उसकी ब्रा को फाड़ डाला

antarvasna, desi chudai ki kahani

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम विजय है, में पटियाला में रहता हूँ, में 24 साल का हूँ। में आज आपको अपनी ज़िंदगी की सबसे प्यारी घटना बता रहा हूँ, जो कि आज से 3 साल पहले मेरे साथ घटी थी। ये बिल्कुल सच्ची घटना है। अब में आपको पहले अपने और अपनी पड़ोस की भाभी के बारे में बताना चाहूँगा। में 5 फुट 7 इंच लंबा हूँ जैसे पंजाबियों की हाईट होती है और 7 इंच लंबे लंड वाला हूँ। मेरे पड़ोस में एक भाभी है, जो कि इंग्लिश टीचर है, वो इतनी सेक्सी देखती है कि उनके बारे में सोचकर ही लंड अपनी ऊंचाई पर पहुँच जाता है। उनके बड़े-बड़े बूब्स देखकर ही दिल उन्हें मसलने को तड़प जाता है और सबसे बड़ी उनकी गांड देखकर तो में मर ही जाता था, जब में उनकी गांड को हिलते हुए देखता था, आप उन्हें सेक्स की देवी कह सकते है।

अब में आपको अपनी स्टोरी की तरफ ले चलता हूँ। वो इंग्लिश टीचर है, में इंग्लिश में काफ़ी कमजोर था तो उन्होंने मेरी माता जी से कहा कि मुझे उनके पास पढ़ने भेज दिया करे। वैसे वो सिर्फ़ लड़कियों की ही कोचिंग लिया करती थी। फिर जब मेरी माता जी ने मुझे यह बताया कि भाभी ने मुझे कोचिंग पढ़ने के लिए अपने आप कहा है, तो तब में बिल्कुल हैरान हो गया। फिर मैंने सोचा कि हो सकता है कि भाभी जी मुझे इंग्लिश पढ़ने में मदद ही करना चाहती हो, लेकिन में खुश था कि कम से कम में उनके साथ हर रोज बैठ तो सकूँगा। फिर में रोज उनके यहाँ कोचिंग पढ़ने के लिए जाने लगा। अब में पढ़ाई करते वक़्त कई बार उनके डीपकट सूट में से उनके बड़े-बड़े बूब्स को देखता था, लेकिन उन्हें पता नहीं चलने देता था। अब उनकी और मेरी काफ़ी पटने लगी थी। अब हम काफ़ी हंसी मज़ाक भी करते थे।

फिर एक दिन ऐसे ही मज़ाक-मज़ाक में उन्होंने पूछ लिया कि क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है? तो तब मैंने कहा कि हाँ बहुत सारी है। तब वो बोली कि ऐसे नहीं जो फ्रेंड से भी ज़्यादा हो। तो तब मैंने कहा कि में समझा नहीं। तब वो बोली कि मेरा मतलब जिसे तुम प्यार करते हो। तो तब मैंने कहा कि नहीं ऐसी कोई नहीं है। तब वो बोली कि नहीं ऐसा नहीं हो सकता, तेरे जैसे लड़कों को तो लड़कियाँ ढूढ़ती रहती है। तब मैंने कहा कि नहीं ऐसी कोई नहीं है, में सच बोल रहा हूँ। तब वो टेबल पर आगे झुककर बैठ गई और बोली कि कभी तुमने किसी को चाहा है? तो तब मैंने कहा कि मेरे चाहने से क्या होता है? तो तब वो बोली कि अगर तुम किसी को चाहते हो तो उसे बता देना चाहिए। तब मैंने कहा कि फिर क्या वो हाँ कर देगी? तो वो बोली कि अगर उसकी हाँ होगी तो कर देगी। फिर मैंने सोचा कि ये अच्छा मौका है और फिर मैंने भाभी का हाथ पकड़ा और उनसे कहा कि भाभी में आपसे बहुत प्यार करता हूँ।

तब वो डर गई और मुझे जाने को बोला। तब मैंने कहा कि में तो मज़ाक कर रहा था। फिर वो रिलेक्स हुई। फिर हम दोनों के बीच में इधर उधर की बातें हुई और फिर में घर आ गया। फिर मैंने रातभर भाभी के बारे में सोच-सोचकर बहुत बार मुठ मारी। फिर अगले दिन जब में उनके घर क्लास लेने पहुँचा तो उस दिन वो साड़ी पहने थी, वो स्लीवलेस ब्लाउज में बहुत सेक्सी लग रही थी, मेरा दिल कर रहा था कि उसके लिप्स को खा जाऊं। फिर वो मुझे देखकर मुस्कुराई और बोली कि आओ विजय बैठो। फिर मैंने पूछा कि आप कहीं जा रहे है क्या? तो तब वो बोली कि नहीं बस ऐसे ही दिल किया इसलिए साड़ी बाँध ली। तब मैंने कहा कि आप इस साड़ी में बहुत सुंदर लग रही है। फिर मैंने अपनी किताब निकाली। तो उन्होंने उसे पकड़कर बंद कर दिया और बोली कि हम आज बातें करते है, पढ़ाई कल करेंगे। तब मैंने कहा कि ठीक है। अब उसकी ऐसी अदाए देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया था, यह उसने महसूस कर लिया था।

