प्यासी चूत की धमाकेदार चुदाई

pyasi choot हैल्लो दोस्तों, यह करीब 2 साल पहले की बात है। में 2 साल पहले तक वर्जिन था। फिर मैंने एक लड़की के साथ फ्रेंडशिप की। फिर कुछ दिनों तक तो सब कुछ ऐसे ही चलता रहा। फिर मैंने उसे नेट पर बात करने के लिए बोला। फिर वो नेट पर आई तो तब मैंने मेरी आई.डी से बात ना करके किसी दूसरी आई.डी से बात की और फिर उसने भी रिप्लाई देना शुरू किया। फिर मैंने उससे पूछा कि तुमने कभी सेक्स किया है क्या? तो तब उसने बोला कि नहीं किया, लेकिन मेरे बॉयफ्रेंड के साथ करने की इच्छा है। तो तब मैंने पूछा कि तुम्हारा बॉयफ्रेंड क्या बोलता है? तो तब उसने बोला कि में उसे बोल नहीं पा रही हूँ, लेकिन अब जब वो मिलेगा तो उसके साथ जरूर करूँगी। फिर हम लोग ऐसे ही बात करते रहे। फिर अगले दिन मैंने उससे मिलने के लिए बोला। तो तब उसने बोला कि ठीक है, लेकिन मेरे घर पर मिलते है। तो तब मैंने बोला कि ठीक है। उस दिन उसके घर पर कोई नहीं था।
फिर में उसके घर पर चला गया और अंदर जाकर सोफे पर बैठ गया था। फिर वो मेरे लिए चाय बनाकर ले आई और फिर हम दोनों टी.वी देखने लगे। फिर वो बोली कि इतना दूर क्यों बैठे हो? थोड़ा पास बैठो ना। फिर में उसके पास जाकर बैठ गया तो तब उसने मेरा एक हाथ अपने बूब्स पर रख दिया और बोली कि ये देखो मेरे दिल की धड़कन कितनी चल रही है? अब में समझ गया था कि वो क्या चाहती है? फिर में उसके बूब्स पर अपने हाथ को रब करने लगा। अब जैसे-जैसे में उसके बूब्स को रब कर रहा था, उसकी आँखे बंद होती जा रही थी और उसका पूरा शरीर गर्म हो रहा था। फिर मैंने उसको सोफे पर लेटा दिया और उसके बूब्स को दबाने लगा था और वो मेरी कमर पर अपने नाख़ून मसल रही थी। फिर मैंने उसकी टी-शर्ट को उतार दिया।

फिर जैसे ही मैंने उसकी टी-शर्ट को उतारा तो उसके बूब्स बहुत ज़्यादा बड़े थे, जो कि उसकी ब्रा में भी नहीं समा पा रहे थे। फिर मैंने उसकी ब्रा खोल डाली और उसके बूब्स की निप्पल को अपने मुँह में लेकर ज़ोर-ज़ोर से चबाने लगा था, जिससे की उसके मुँह से ज़ोर-जोर से आवाज़े आ रही थी आहह, ओह, प्लीज ज़ोर से करो, बहुत अच्छा लग रहा है। फिर में उसके बूब्स को सक करता-करता अपना एक हाथ उसकी जांघो पर फैरने लगा और फिर अपने एक हाथ को उसकी पेंटी पर ले जाकर रोक दिया। तब मैंने महसूस किया कि उसकी चूत बहुत ज़्यादा गर्म हो चुकी थी। फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी पेंटी में से उसकी चूत में डाल दी, जिससे की वो कराह उठी और अजीब सी आवाज़े निकालने लगी थी आहह, सीईईईईईईईईईईई और ज़ोर से डालो ना, में तड़प रही हूँ। फिर मैंने उसकी पेंटी को निकाल डाला और उसकी चूत में से निकल रहे पानी को चाटने लगा था।

