतने पुराने दुश्मनी को रिस्तो के प्यार की खारित भुला सकते है तो हम क्यो नही ,”
बजरंगी ने कलवा का हाथ अपने कंधे से हटा लिया,
“ये दुश्मनी नही है कलवा तुमने जो किया उसे विश्वासघात कहते है”
महेंद्र को उनकी बातें समझ आ रही थी क्योकि उसने ही उन दोनो के बीच ये आग लगाई थी ,बच्चों के इस प्यार ने उसे पिघला दिया था वो अब इन भाइयो के बीच भी सुलह करना चाहता था ,वो आगे बढ़कर बजरंगी के कंधे पर हाथ रखता है …
“जिस तरह से आज तक सभी इसी गलत फहमी में थे की वीर का एक्सीडेन्ट हमने कराया है उसी तरह तुम भी एक गलतफहमी में जी रहे हो बजरंगी असल में ऐसा कुछ भी नही था जैसा तुम सोच रहे हो …..इनके बीच का रिश्ता बहुत ही पवित्र था पर शायद हम ही थे जो तुम्हे इस बात को मानने नही दिए हमारा भी इसमें एक स्वार्थ था जो तुम समझ सकते हो,पर यकीन मानो ये बस एक गलतफहमी ही थी जिसकी सजा तुम दिनों ने भुगती ही ……”महेंद्र के इतना कहने से बजरंगी थोड़ा समझ तो गया पर उसे इस बात से बिल्कुल भी फर्क नही पड़ रहा था की उसके और कलवा के संबंध कैसे है उसे तो हमेशा से ही सुशील और अपने बच्चों की तलाश थी जिसे उसने अनजाने में ही अपने से अलग कर दिया था…बजरंगी ने हा में सर हिला दिया पर वो ग्लानि का भाव जो उसे इतने दिनों तक खाये जा रहा था वो कैस कम होता ……उसकी दुविधा कलवा समझ चुका था..

“भैया ये आपकी सुमन है जिसे हम दोनो सालो से ढूंढ रहे है वो हमे अभी अभी ही मिली ,आपकी बेटी सुमन “
सुमन और बजरंगी दोनो के लिए ये शायद जिंदगी का सबसे हसीन छन था पर वो उसे कैसे इजहार करे ये उनके समझ से बाहर था….वो बस एक दूजे को देख रहे थे देख रहे थे और बस देख रहे थे…ना आंखों में आंसू ना होठो में कोई भी मुस्कुराहट बस एक अजीब सी खामोशी सी छाई हुई थी ….की अचानक बजररंगी सुमन के पास आकर उसे अपने सीने से लगा लेता है और वो धार टूट जाती है जो अब तक सम्हाल कर रखी गयी थी ….बस आंसू और मोहोब्बत…
प्यार हवाओ में था और बस प्यार था ….ना जाने कितना समय बीत गया जब चपरासी डरते हुए उनके पास आया …
“ठाकुर साहब ,तिवारी साहब वो …एडमिशन ..”
उसे देख सभी हंस पड़े और फिर से महेंद्र ने सुमन, निधि और धनुष को अपने साथ लेकर प्रिंसिपल की आफिस की तरफ चल पड़ा साथ ही अजय और विजय उसके पीछे चलने लगे ….