सेक्सी नर्स की सील तोड़कर चूत फाड़ी

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रोहित है और में पंजाब का रहने वाला हूँ. में आज आप सभी के साथ अपना एक सच्चा सेक्स अनुभव बाँटना चाहता हूँ जो आज से करीब एक साल पहले का है, मुझे शुरू से ही चेटिंग करने का बहुत शौक था और वो रविवार का दिन था और में उस समय भी चेट कर रहा था. तभी एक लड़की जिसका मैल आईडी रानी के नाम पर था मुझसे ग़लती से रानी की जगह ही रीना लिखने में आ गया और फिर में एकदम आशचर्यचकित हो गया क्योंकि मुझे उसी मैल आई डी से मैल आया और उसने मुझसे पूछा कि तुम्हे कैसे याद कि मेरा नाम रीना है?

तब मैंने उससे कहा कि मुझसे तो बस ग़लती से लिखने में आ गया, लेकिन वो तब भी नहीं मानी और फिर कुछ देर के बाद मैंने उसका मोबाईल नंबर माँगा, लेकिन वो मुझे अपना मोबाईल नंबर भी नहीं दे रही थी, लेकिन फिर मैंने उसको अपनी बातों में फंसाया तब जाकर मेरे कहने पर उसने मेरे फोन नंबर पर एक मिस्ड कॉल किया, लेकिन फिर मैंने देखा तो वो किसी ऑफिस का फोन नंबर है और उसको देखकर मेरा मन थोड़ा उदास हो गया. फिर उसने मुझे बताया कि वो रहने वाली तो वैसे चंडीगढ़ की है, लेकिन पेशे से एक नर्स है और वो हिमाचल के किसी हॉस्पिटल में काम करती है, उसके बाद हमारी तीन महीने तक बात होती रही.

फिर मैंने कई बार उससे सेक्स के बारे में भी बहुत बार बातें करना चाहा, लेकिन वो हमेशा मुझसे ना कर देती तो मैंने अब उससे बातें करना बंद कर दिया और उसके बाद एक दिन उसका मेरे पास कॉल आया और तब उसने मुझसे कहा कि वो इस रविवार को चंडीगढ़ आ रही है. अब में उसके मुहं से यह बात सुनकर एकदम खुश हो गया.

loading...

उसके बाद हमने तय किया कि हम दोनों एक फिल्म देखने जाएगें और उसने भी हाँ कर दिया और उसके बाद हम दोनों मिलने के बाद पास ही के एक थियेटर में फिल्म देखने चले गये. वहां पर धूम-2 फिल्म लगी हुई थी और उस फिल्म को लगे हुए बहुत दिन हो चुके थे इसलिए वहां पर लोग कुछ कम ही थे. फिर कुछ देर बाद फिल्म शुरू हो गई, लेकिन मेरे अंदर तो दूसरी आग लगी हुई थी. अब मैंने कुछ देर बाद सही मौका देखकर उससे कहा कि तुम मुझे एक किस करो, तब उसने मुझसे ऐसा करने के लिए साफ मना कर दिया और वो मुझसे कहने लगी याद रहे यह हमारी पहली और आखरी मीटिंग है और वो उस समय टी-शर्ट में थी.

अब मैंने उसके चेहरे को जबरदस्ती अपनी तरफ किया और में उसको किस करने लगा और मैंने हाथ को उसकी छाती की तरफ सरका दिए और उसके बाद वही हुआ जिसकी मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी और में बहुत चकित था, क्योंकि अब उसने मुझसे कुछ भी नहीं कहा. फिर मैंने उसकी चूत पर अपनी उंगली रखी और में धीरे धीरे अंदर की तरफ दबाने लगा और वो सिसकियाँ लेने लगी, जिसकी वजह से मेरी हिम्मत पहले से ज्यादा बढ़ गई और फिर मैंने धीरे से उसकी पेंट की चेन को खोल दिया और फिर उसकी पेंटी में से अपने हाथ को डालकर मैंने उसके छेद में डाल दिया. में अपनी ऊँगली करने लगा और तब भी उसने मुझसे कुछ ना कहा और मैंने वो काम करते हुए मेरी पेंट की चेन को भी खोल दिया और अब वो मेरा लंड बाहर निकालने लगी, लेकिन उससे ठीक तरह से यह काम नहीं हो पा रहा था, इसलिए मैंने खुद ही अपने लंड को बाहर निकाल दिया और फिर में उसकी चूत में अपनी उंगली को अंदर बाहर करने लगा और वो ज़ोर ज़ोर से मेरी मुठ मारने लगी.

अब हम दोनों जोश में आकर बिल्कुल पागल हुए जा रहे थे, लेकिन अफ़सोस हम दोनों उस समय उस जगह पर इससे ज्यादा और कुछ भी नहीं कर सकते थे, इसलिए उस पूरी फिल्म में हमारे बीच बस यही सब चलता रहा और वो मेरे साथ कुछ घंटे बिताकर अपने घर चली गयी, लेकिन ना उसकी आग बुझी ना मेरी, जिसकी वजह से हम दोनों अब पहले से ज्यादा पागल हो चुके थे.