अब जैसे-जैसे में उसकी चूत को चाट रहा था। वैसे-वैसे ही उसकी गर्मी और ज़्यादा बढ़ती जा रही थी। फिर में उसकी चूत को 20 मिनट तक चाटता रहा और वो इस बीच में 3 बार झड़ चुकी थी। फिर मैंने उसे खड़ा किया और अपना 8 इंच का लंड उसके मुँह में डाल दिया था। अब वो ज़ोर-ज़ोर से उसे सक कर रही थी। फिर वो 15 मिनट तक मेरा लंड सक करती रही और फिर उसके बाद मैंने अपना लंड उसके मुँह से बाहर निकाल लिया और उसे नीचे फर्श पर लेटा दिया था। फिर हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ गये। फिर करीब 1 घंटे तक में उसकी रसभरी चूत को चाटता रहा और वो मेरे लंड को आइसक्रीम की तरह चूसती रही और फिर उसके बाद में झड़ गया। फिर 10 मिनट के बाद मैंने अपना लंड फिर से उसके मुँह में दे दिया और उसे चूसाता रहा तो थोड़ी देर के बाद मेरा लंड फिर से तैयार हो गया था। फिर मैंने उसे सीधा लेटाकर उसके दोनों पैरो को चौड़ा किया और उसकी चूत को चाटकर अपने लंड का सुपाड़ा उसकी चूत के मुँह पर रख दिया और उसे हल्का-हल्का रब करने लगा था।

अब जब में उसकी चूत पर अपना लंड रब कर रहा था, तो तब उसकी हालत बिल्कुल जमीन पर पड़ी हुई मछली की तरह हो गयी थी। अब वो बहुत ज़्यादा तड़प रही थी। फिर मैंने अपना सुपाड़ा उसकी चूत में अंदर किया और उसे वही पर रब करने लगा था। अब जैसे-जैसे उसकी चूत पर मेरा सुपाड़ा रब हो रहा था, वो चिल्ला रही थी में मर रही हूँ, मुझे ज़ोर-ज़ोर से अपना पूरा लंड घुसाकर चोदो, मेरी चूत को फाड़ डालो, प्लीज पूरा अंदर डाल दो, आआआअहह, ऊऊऊफफफफफ्फ, सीईईईईईईईईईईई, ज़ोर से, में तड़प रही हूँ। फिर मैंने अपना आधा लंड ज़ोर से झटका मारकर उसकी गीली चूत में अंदर कर दिया। फिर जैसे ही मेरा आधा लंड उसकी चूत में गया तो वो ज़ोर से चिल्ला पड़ी आआहह और ज़ोर से डालो ना, आज मेरी चूत को फाड़ डालो, में अपनी चूत फड़वाना चाहती हूँ, प्लीज ज़ोर से और ज़ोर से डालो। फिर मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसे अंदर बाहर ना करके उसकी चूत में ही गोल-गोल घुमाता रहा, जिससे कि मेरा सुपाड़ा उसके जी-पॉइंट को टच कर रहा था और वो मचल रही थी।

 

फिर 20 मिनट तक में यह सब ही करता रहा। फिर मैंने ज़ोर-जोर से धक्के लगाने शुरू किए। अब उसकी चूत में से खून निकलने लगा था, लेकिन उसे इसका कोई एहसास नहीं हो रहा था। अब वो सिर्फ़ अपनी गांड को ज़ोर-ज़ोर से नीचे से ऊपर किए जा रही थी। अब में उसकी गांड के नीचे अपना हाथ डालकर उन्हें ज़ोर-ज़ोर से प्रेस कर रहा था और उसके बूब्स की निपल को काट रहा था, जिससे की उसकी सेक्स इच्छा और बढ़ रही थी। फिर मैंने अपने लंड को बाहर निकाला और उसके मुँह में डाल दिया। तो वो फिर से मेरे लंड को चूसने लगी और फिर 15 के बाद मैंने फिर से मेरा पूरा लंड उसकी चूत में अंदर कर दिया। अबकी बार मैंने ज़्यादा ज़ोर से डाला था, तो उसकी आँखो में से आँसू आने लगे थे और वो ज़ोर-जोर से काँप रही थी। फिर उसने मेरी कमर पर नाखूनों को रगड़ना स्टार्ट कर दिया। अब में ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाए जा रहा था और वो भी नीचे से ज़ोर लगा रही थी।

फिर मैंने धीरे से अपना गर्म पानी उसके मुँह पर छिढ़क दिया और वो उसे चाटती रही और फिर उसने एकदम से मेरा लंड अपने मुँह में लेकर मेरा सारा पानी अपने मुँह में पी लिया और मेरे लंड को चाटने लगी थी और फिर थककर बेड पर वापस लेट गयी थी। अब उसकी चूत बिल्कुल बिखरी हुई नजर आ रही थी। फिर मुझे जब भी कोई मौका मिला तो मैंने उसकी जमकर चुदाई की और खूब इन्जॉय किया ।।
धन्यवाद

error: