ऑफिस वाली की चूत का शिकार

office sex हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम कुमार है और में दिल्ली से हूँ। मेरी उम्र 26 साल है और मेरी हाईट 5 फुट 6 इंच है, मेरा लंड 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। ये मेरी पहली सच्ची स्टोरी है, जो कि आज में आप सबके सामने पेश कर रहा हूँ। फिर जब मैंने अपनी ग्रेजुयशन कंप्लीट की तो मैंने एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी के लिए अप्लाई किया, तो वहाँ से जल्दी ही बुलावा आ गया। फिर जब में इंटरव्यू देने के लिए गया तो वहाँ पर एक लड़की जिसकी उम्र 24-25 साल की होगी, उसने मेरा रिज़्यूम लिया और बैठने को कहा तो में बैठ गया। अब में काफ़ी देर से यह महसूस कर रहा था कि वो मुझे काफ़ी देर से घूर रही है। फिर तकरीब आधे घंटे के बाद मुझे कंपनी के एम.डी ने बुलाया और कहा कि आप कल से मैनेजर की पोस्ट पर आ सकते है, तो मुझे बहुत खुशी हुई। फिर में जैसे ही जाने लगा, तो वो लड़की आई और फिर उसने मुझे बड़ी प्यार से बधाई दी और हाथ मिलाया और फिर में चला गया।
फिर अगले दिन जब में सुबह ऑफिस आया तो मुझे ऑफिस वर्क की ज़्यादा जानकारी नहीं थी तो मैंने उस लड़की से कहा कि क्या वो मेरी ऑफिस वर्क मदद कर सकती है? तो उसने कहा कि सर आप मेरे सीनियर है और आप जो कहेंगे, वो में बता दूँगी। अब में आपको बता दूँ कि वो उस ऑफिस में काफ़ी पुरानी थी और उसका फिगर में क्या बताऊँ? देखते ही ऐसा लगता था कि अभी उसको पकड़कर चोद दूँ, लेकिन नई-नई जॉब थी इसलिए में चुप रहा। फिर ऐसे ही हम दोनों काफ़ी घुलमिल गये थे। अब जब भी में उससे कुछ पूछता तो वो तुरंत ही जवाब देती थी, मुझे ऐसा लगता था कि वो मुझे लाईन दे रही है, लेकिन में अनदेखा करता रहता। अब उसे ऐसा लगता था कि उसकी बात नहीं बन रही है तो उसने दूसरे तरीके से बात करनी शुरू कर दी। अब जैसे ही में उससे कुछ पूछता तो वैसे ही वो थोड़ी झुककर मुझे अपने पहाड़ जैसे बूब्स दिखाने लगती थी। फिर जैसे ही में उसे देखता तो वो इधर उधर देखने लगती थी।
फिर एक दिन ऑफिस में ज्यादातर सभी लोग ऑफिस के काम से बाहर गये थे और उस दिन चपरासी भी नहीं आया था। फिर तभी वो मुझसे कुछ पूछने के लिए मेरी कुर्सी के पीछे आकर खड़ी हो गई। तो जैसे ही मैंने पीछे मुड़कर देखा, तो वो बिल्कुल मेरी कुर्सी के साथ चिपककर खड़ी थी। फिर उसने एक पेपर देते हुए कहा कि सर ये किसको भेजना है? और अब मेरे सामने पेपर रखते वक़्त वो अपने बूब्स मेरे कंधे से टच कर रही थी। फिर तभी अचानक मेरे शरीर में एक हलचल सी हुई तो मैंने कहा कि ये क्या कर रही हो? तो उसने कहा कि सॉरी सर, उसे लगा कि मुझे गुस्सा आ गया है और फिर वो अपनी सीट पर जाकर बैठ गई। फिर में उसके पास गया और उससे पूछा कि क्या हुआ?
तो वो बोली कि सर आपको बुरा लगा? तो मैंने कहा कि मैंने ऐसा तो नहीं कहा। तो वो सीधी मेरे आगे आकर खड़ी हो गई। अब उसके बूब्स मेरी छाती से टच हो रहे थे और फिर वो तुरंत मुझसे लिपट गई और कहने लगी कि सर मैंने जब से आपको देखा तब से ही में आप पर मर मिटी हूँ। तभी में बोला कि तुम तो शादीशुदा हो। तो वो रोने लगी और कहने लगी कि मेरा पति मुझे संतुष्ट नहीं कर पाता। तो यह सुनकर में चौंक गया और फिर वो धीरे-धीरे मेरे होंठो को चूसने लगी तो में भी गर्म हो गया। फिर में भी उसका साथ देने लगा और अब मेरा एक हाथ उसकी चूची पर चला गया था और उसे दबाने लगा था। अब उसके मुँह से आवाज़े आने लगी थी, आआ आह सर प्लीज थोड़ा तेज दबाओ, बड़ा मज़ा आ रहा है और अब उसका एक हाथ मेरी पेंट की चैन खोल रहा था। फिर मेरी पेंट की चैन खोलते ही उसने मेरे अंडरवियर में अपना एक हाथ डाल दिया तो वो हैरान रह गई कि ये तो इतना मोटा है तो उसने झट से अपना हाथ बाहर निकाल लिया और बोली कि सर आप इसे इतने दिनों से छुपाकर क्यों बैठे हुए थे? तो मैंने कहा कि अब देख लो। फिर उसने झट से अपने लिप्स मेरे लंड पर रख दिए और उसे ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी।

अब में भी उसकी चूचीयों को उसके कपड़ो के ऊपर से ज़ोर-ज़ोर से मसल रहा था। फिर मैंने उसके सारे कपड़े उतारने शुरू कर दिए। फिर जैसे ही मैंने उसकी ब्रा उतारी तो उसके बूब्स बाहर आ गये, सच में ऐसा लग रहा था जैसे उसका पति उन्हें छुता तक नहीं है, वो बहुत टाईट लग रहे थे। फिर मैंने उसे उठाकर टेबल पर लेटा दिया और उसकी सलवार खोल दी और उसकी पेंटी को देखा तो वो पहले से ऊपर से गीली लग रही थी। फिर मैंने उसकी पेंटी भी उतार दी। फिर में खड़ा हुआ और फिर झट से अपना मुँह उसकी चूत पर रखकर चाटने लगा। अब में उसकी चूत के दाने को अपनी जीभ से चाटने लगा था। फिर वो ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगी और तड़पने लगी। फिर मैंने अपनी एक उंगली उसकी चूत में डाल दी और उसकी चूत एकदम टाईट थी। अब जैसे ही में अपनी उंगली अंदर बाहर कर रहा था तो तभी उसका पानी निकल गया, तो मैंने उसका सारा पानी चाट लिया और फिर उठ गया।
फिर मैंने उसको अपने लंड पर बैठाकर कहा कि देख आज यह तेरी चूत को चोदेगा, तूने कभी अपनी चूत चुदाई है? तो उसने ना कहा। फिर मैंने कहा कि तुझे दर्द होगा तो थोड़ा सहन करना, फिर उसके बाद बहुत मज़ा आएगा और यह कहकर में अपने लंड का टोपा उसकी चूत में डालने लगा, उसकी चूत बहुत ही टाईट थी। फिर जैसे ही मैंने एक धक्का लगाया तो वो ज़ोर-ज़ोर से रोने लगी। फिर मैंने एक और धक्का लगाया तो वो चिल्लाने लगी और कहने लगी कि छोड़ दो मुझे नहीं चुदवानी। फिर तभी मैंने एक और धक्का लगाया तो मुझे ऐसा लगा जैसे कुछ चीज मेरे लंड को उसकी चूत में रोक रही है। अब में समझ गया था कि यह उसकी सील है। फिर मैंने अपने दोनों हाथों से उसके दोनों कंधो को पकड़ा और एक ज़ोरदार धक्का लगाया तो मेरा लंड उसकी चूत की सील तोड़ते हुए 4 इंच अंदर चला गया।
अब उसकी चूत में से खून आने लगा था और पानी भी आने लगा था, तो तभी में रुक गया। अब वो बहुत ही ज़ोर-जोर से चिल्ला रही थी और रो रही थी। फिर मैंने उसके बूब्स को मसलना चालू किया तो 10 मिनट के बाद वो शांत हो गयी तो में फिर से धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा। फिर में 10 मिनट तक धीरे-धीरे धक्के लगाता रहा और फिर जब मुझे लगा कि उसको मज़ा आ रहा है तो तभी मैंने एक जोरदार धक्का लगाया तो मेरा लंड उसकी चूत में पूरा घुस गया और उसकी चूत में से पानी निकलने लगा। फिर जैसे ही मैंने अपने लंड को थोड़ा बाहर निकाला तो उसकी चूत में से खून निकलने लगा तो में रुक गया। फिर 10 मिनट के बाद मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिए। फिर मैंने उससे पूछा कि अब कैसा लग रहा है? तो वो बोली कि दर्द तो कम हुआ है, लेकिन मज़ा नहीं आ रहा है। तो यह सुनकर मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी तो थोड़ी देर में उसकी चूत का पानी गिर गया। फिर मैंने उसे और ज़ोर-जोर से चोदना स्टार्ट कर दिया। फिर वो भी बोलती रही चोदो मुझे, सर चोदो मुझे और ज़ोर से, आह, उहह, आहह अब मेरा पानी निकल रहा है। आहह उहह और अब तक उसकी चूत का पानी 4 बार निकल गया था। फिर तभी मैंने अपना लंड उसकी चूत में से बाहर निकाला और उसे उठने को कहा।
अब वो उठ भी नहीं पा रही थी तो तभी मैंने उसको अपनी गोद में लिया और दीवार के सहारे खड़ा कर दिया। अब उसकी चूत में से खून और पानी टपक रहा था। अब उसकी चूत के बाल एकदम गीले हो गये थे। फिर मैंने उसको खड़ा किया और अपने लंड का टोपा उसकी चूत के मुँह पर रखकर उसके दोनों पैरो को अपने हाथों में ले लिया। अब वो दीवार से चिपककर पूरी तरह से हवा में थी। फिर तभी मैंने झट से एक ही धक्के में अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और उसको ज़ोर-ज़ोर से चोदने लगा। अब उसे भी बहुत मज़ा आ रहा था। फिर 10 मिनट में ही उसका पानी निकल गया। अब मेरे हाथ दर्द हो रहे थे तो में उसको बेड पर लेटाकर जानवर की तरह चोदने लगा। फिर मैंने उसको 1 घंटे तक वैसे ही चोदा। अब में पूरा पसीना-पसीना हो गया था। अब वो कम से कम 4 बार अपनी चूत का पानी छोड़ चुकी थी। फिर तभी मुझे ऐसा लगा कि मेरा पानी निकलने वाला है तो मैंने अपना लंड बाहर निकालकर उसके मुँह में डाल दिया। फिर वो उसे एकदम लॉलीपोप की तरह चूसने लगी, तो तभी मेरा वीर्य उसके मुँह में ही निकल गया। अब मुझे जब कभी भी कोई मौका मिलता है तो में उसकी जमकर चुदाई करता हूँ और वो भी हर बार तैयार रहती है और फिर हम दोनों खूब इन्जॉय करते है ।।
धन्यवाद

loading...