तलाक के बाद रोहन ने मुझे घोड़ी बनाकर चोदा

sex stories in hindi

मेरा नाम संजना है मैं एक शादीशुदा महिला हूं, मेरी शादी को 3 वर्ष हो चुके हैं। इन 3 वर्षों में मेरे पति अविनाश बहुत ही बदल चुके हैं और मैं उनके साथ बिल्कुल भी खुश नहीं हूं। वह मुझसे बिल्कुल भी बात नहीं करते हैं और अब मेरा भी उनसे बात करने का मनन नही होता है। उनका यह परिवर्तन पता नहीं किस वजह से हुआ है लेकिन मैंने उनसे जब इस बारे में बात की तो वह कहने लगे कि हम दोनों को कुछ समय और देना चाहिए यदि मैं नहीं बदला तो हम दोनों अलग हो जाएंगे। मैंने उन्हें कहा कि ठीक है, हम दोनों कुछ समय साथ में रहते हैं यदि मुझे तुम में कुछ बदलाव नहीं दिखा तो मैं तुमसे उसके बाद आलग हो जाऊंगी। वह कुछ दिनों तक तो घर समय पर आते थे और मुझे भी वक्त दे रहे थे लेकिन धीरे-धीरे उनकी वही आदत शुरू हो गई, वह ऑफिस से देर में आने लगे थे, वह जब भी घर आते तो शराब पीकर आते थ, आते ही वह सो जाते थे।

मैंने उनसे कहा कि अब मैं इस रिलेशन को आगे बिल्कुल नहीं चला पाऊंगी, उसके बाद मैं अपने घर चली गई। जब मैं अपने घर गई तो अविनाश ने मुझे कई बार फोन किए लेकिन मैंने उन्हें साफ कह दिया कि अब मैं इस रिलेशन को आगे नहीं चला पाऊंगी इसलिए हम दोनों अलग ही रहे तो ज्यादा उचित होगा। मैंने यह बात अविनाश को साफ-साफ बता दी, वह मुझे कहने लगे कि ठीक है तुम यदि मुझसे अलग रहना चाहती हो तो तुम अलग रह सकती हो। अविनाश और मेरी उसके बाद बिल्कुल भी बात नहीं हो थी, मैं अपने घर पर ही थी। मैंने अपने माता पिता को भी अपने रिलेशन के बारे में जानकारी दे दी थी और कहा कि हम दोनों अब अलग रहने वाले हैं। मैंने यह बात अपने माता पिता को काफी समय बाद बताइ, वह मुझे समझाने लगे और कहने लगे कि तुम्हें अविनाश के साथ बात करनी चाहिए क्योंकि अब ऐसी स्थिति में तुमसे कोई भी शादी नहीं करेगा यदि अविनाश और तुम्हारा डिवोर्स हो गया तो तुम्हें कोई भी नहीं अपनाएगा। मैंने अपने माता पिता से कहा कि मैं खुद ही अपने आप को संभाल लूंगी, मुझे किसी की भी आवश्यकता नहीं है। आप लोगों ने ही मेरी शादी करवाई थी, अविनाश का बिल्कुल भी मेरे प्रति अच्छा व्यवहार नहीं है और वह पूरी तरीके से बदल चुके हैं।

Loading...