फिर वो मुझे देखकर मुस्कुराई और बोली कि विजय क्या में तुम्हें सच में अच्छी लगती हूँ? तो तब मैंने कहा कि हाँ भाभी जी। तब वो बोली कि तुम मुझे डिम्पल बोलो, अब हम दोस्त है और ऐसा कहकर उन्होंने मेरे हाथ पर अपना एक हाथ रख दिया। फिर इतने में मुझे जोश आ गया और अब में उसके मुँह को पकड़कर उसके मोटे-मोटे लिप्स को अपने मुँह में लेकर ज़बरदस्ती चूसने लगा था। तब उन्होंने जबरदस्ती मुझसे छूटकर कहा कि दरवाजा खुला है, कोई देख लेगा। तब मैंने उठकर दरवाजा बंद किया और अब में फिर से उनको किस करने लगा था। अब हम पागलों की तरह एक दूसरे को किस कर रहे थे। अब मेरे हाथ उसकी मस्त गांड को दबा रहे थे। अब में इतने जोश में था कि उसके ब्लाउज के हुक भी तोड़ डाले थे। उन्होंने नीचे ब्लेक कलर की पारदर्शी ब्रा पहनी हुई थी, जिसमें से उसके बड़े-बड़े बूब्स लगभग बाहर ही दिख रहे थे।

फिर मैंने थोड़ा ज़ोर लगाकर उसकी ब्रा को भी फाड़ डाला। अब वो भी मदहोश थी और मेरी छाती पर और मेरी पेंट के ऊपर से ही मेरे लंड को मसल रही थी। फिर मैंने उसकी साड़ी उतारकर फेंक दी और उसके पेटीकोट को भी उतार दिया था। फिर उसने मेरी पेंट और शर्ट भी उतार दी। अब वो सिर्फ़ पेंटी में थी, जिसमें से उसकी झाटों के बाल भी बाहर आ रहे थे और में अंडरवेयर में था, जो कि एक तंबू सा लग रहा था। तब वो मुझे लेकर अपने बेडरूम में चली गई और फिर वहाँ पर उसने मेरा अंडरवेयर भी उतार दिया था। फिर जब उसने मेरे लंड को देखा तो उसकी आँखों में एक अजीब सी चमक आ गई थी। अब वो तो उसे पागलों की तरह चाटने लगी थी। अब वो उसे लॉलीपोप की तरह अपने मुँह से चूस रही थी, पहली बार किसी ने मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर सक किया था। अब में तो जैसे स्वर्ग में था। अब में उसके सिर को पकड़कर ज़ोर-ज़ोर से हिलाने लगा था। फिर लगभग 10 मिनट के बाद मैंने उसकी चूत में अपनी एक उंगली डाली। अब वो बहुत ही गर्म थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब मेरे ऐसा करते ही उसके मुँह से सिसकी निकल गई थी आहह तेज करो जान, बहुत मज़ा आ रहा है। फिर में अपनी दो उंगलियाँ तेज़ी से अंदर बाहर करने लगा। अब वो आहह, ह्म्‍म्म्मममममममम, आहह, एसस्स्स्स्सस्स्स्स्सस्स्स्सस्स, ऊऊहह जैसी आवाज़ें अपने मुँह से निकालने लगी थी। अब उसकी आँखें बंद हो गई थी। अब हम लोग 69 की पोज़िशन में आ गये थे। फिर मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू किया। वो तड़प उठी नहीं विजय नहीं, प्लीज, आह, आआ, उउम्म्म्म, में मर जाऊंगी और अब वो मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी थी, उसकी चूत में से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी। फिर मैंने उससे कहा कि अपनी झांटे साफ कर लेना, मुझे तुम्हारी चूत बिलकुल साफ देखनी है। तो तब वो बोली कि जब दिल करे तुम अपने हाथों से इसे साफ कर देना, अब तो ये तुम्हारी ही है और मुस्कुराने लगी थी। फिर मैंने उसकी गांड में भी अपनी एक उंगली डाल दी। तो वो दर्द से चीख पड़ी और बोली कि ऐसा मत करो, प्लीज दर्द होता है। तब मैंने हंसकर कहा कि ये भी तो अब मेरे ही हुई ना। तब वो बोली कि अब तो सब कुछ तुम्हारा है और फिर हम लोग लगभग 15 मिनट तक एक दूसरे को इसी तरह छेड़ते रहे।

