बाजी को दो अंकलों ने पेला

मेरा नाम असलम है, मेरी उम्र 18 साल है। मेरी एक बहन है जिसका नाम शेनाज़ है, मगर हम लोग उसे शन्नो कहकर बुलाते हैं। उसकी उम्र 23 साल है। उसकी शादी हो चुकी है और वो एक बच्चे की माँ है। शन्नो बहुत ही सेक्सी है, उसकी चूची और गांड बहुत बड़ी है, एकदम बाहर की तरफ निकली हुई ! जब वो चलती है तो उसके कूल्हे ऊपर नीचे हिलते रहते हैं। जो भी उसे एक बार देख ले, उसका लौड़ा खड़ा हो जाये। मेरे अब्बू और बाजी के मियाँ दोनों सऊदी अरब में रहते हैं। घर में मेरी अम्मी, बाजी और मैं हम तीनों ही रहते हैं।

एक दिन अम्मी नानी के घर चली गई और मैं स्कूल चला गया। लेकिन स्कूल से मैं जल्दी घर आ गया। बाजी घर में अकेली थी। जब मैं घर पहुँचा तो बाहर एक कार खड़ी थी। यह तो राहुल अंकल की कार थी। राहुल अंकल मेरे अब्बू के दोस्त थे उनकी उम्र 50 साल के आसपास थी लेकिन देखने में 40 के लगते थे। लम्बे, चौड़े और मजबूत बदन के थे। दरवाज़ा अंदर से बंद था। मैं पीछे के दरवाज़े से अंदर गया तो देखा कि बाजी का कमरा बंद था। मैंने जल्दी से चाबी वाले छेद से अंदर देखा तो दंग रह गया। अंदर राहुल अंकल और राज अंकल बाजी को पकड़े हुए थे। बाजी एक झीनी सी नाइटी पहने हुए थी जिसमें से उसकी ब्रा और पैंटी दिखाई दे रही थी। राज अंकल बाजी को चूम रहे थे और राहुल अंकल बाज़ी की गांड सहला रहे थे। बाज़ी भी मज़े ले रही थी।

तभी राज ने कहा- यार राहुल, लौंडिया तो ज़बरदस्त है ! पेलने में बड़ा मज़ा आएगा !

loading...

क्यूँ नहीं यार ! बड़ी मुश्किल से मानी है ! बहुत दिनों से सोच रहा था इसकी गांड मारने की ! आज इसकी ऐसी गांड मारूँगा कि याद रखेगी कि कोई लौड़ा मिला था। जब जब मैं इसके घर आता तो अपनी गांड ऐसे मटका कर चलती कि मेरा लौड़ा खड़ा हो जाता और मेरा मन करता कि यहीं पटक कर इसकी गांड में अपना लौड़ा पेल दूँ।

मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था और मज़ा भी ! मैं भी देखना चाहता था कि बाजी की कैसी पिलाई होती है। तभी राज अंकल ने बाजी की नाइटी उतार दी अब बाजी सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी। राज ने झट से ब्रा भी उतार फेंकी, बाजी की चूची पकड़ ली और जोर जोर से दबाने लगा। हाय हाय ! क्या मस्त बड़ी बड़ी चूचियाँ थी ! पूरी रस से भरी हुई लगती थी ! राज ने एक चूची को मुँह में भर लिया और दूसरी को जोर जोर से दबाने लगा। बाजी सिसकारी भरने लगी- ऊओह्ह्ह्ह आऽऽऽह आऽऽऽईऽऽय !!!

बाज़ी ने राज का सर अपनी चूचियों के बीच में दबाया और बोली- साले ! और तेज़ी से दबा ! पी मेरा दूध ! साले बहुत दिनों के बाद आज किसी ने मेरी चूची को दबाया है ! मेरी चूची में बहुत दूध भरा हुआ है ! जल्दी जल्दी से चूस मेरी चूची को ! घबरा मत ! आज तेरी चूची का सारा रस निचोड़ कर पी जायेंगे !

उसके बाद राज अंकल बाजी की चूची को जोर जोर से पीने लगे। बाजी की इतनी बड़ी चूची थी कि राज अंकल के मुँह में नहीं आ रही थी, फिर भी राज अंकल बाजी की चूची को पी रहे थे। राज अंकल के मुँह में दूध भरा हुआ था क्योंकि बाजी की चूची भी दूध से भरी हुई थी।

राज अंकल ने कहा- बड़ा मीठा दूध है तेरा !