इसी वजह से मैं अब उनके साथ बिल्कुल भी नहीं रहना चाहती। मैंने एक कंपनी में जॉब के लिए अप्लाई कर दिया, मैंने जिस कंपनी में जॉब के लिए अप्लाई किया उन्होंने मुझे कहा कि आप कुछ दिन बाद पता कर लीजिए यदि आपका सिलेक्शन हो जाएगा तो आप कुछ दिनों में ही ज्वाइन कर लेना। मैंने कुछ दिनों बाद फोन किया तो मुझे वहां पर उन्होंने नौकरी पर रख दिया। उसके बाद मैं नौकरी करने लगी, सुबह मैं अपने ऑफिस जाती और शाम को घर लौट आती। मुझे मेरे पैरों पर खड़ा होना था इसलिए मैंने एक घर ले लिया,  वहां मैं अकेले ही रहती थी। मेरे माता-पिता मुझे कहने लगे कि तुम अलग क्यों रह रही हो, तुम हमारे साथ भी तो रह सकती हो, मैंने कहा कि मैं अपने हिसाब से रहना चाहती हूं। उसी बीच में अविनाश ने भी मुझे डिवॉर्स के लिए नोटिस भेज दिया, मैंने भी अपना एक वकील कर लिया। अब हम दोनों के डिवॉर्स के पेपर साइन हो चुके थे। उसके बाद मैं अविनाश के साथ एक दिन काफी देर तक बैठी रही, वह मेरे घर पर आया हुआ था। वह मुझे कहने लगा कि तुम बहुत ही अच्छी हो लेकिन मैं तुम्हें समझ नहीं पाया परंतु अब तुम ने फैसला कर लिया है तो हम दोनों अलग ही हो जाते हैं, मैंने अविनाश से कहा कि तुमने मुझे बिल्कुल भी वक्त नहीं दिया इसलिए मुझे यह फैसला लेना पड़ा यदि तुम समय पर समझ जाते तो शायद मैं यह फैसला कभी भी नहीं लेती, मैं बिल्कुल भी इस प्रकार का फैसला लेना नहीं चाहती थी परंतु मुझे अलग रहने के लिए तुमने ही मजबूर किया है और इस वजह से ही मुझे तुम्हारे और अपने रिलेशन को खत्म करना पड़ा, नहीं तो मैं तुमसे कभी भी अलग नहीं होना चाहती थी। अविनाश ने मुझे गले लगाया और कहा कि तुम्हें कभी भी मेरी कोई जरूरत पड़े तो तुम मुझे बेझिझक फोन कर लेना, यह कहते हुए वह मेरे घर से चला गया।

मुझे उस दिन थोड़ा बुरा लगा क्योंकि मैंने 3 वर्ष अविनाश के साथ बिताए थे, उन 3 वर्षों की यादें जो भी मेरे सामने आती तो मुझे बहुत बुरा लगता लेकिन मुझे अब अपने आगे की लड़ाई खुद ही लड़नी थी इसलिए मैं अपने काम पर लग गयी। मैं सुबह काम पर निकल जाती थी और शाम को ही मैं घर लौटती, यही सिलसिला काफी दिनों तक चलता रहा, मेरे जीवन में कुछ भी नया घटित नहीं हो रहा था। उसी दौरान मेरे जीवन में एक लड़का आया, उसका नाम रोहन है। वह उम्र में तो मुझसे छोटा है परंतु रोहन और मेरी मुलाकात भी एक इत्तेफाक से ही हुई। मैंने कुछ ऑनलाइन सामान मंगवाया था, उसमे गलती से रोहन का सामान मेरे पास आ गया, जब मैंने उस सामान पर फोन नंबर देखा तो मैंने उस नम्बर पर फोन कर दिया था कि तुम्हारा सामान मेरे पास आ गया है। जब वह अपना सामान लेने आया तो उस दिन मेरी उससे बात हुई और हम दोनों की बहुत ही अच्छी बातचीत हो गई। मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि फोन के जरिये मेरी रोहन से इतनी अच्छी बातचीत हो जाएगी और हम दोनों एक साथ ही इतना समय बिताने लगेंगे। रोहन भी मुझसे अपनी हर एक बात शेयर करता है और जब भी मुझे अविनाश की याद आती तो मैं रोहन को फोन कर लेती हूं और उसके साथ ही मैं बात करती हूं।