फिर मार्च का महिना शुरू हुआ और मैंने कुछ दिनों तक उससे लगातार बातें करने के बाद अब उससे मिलने के लिए कहा और तब उसने मुझसे कहा कि वो अब दोबारा चंडीगढ़ नहीं आ सकती है और तभी मैंने उससे कहा कि रीना चलो फिर हम दोनों इस शनिवार की रात को शिमला चलते है. फिर वो तुरंत मान गयी और में यहाँ से उससे बात करके बस में बैठ गया, वो मुझे रास्ते में मिल गयी और फिर रास्ते में हमारी किसी बात पर लड़ाई हो गयी.

फिर हमने शिमला पहुंचकर एक होटल में रूम ले लिया और वो अपने साथ में एक बेग भी लेकर आई थी जिससे देखने वालों को लगे कि हम एक दूसरे से परिचित है इसलिए हमें कहीं भी कोई भी ज्यादा समस्या नहीं हुई और वहां पर पहुंचकर 11 बजे तक हम दोनों ने खाना खा लिया और उसके बाद लाइट को बंद किया. में तब उससे नाराज़ था इसलिए वो मुझे मनाने लगी थी और उसने तब मुझे पहले अपनी बाहों में भरा और उसके बाद मुझे किस किया.

अब मैंने तुरंत उसको एकदम सीधा लेटा दिया और में उसके बूब्स को दबाने लगा और बूब्स को दबाने मसलने के साथ साथ में उसको किस भी कर रहा था. वो मुझे अब ज़ोर से अपने ऊपर खींच रही थी और मैंने उसको पीठ के बल लेटा दिया और उसकी टी-शर्ट को खोल दिया और अब में उसकी गोरी गरम पीठ पर किस करने लगा. वो अब इतनी गरम हो चुकी थी कि जोश में आकर ज़ोर ज़ोर से सिसकियाँ भरने लगी थी. मैंने अब सही मौका देखकर उसकी शर्ट को उतार दिया और में उसके बूब्स जो अब भी ब्रा में केद थे में उनको धीरे धीरे दाबने लगा.

अब उसने जल्दी से मेरी शर्ट को उतार दिया और हम दोनों उस समय एकदम पागल हो गए थे. मैंने उसकी ब्रा को उतारी और में उसके निप्पल को अपने मुहं में लेकर चूसने लगा. वो उस वजह से पागल हो उठी और मैंने करीब 15 मिनट तक उसके बूब्स बहुत जमकर चूसे और वो अब जोश में आकर सिसकियाँ लेने के साथ साथ चीखने लगी उसी समय मैंने उसकी पेंट उतारी और फिर उसकी गोरी भरी हुई जांघ पर में किस करने लगा और अब उसकी पेंटी की बारी थी और जैसे ही मैंने उसको उतारा उसने मुझसे कहा कि रोहित प्लीज मेरी चूत को तुम हाथ मत लगाना, लेकिन में अब कहाँ मानने वाला था.

मैंने उसकी पेंटी को उतारकर चूत को कुछ देर सहलाने के बाद अब अपनी जीभ को उसकी चूत पर रख दिया, जिसकी वजह से वो जोश में आकर अपने कूल्हों को उठाकर चीखने लगी. फिर मैंने उससे कहा कि रीना तुम अब चीखो मत वरना सारे होटल को पता चल जाएगा. अब उसने अपने मुँह पर अपना एक हाथ रख लिया और में उसकी चूत को धीरे धीरे लेकिन लगातार चाटता रहा और वो सिसकियाँ लेती रही. अब उसकी बारी थी और उसी समय उसने मेरा लंड बाहर निकाला और वो उसको अपने मुहं में लेकर चूसने लगी. वो बहुत जोश में थी और किसी भूखी बिल्ली की तरह वो मेरे लंड को अपनी जीभ से कभी चाटती तो कभी उसको चूसने लगती.

वो किसी अनुभवी रंडी की तरह यह सब कर रही थी और जब तक मेरा पूरा वीर्य उसके मुँह में आ गया तब तक वो पूरे जोश में चूसती रही. अब मैंने अपने लंड को उसके मुँह में दोबारा डाल दिया क्योंकि मुझे लंड को चुसवाना बहुत अच्छा लगता है और इस बार वो मुझसे मना करने लगी, लेकिन मैंने ज़बरदस्ती उसके मुँह में अपने लंड को डाल दिया और अब में उल्टा होकर उसकी चूत को चाटने लगा, वो भी अब धीरे धीरे गरम हो गयी और वो मेरा लंड दोबारा उसी जोश में आकर चूसने लगी. हम दोनों ने यह काम करीब बीस मिनट लगातार किया.

फिर मैंने उसके बाद उसकी गीली कामुक चूत में अपना लंड डाल दिया. वो दर्द से चिल्लाकर बोली आईईईई स्सीईईईष्स्स्स्स् रोहित प्लीज धीरे लेकिन और अंदर तक डालो. तभी मैंने जोश में आकर एक ही ज़ोर के झटके के साथ अपना पूरा लंड उसकी चूत के अंदर डाल दिया और मैंने धक्के देकर उसकी चुदाई शुरू कर दी और वो ज़ोर ज़ोर से मुझसे चुदवाने लगी और में खुश होकर उसकी चूत में अपने लंड को धक्के देता रहा.

फिर कुछ देर बाद वो अब मेरे ऊपर बैठकर अपनी चूत में लंड को डालकर मुझे चोदने लगी. दोस्तों में आप सभी को बताना तो भूल ही गया कि उसके बूब्स बहुत सेक्सी है उनका आकार 36-32-34 है और करीब तीस मिनट के बाद मेरा लंड अब झड़ा गया और उसके बाद मैंने उससे कहा कि रीना मुझे अब तुम्हारी पीछे से करनी है, तो वो बोली कि नहीं रोहित, मुझे वहां पर बहुत दर्द होगा, मैंने इससे पहले कभी ऐसा नहीं किया, तब मैंने उससे कहा कि प्लीज एक बार में धीरे धीरे करूंगा अगर तुम्हे दर्द हो तो तुम मुझे बता देना में हट जाऊंगा और फिर मैंने उसको उल्टा कर लिया, तब भी वो ना कर रही थी, वो अब मुझसे बोली कि रोहित तुम अगर चाहो तो मेरी चूत में दोबारा धक्के मार लो, लेकिन प्लीज पीछे से मत करो, लेकिन मैंने उसकी कोई भी बात पर ध्यान नहीं दिया और मैंने उसके बेग से तेल निकाला और एक गिलास में डालकर उसमे अपना लंड डालकर उसको पूरा तेल में भिगोया और बाकी का तेल मैंने उसकी गांड पर गिरा दिया वो अब भी मुझसे मना करती रही और मैंने तुरंत उसकी गांड में अपना लंड रख दिया, लेकिन वो अब बहुत ज्यादा हिल रही थी और फिर भी मैंने उसको धक्का दे दिया तो मेरा थोड़ा सा लंड उसकी गांड के अंदर चला गया और वो उस दर्द की वजह से छटपटाने लगी और वो ज़ोर से चीख मारना चाहती थी, लेकिन मैंने उसके मुँह पर अपना एक हाथ रख दिया.

अब कुछ सेकिंड रुकने के बाद दोबारा धकका मार दिया तो मेरा थोड़ा सा लंड उसकी गांड के अंदर चला गया और फिर वो मेरे तीसरे धक्के में पूरा का पूरा अंदर चला गया. अब मैंने उसके बूब्स को सहलाना शुरू किया और जब उसको दर्द कम महसूस हुआ तो मैंने अपनी तरफ से धक्के देकर उसकी चुदाई शुरू कर दी. अब मैंने देखकर महसूस किया कि वो भी अब अच्छी तरह से चुदवा रही थी और सिसकियाँ ले रही थी.

करीब तीस मिनट तक मैंने उसको चोदा और फिर में और वो हम दोनों ही साथ में झड़ गये और मैंने अपना लंड उसके मुहं में डाल दिया, वो मेरा सारा माल पी गयी. फिर करीब बीस मिनट तक हम वैसे ही रुके रहे और उसके बाद मैंने उसकी चूत में अपने लंड को दोबारा डालकर धक्के मारने शुरू किए और अब उसने भी अपनी गांड को ऊपर उठाकर मेरे हर धक्के का जवाब दिया, जिससे मुझे चुदाई करने में पहले से ज्यादा मज़ा आया और हम दोनों अपने काम में लगे रहे और हमें कैसे भी करके अपने जिस्म की आग को ठंडा करना था.

दोस्तों उस रात को हम दोनों ने पांच बार सेक्स किया. कभी गांड में तो कभी उसकी चूत में और कभी उसके मुँह में मैंने अपने लंड को डालकर बहुत मज़े लिए फिर सुबह में उसकी रात भर चुदाई की वजह से बहुत थक गया था और वो मेरे साथ नाश्ता करने के बाद वापस अपने घर चली गयी. दोस्तों में पूरे सफर में उस बस के अंदर सोता हुआ आया.

वो मेरा उसके साथ पहला और आखरी सेक्स था, क्योंकि उसके बाद कभी भी हम दोबारा नहीं मिले, लेकिन में उसकी वो मस्त मज़ेदार चुदाई उसके सात बिताई वो रात आज भी नहीं भुला सका आज तक भी मुझे वो सब कुछ बहुत अच्छी तरह से याद है क्योंकि मुझे इस बात की बहुत ख़ुशी थी. मैंने पहली बार उसकी कुंवारी चूत की चुदाई करके उसकी सील को तोड़ा था और उस चुदाई में उसने मेरा पूरा पूरा साथ दिया. हम दोनों ने बहुत मस्त मज़े लिए और उसके कुछ महीनों बाद मुझे पता चला कि उसकी अब शादी भी हो चुकी है.