अब इतने में उसकी चूत एक बार अपना पानी भी छोड़ चुकी थी। फिर मैंने उसे सीधा करके लेटाया और उसके लिप्स और बूब्स को किस करने लगा था। अब उसके बूब्स लाल हो गये थे। तब वो बोली कि विजय प्लीज अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है, प्लीज कुछ करो, में मर जाऊंगी। फिर मैंने उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगाया। अब उसकी चूत एकदम ऊपर उठ गई थी। फिर मैंने प्यार से उस पर अपना एक हाथ फैरा। तो वो आआआआ, आहहहहहह करने लगी, चोदो मुझे, जल्दी, प्लीज चोदो, आआआ, आहहहह। अब में भी पूरा गर्म हो चुका था। अब मेरे बदन का रोया-रोया खड़ा हो गया था। फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत पर रखा और फिर उसने अपनी दोनों टाँगो को फैला लिया, उसकी चूत काफ़ी टाईट लग रही थी।

फिर मैंने एक ज़ोर का झटका लगया तो तब उसके मुँह से चीख निकल गई आहह में मर गई, धीरे कर हरामी, फ्री का माल समझकर टूट पड़ा साले। फिर मैंने उसके बूब्स को मसलना शुरू कर दिया और उसके लिप्स को अपने मुँह में ले लिया था। फिर थोड़ी देर के बाद में वो शांत हो गई। फिर मैंने एक और झटका मारा तो मेरा लंड आधे से ज्यादा लंड उसकी चूत में जा चुका था। अब वो दर्द से मचल उठी थी आआस्सहहस छोड़ दो, बाहर निकालो इसे, आआआआआआहह, आहहह। अब में जोश में था और अब मैंने झटके देने शुरू कर दिए थे। अब अंदर बाहर जाने से उसे थोड़ी राहत मिलनी शुरू हो गई थी और अब वो भी मज़ा लेने लगी थी आह, आहहह, आहहहह, सस्स्स्स्सस्सस्स, धीरे करो जान, आआआआ, सस्स्स्स्सस्स्स्सस्स, अयाया, मार डालो मुझे, आआआआआहह, आहहह और फिर मैंने एक जोरदार झटका मारा तो अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में फिट हो गया था। अब में उसे तेजी से चोद रहा था। अब वो भो नीचे से अपनी गांड उछाल-उछालकर मेरा साथ दे रही थी।

तभी उसकी स्पीड तेज हो गई और अब वो झड़ गई थी। अब में अभी भी उसे चोदे जा रहा था। अब वो फिर से गर्म हो गई थी और मेरा साथ देने लगी थी। फिर 10 मिनट के बाद वो फिर से झड़ गई। अब में भी मस्ती में आ चुका था। फिर मैंने अपनी स्पीड और तेज कर दी और अब वो भी आआआ, सस्स्स्स्स, आआआ, जानू आई लव यू, आआआआ, सस्शहहह करने लगी थी और बोली कि करते रहो मेरे जानू, करते रहो और फिर उसने अपने दोनों पैरो से मेरी कमर को पूरी तरह से जकड़ लिया और एक ज़ोर के झटके के साथ में वो फिर से झड़ गई थी और मेरे होंठो पर अपने होंठो को रखकर किस करने लगी थी। अब मेरा लंड भी आखरी स्टेज पर आ चुका था और फिर में और ज़ोर-ज़ोर से उसकी चूत में अपना लंड अंदर बाहर करने लगा और ज़ोर-ज़ोर से झटके मारने लगा था और अब में भी झड़ने लगा था। फिर में उसकी चूत में ही झड़ गया। अब उसकी चूत मेरे वीर्य से भर गई थी। फिर में 2 मिनट तक तो ऐसे ही उसके ऊपर लेटा रहा और फिर उसके बगल में आकर लेट गया था। अब वो मेरे कंधे पर अपना सिर रखकर लेट गई थी, उसका नंगा मुलायम शरीर सच में बहुत खूबसूरत लग रहा था। फिर मैंने रात में ही एक बार फिर से उसकी चुदाई की और अब जब भी मुझे कोई मौका मिलता है तो तब हम लोग सेक्स को पूरा इन्जॉय करते है ।।

धन्यवाद …