उधर राहुल अंकल बाजी की गांड को सहला रहे थे। तभी राहुल अंकल ने बाजी की पैंटी उतार दी। वाह ! क्या मस्त चूत और गांड थी ! एक भी बाल नहीं था। चूत और गांड दोनों एकदम चिकनी थी ! मेरा तो लौड़ा खड़ा हो गया था।

तभी राहुल अंकल ने कहा- क्या मस्त चूत और गांड है तेरी ! एकदम चिकनी ! एक भी बाल नही है ! पेलने में बड़ा मज़ा आएगा !

राहुल अंकल ने बाजी की गांड को फैला कर अंदर देखा तो बोले- एकदम कसी गांड है ! राम कसम, आज तो इस लौंडिया की गांड फाड़ने में बड़ा मज़ा आएगा !

राहुल अंकल ने बाजी की गांड पर तीन चार चपत लगाई। वाह क्या मस्त गांड है ! बहुत दिनों के बाद पर्दा करने वाली लड़की की गांड मारूँगा !

मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था। मैं देखना चाहता था कि राहुल अंकल बाजी की गांड कैसे मारते हैं। मैंने अपनी पैंट उतार दी और अपने लण्ड को आगे पीछे करने लगा। मेरा लण्ड चार इन्च लम्बा और दो इंच मोटा था। उधर राज अंकल बाजी की बड़ी बड़ी चूचियों को जोर जोर से मसल रहे थे और बाजी जोर जोर से सिसक रही थी- ऊह्ह्ह,आह्ह्ह्ह,ओऊ बहुत मज़ा आ रहा है ! और जोर जोर से मसल के पूरा दूध पी जा !

राज पागलों की तरह बाजी की चूची को मसलने लगा और चूची को मुँह में लेकर पीने लगा।

ओह मेरे चोदू राजा ! और पी मेरा दूध ! उसके बाद तुझे जमकर पिलाई करनी है मेरी चूत रानी की ! साली बहुत दिनों से भूखी है !

तू फ़िक्र न कर मेरी शन्नो रानी ! आज तेरी चूत और गांड की ऐसी पिलाई करेंगे हम दोनों कि तेरी चूत और गांड को फाड़ के रख देंगे !

बाजी की चूचियों के चुचूक एकदम लाल हो गए थे। तभी राज अंकल ने अपना मुँह चूची से हटा कर बाजी के मुँह पर लगा दिया जिससे उसके मुँह का दूध बाजी के मुँह में चला गया और बाजी उसके मुँह को अपने मुँह में लेकर जोर जोर से चूसने लगी। मेरी बाजी राज अंकल के होंठों को जोर जोर से चूस रही थी। राज अंकल भी बाजी के होंठों को जोर जोर से चूस रहे थे। उधर राहुल अंकल बाजी की फूली हुई गांड को सहला रहे थे। तभी राहुल अंकल बाजी की गांड में अपनी ज़बान पेल कर चाटने लगे। बाजी भी अपनी गांड को राहुल अंकल के मुँह में दबाने लगी। इससे राहुल अंकल को मज़ा आने लगा और वो तेज़ी से अपनी ज़बान चलाने लगे। जब बाजी की गांड एकदम गीली हो गई तो राहुल अंकल ने अपनी एक ऊँगली बाजी की गांड में पेल दी तो बाजी जोर से उछल पड़ी- उई अम्मी ओह्ह्हह्ह,आह्ह्ह बहुत दर्द हो रहा है ! थोड़ा धीरे पेलो अपनी ऊँगली को मेरे चोदू राजा !

तभी राज अंकल ने बाजी की चूत को देखा तो देखते ही रह गए- वाह ! क्या मस्त चिकनी चूत है ! एक भी बाल नहीं ! राज अंकल ने चूत को सहलाया और अपनी एक ऊँगली को चूत में पेल दिया और अपनी ऊँगली को आगे पीछे करने लगे।

मेरी बाजी ने कहा- हाय, मेरे चोदू राजा ! थोड़ा और अन्दर तक पेलो अपनी ऊँगली को ! बड़ा मज़ा आ रहा है !

राज अंकल ने कहा- क्या गरम चूत है रानी तेरी ! एकदम आग की भट्टी ! मन कर रहा है जल्दी से अपना लौड़ा पेल दूँ तेरी बुर में ! कैसी रस से भरी हुई है ! पहले मैं तेरी बुर का रस पीऊंगा, उसके बाद तेरी बुर में अपना लौड़ा पेल कर तेरी बुर की ज़बरदस्त पिलाई करूँगा ! वाह क्या मस्त फूली हुई चूत है तेरी !

बाजी सिसक रही थी- उह्ह्ह्ह ह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह औऊऊऊउ ! क्या मस्त मज़ा आ रहा है ! और तेज़ी से पेलो अपनी ऊँगली मेरे बुर में ! अभी तो शुरुआत है ! आगे आगे देखो, कितना मज़ा आता है !

उधर राहुल अंकल बाजी की गांड को ज़बरदस्त तरीके से चाट रहे थे, वो अपनी उंगली को तेज़ तेज़ पेल रहे थे बाजी की गांड में और बाजी भी अपनी गांड को मज़े से चटवा रही थी। तभी राहुल अंकल ने अपनी एक ऊँगली पूरी की पूरी बाजी की गांड में पेल दी। बाजी उछल पड़ी- उई अम्मी मै मर गई ऊऊऊह आह्ह्ह्हह्ह औऊऊऊउ ! धीरे धीरे पेलो मेरे चोदू राजा ! मेरी गांड बहुत तंग है ! अभी तक मैंने गांड नहीं मरवाई !

इतनी मस्त गांड है तेरी और तेरे खसम ने नहीं मारी तेरी गांड?

नहीं !

क्यूँ नहीं मारी ?

क्यूंकि उनका लुल्ला बहुत छोटा है और बहुत मुश्किल से मेरी चूत मार पाते थे!

तू फ़िक्र मत कर ! मैं अपने लम्बे और मोटे लौड़े से तेरी गांड फ़ाड़ूंगा ! तुझे बहुत मज़ा आएगा जब मैं तेरी मस्त हसीं गांड को फ़ाड़ूंगा !

सचमुच आपका लुल्ला बहुत बड़ा है?

मैं तुझे दिखाता हूँ अपना लुल्ला !

यह कहकर राहुल अंकल ने अपने पूरे कपड़े उतार दिए और उनका काला सा लुल्ला सामने खड़ा था। बाजी ने जब उनका लुल्ला देखा तो पागल हो गई- याल्लाह ! इतना बड़ा लुल्ला ! वो भी कटा हुआ नहीं है !

मैं भी इतना बड़ा लौड़ा देख कर दंग रह गया जो लगभग दस इन्च लम्बा और पांच इन्च मोटा था। मै समझ गया कि आज बाजी की खैर नहीं !

राहुल अंकल आज बाजी की गांड का बाजा बजा देंगे, मैंने सुना था कि हिन्दू का लौड़ा बहुत लम्बा और मोटा होता है, और आज देख भी लिया ! क्या मस्त लौड़ा था राहुल अंकल का ! एकदम काले नाग की तरह दिख रहा था। एक भी बाल नहीं था, उनके लौड़े का सुपारा काली चमड़ी से ढका हुआ था।

तभी मेरी बाजी ने उनका लौड़ा अपने हाथों में ले लिया। उनका लौड़ा इतना बड़ा था कि बाजी के हाथों में नहीं आ रहा था। बाजी ने लौड़े की चमड़ी को हटाया तो उनका सुपारा देख कर बाजी अपनी ज़बान से चाटने लगी। क्या मस्त लाल लाल सुपारा था !

बाजी पूरी मस्ती में थी और सुपाडे को चूसे जा रही थी- ऊह्ह्हह्ह आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ! क्या मस्त है ! आज तो चाट चाट के खा जाउंगी !

चूस मेरी शन्नो रानी ! मेरा लौड़ा अपने मुँह में लेकर चूस ! तुझे और मज़ा आएगा ! देख कैसा घोड़े के जैसा है मेरा लौड़ा ! मेरी उम्र पचास के पार पहुँच गई है मगर मेरा लौड़ा अभी भी जवान है ! ले मेरा हिन्दू लौड़ा अपने मुँह में !

इतना बड़ा लौड़ा बाजी के मुँह में नहीं आ रहा था, मगर राहुल अंकल बाजी के सर को पकड़ के अपना लौड़ा बाजी के मुँह में पेलने लगे- ले साली चूस मेरा लौड़ा ! बहुत दिनों के बाद चुसवा रहा हूँ !

बाजी के मुँह में बड़ी मुश्किल से जा रहा था राहुल अंकल का लौड़ा ! उधर राज अंकल अपनी ऊँगली को बाजी की गुलाबी बुर से निकाल कर अपनी ज़बान बाजी की गुलाबी बुर में पेलने लगे। क्या मस्त गुलाबी बुर थी बाजी की ! राज अंकल भी मस्ती में बाजी की बुर को चाट रहे थे- वाह क्या नशीली चूत है ! राज अंकल तेज़ी से अपनी ज़बान पेल रहे थे बाजी की चूत में ! बाजी भी जोश में सिसकर रही थी- ऊह ! हाय ! आह्ह्ह्हह्ह ! औऊऊऊऊ क्या मस्त मज़ा दे रहे हो ! इतना मज़ा तो मेरे शौहर ने नहीं दिया था ! और पेलो अपनी ज़बान को मेरी बुर में ! अन्दर तक पेल कर मेरा पानी निकालो और पी जाओ ! खा जाओ मेरी बुर को ! कसम से क्या मस्त मज़ा आ रहा है ! मुझे नहीं पता था हिन्दू लोग ऐसा मज़ा करते हैं वरना अब तक मैं कितनों से मज़ा ले चुकी होती !

अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है ! आज हम दोनों तेरे को इतना पेलेंगे कि तू बाकि के लौड़ों को भूल जायेगी !

मुझे भी आज तुम दोनों से खूब पिलना है ! मुझे बहुत दिनों से बड़ी चुदास लगी थी ! बस आज तुम दोनों इतना पेलो मुझे कि मैं मर जाऊँ !

तभी राज बोला- पहले मैं तेरी बुर को खूब चूस कर तेरा पानी निकाल कर पीऊंगा ! फिर उसके बाद तेरी बुर में अपना लौड़ा पेलकर तेरी ज़बरदस्त पिलाई करूँगा !

उधर राहुल अंकल का काला लौड़ा गपागप बाजी मुँह में जा रहा था। बाजी खूब मज़े से उनका काला लौड़ा अपने गुलाबी होंठों से चूस रही थी। तभी राहुल अंकल ने अपना काला लौड़ा बाजी के मुँह से निकाल कर कहा- अब ज़रा मेरी गोली को भी चूस ! तुझे और भी मज़ा आएगा ! बाजी झट से दोनों गोलियों को मुँह में लेकर चूसने लगी। राहुल अंकल जोर जोर से सिस्कार रहे थे- ओह ! आह्ह्ह्हह्ह् ! बड़ा मज़ा आ रहा है ! क्या मस्त चूसती है तू ! आज तूने पागल कर दिया है ! आज तो तेरी ऐसी गांड मारूँगा कि तू लौड़ा लेने के नाम से डरेगी।

राहुल अंकल अपने लौड़े से बाजी के गालों पर मार रहे थे जिससे बाजी जोर जोर से सिसक रही थी- ऊह्ह्हह्ह आह औऊ ऊऊ ! मेरे चोदू राजा ! क्या मस्त लौड़ा है तेरा ! कसम से, मैं तो मस्त हो गई हूँ तेरा लौड़ा चूस कर !

उधर राज अंकल तेज़ी से बाजी की बुर को चूस रहे थे। तभी बाजी ने कहा- ओह्ह्ह मेरे चोदू राज ! मेरा पानी निकलने वाला है ! हाय ऊह्ह्ह अऔह्ह्ह्ह ! और जोर से चूस मेरी बुर को !

बाजी अपनी बुर को राज अंकल के मुँह रख कर अपनी गांड को जोर जोर से हिलाने लगी- ओहह्ह औऊउ हाय औऊउ ले साले मेरी बुर का पानी !

और बाजी ने अपनी बुर का पूरा पानी राज अंकल के मुँह में गिरा दिया। बाजी बुरी तरह हांफ रही थी, राज अंकल का मुँह बाजी की बुर के पानी से भर गया था।

राहुल अंकल ने कहा- तेरी चूत से बहुत पानी निकला !

हाँ मेरे राजा ! बहुत दिनों से पानी नहीं निकला था ! इसलिए आज बहुत पानी निकला ! तू भी चाट ना मेरी बुर का पानी !

इतना सुनते ही राहुल अंकल भी अपनी जुबान से बाजी की बुर का पानी चाटने लगे। दोनों ने पूरा पानी चाट के साफ़ कर दिया।