मैंने उसे अपने डिवॉर्स के बारे में सब कुछ बता दिया था लेकिन मुझे कई बार डर भी लगता था कि यदि हम दोनों का रिलेशन दोस्ती से ऊपर बढ़ गया तो कहीं अविनाश मेरे बारे में गलत ना समझे क्योंकि मेरे डिवॉर्स को कुछ ही समय हुआ था और उसके कुछ समय बाद ही रोहन और मेरी मुलाकात हो गई थी, इसी वजह से मैंने रोहन से यह बात कही तो वह कहने लगा कि मेरे दिल में आपके लिए बहुत ही इज्जत है क्योंकि आप जिस प्रकार से अपने जीवन में संघर्ष कर रहे हैं यह मेरे लिए प्रेरणा है क्योंकि आपके जैसे बहुत कम लोग होते हैं जो इतना सब अपने जीवन में घटित होने के बाद भी अपने जीवन में बहुत ही अच्छे से संघर्ष करते है। उसके बाद आप अपने पैरों पर खुद ही खड़ी हैं और अपने जीवन के फैसले और खुद ही लेती है इसलिए मैं आपकी बहुत इज्जत करता हूं। मुझे बहुत ही अच्छा लगता है जब मैं आपके साथ समय बिताता हूं। मैंने भी रोहन से कहा कि मुझे भी तुम्हारे साथ समय बिताना अच्छा लगता है परंतु मुझे कई बार ऐसा लगता है कि यदि यह बात अविनाश को पता चलेगी तो अविनाश मेरे बारे में गलत सोचेगा इसीलिए मैं तुम से इस बारे में बात करना चाहती थी। रोहन कहने ऐसी कोई बात नही है, मैं आपकी हमेशा ही इज्जत करता हूं, जैसा आपको उचित लगता है, आप वैसा निर्णय ले सकते हैं। रोहन और मैं अब आपस में बात करते थे और रोहन का भी मेरे घर पर आना जाना लगा रहता है। रोहन मुझे कहने लगा मुझे आपसे मिलना है क्या मैं आपके घर पर आ सकता हूं। मैंने उसे कहा हां तुम मेरे घर पर आ जाओ। जब वह मेरे घर पर आया तो हम दोनों ही साथ में बैठे हुए थे आपस में बात कर रहे थे। मुझे रोहन के साथ बात करना अच्छा लगता है रोहन मेरे चूचो को बड़े ध्यान से देख रहा था। वह कहने लगा आज आप बहुत ही सुंदर लग रही हो मैं शर्माने लगी उसने अपने हाथों को मेरे बालों पर फेरना शुरू कर दिया। मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब वह अपने हाथों को मेरे बालों पर फेरने लगा। उसने धीरे धीरे मुझे अपनी बाहों में समा लिया और मुझे अपनी बाहों में कस कर जकड़ लिया। मेरे स्तन उसकी छाती से टकरा रहे थे हम दोनों के शरीर से गर्मी निकलने लगी।

उसने मुझे लेटा दिया और जब उसने मेरे कपड़े खोले तो मुझसे भी नहीं रहा गया और मैंने भी उसके लंड को अपने मुंह के अंदर लेना शुरू कर दिया। मैं रोहन के लंड को अपने मुंह के अंदर तक ले रही थी और मुझे बड़ा अच्छा महसूस होने लगा। वह अपने लंड को मेरे मुंह के अंदर तक डाल रहा था काफी देर उसने ऐसा किया उसके बाद उसने जब मुझे घोड़ी बनाया तो जैसे ही उसने अपने लंड को मेरी योनि के अंदर डाला तो मुझे बहुत दर्द हुआ लेकिन मुझे बड़ा मजा आने लगा। वह मुझे झटके दे रहा तो मेरी योनि से ज्यादा ही पानी बाहर की तरफ आने लगा और मुझे लगने लगा रोहन बड़े अच्छे से मुझे चोद रहा है। वह मुझे बड़ी तेज गति से धक्के देने पर लगा हुआ था मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था उसने काफी देर तक मुझे ऐसे ही चोदा। जिससे कि मेरा शरीर दर्द होने लगा और मेरी चूतड पूरी लाल हो गई। उसने 15 मिनट तक ऐसे ही मुझे शॉट मारे जब उसका वीर्य पतन हुआ तो उसने अपने लंड को मेरी योनि से निकाल लिया। मैंने अपनी योनि को साफ किया और हम दोनों ही 69 पोज में बन गए। वह मेरी योनि को चाट रहा था मैं उसके लंड को अपने मुंह के अंदर तक लेने लगी। काफी देर हम दोनों ने ऐसा ही किया और जैसे ही उसका माल मेरे मुंह में गया तो उसको मैने अपने मुह मे ले लिया उसके बाद हम दोनों ऐसे ही काफी देर तक लेटे रहे। वह मुझे कहने लगा कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा है जिस प्रकार से मैंने आपकी योनि का रसपान किया। मैंने भी उससे कहा कि मुझे भी बहुत अच्छा लगा मैंने तुम्हारे माल को अपने मुह के अंदर ही ले लिया। मैं बहुत ही खुश हो गई थी जब मुझे रोहन ने मुझे चोदा और जिस प्रकार से उसने मेरी इच्छा को पूरा किया मुझे बहुत खुशी हुई। मेरी जब भी इच्छा होती है तो मैं रोहन को मिलने के लिए बुला लेती हूं और वह मुझसे मिलने आ जाया करता है और मेरी चूत मारता है।

error: