मेरा भांजा मोनू

antarvasna, gaand chudai ki kahani हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम सोनाली है और मेरी उम्र 30 साल है। मेरी गांड और चूचीयाँ दोनों बड़े-बड़े है। मेरा भांजा मोनू अपने 7 इंच के लंड से मुझे चोदता है। दोस्तों एक दिन जब वो मेरे घर आया तो तब में अपने बिस्तर पर लेटकर आराम कर रही थी। फिर वो मेरे पास बैठकर मेरा ब्लाउज खोलकर मेरी चूचीयों को मसलने लगा। अब वो अपने एक हाथ से मेरी एक चूची को दबा रहा था और अपने एक हाथ से मेरी गर्दन पकड़कर मुझे किस कर रहा था। अब में एकदम पागल हो गई थी। फिर उसके बाद वो मेरे दोनों पैर ऊपर उठाकर मेरी पेंटी निकालकर मेरे पैरो के बीच में बैठ गया और मेरी चूत को देखने लगा था। फिर उसने अपने कपड़े उतारे तो तब मैंने देखा कि उसका लंड खड़ा हो चुका था।

फिर तब मैंने कहा कि चल मेरे भांजे अब अपना लंड मेरी चूत पर रखकर धक्का लगा और उसके चूतड़ को अपने दोनों हाथों से खूब ज़ोर से दबा दिया और अपने चूतडों को उछालकर मोनू का लंड अपनी चूत में ले लिया था। अब मोनू का लंड पूरा का पूरा मेरी चूत में घुस गया था। तब में मस्ती में आकर चिल्ला पड़ी आआहह, ऊवू, आहहा, हाए मोनू, बहुत अच्छे पेलो मेरी चूत को, ज़ोर से, पेलो फाड़ दो मेरी चूत रानी को, आज इतनी हसीन चुदाई हो रही है इस छिनाल चूत रानी की, साली को लंड लेने का बहुत शौक था, चोद दो, फाड़ दो, आआआअहह, उईईइ, मरी, हाईईईईईईईई, माँ मारो, जोर से चोदो, उऊउ, हाईई। मोनू का लंड बहुत मोटा था और अब वो मेरी चूत को दो फांको में फाड़ रहा था। अब मोनू के लंड से चुदवाकर में बिल्कुल सातवें आसमान पर थी।

अब मैंने अपनी दोनों टांगो को उठाकर मोनू के चूतड़ पर लॉक कर दिए थे और उसके कंधो को पकड़कर उसके लंड के धक्को को अपनी चूत में खाने लगी थी। अब मोनू अपने धक्को के साथ-साथ मेरी चूचीयों को भी पी रहा था। अब मेरा पूरा बदन मोनू की चुदाई से जल रहा था और अब में अपने चूतड़ उछाल-उछालकर उसके लंड को अपनी चूत से खा रही थी। अब में उसका लंड खाकर पूरी तरह से मस्त हो गई थी और बोली कि मोनू आज पूरी रात तू मुझे इसी तरह से चोदता जा, तू बहुत अच्छी तरह से चोद रहा है, तेरी चुदाई से में और मेरी चूत बहुत खुश है, तू बहुत अच्छा और मस्ती से चोदता है। तब मोनू बोला कि मौसी में आज पूरी रात तुझको इसी तरह चोदूंगा, तुम्हारी चूत बहुत अच्छी है और इसमें बहुत मस्ती भरी हुई है, अब यह चूत मेरी है और अब में इसको खूब चोदूंगा। अब में मस्ती से पागल हो रही थी और अब मेरी चूत पानी के छोड़ने वाली थी।

अब मोनू ज़ोर-ज़ोर से मेरी चूत को चोद रहा था। अब वो अपना लंड मेरी चूत में से बाहर निकालकर पूरा का पूरा मेरी चूत में जोर-जोर से पेल रहा था। मेरी चूत अब तक दो बार पानी छोड़ चुकी थी। अब में उसके हर धक्को का आनंद उठा रही थी। अब तक हम दोनों पसीने में नहा गये थे। अब मोनू अपनी पूरी ताकत के साथ मुझे चोद रहा था और अब में सोच रही थी कि काश आज की रात कभी खत्म ना हो। फिर थोड़ी देर के बाद मोनू चिल्लाया कि हाए मौसी अब मेरा लंड पानी छोड़ने वाला है, अब तुम अपनी चूत से मेरे लंड को कसकर पकड़ो और इतना कहने के बाद मोनू ने करीब 10-12 धक्के और लगाए और अब वो मेरी चूत के अंदर ही झड़ गया था और मेरी चूचीयों पर अपना मुँह रखकर सो गया था। अब मोनू के लंड ने बहुत ज़्यादा पानी छोड़ दिया था और अब उसका पानी मेरी चूत में से बाहर आने लगा था। फिर मैंने उसको कसकर अपनी बाँहों में जकड़ लिया और उसका मुँह चूमने लगी थी और फिर मेरी चूत ने तीसरी बार अपना पानी छोड़ दिया।

फिर थोड़ी देर के बाद हम दोनों ने उठकर बाथरूम में जाकर अपने लंड और चूत को साफ किया। फिर तब करीब 10 मिनट के बाद ही उसका लंड फिर से खड़ा हो गया। तब मैंने कहा कि चलो अब अपना लंड मेरी गांड में डालो। अब में पीठ के बल लेट गई थी और वो मेरे ऊपर आ गया था। फिर उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखा और अंदर दबाने लगा था। फिर जब उसका लंड करीब 2 इंच तक मेरी गांड में घुस गया तो तब मुझे हल्का सा दर्द हुआ, लेकिन उसने अपना लंड दबाना ज़ारी रखा था। अब दर्द के मारे में चिल्ला रही थी, लेकिन मैंने उसे नहीं रोका। तब वो बोला कि ये तो आपकी गांड में घुसता चला जा रहा है। तब मैंने कहा कि कितना घुसा है अब तक? तो तब वो बोला कि अब तक 3 इंच घुस चुका है। फिर तब मैंने कहा कि ठीक है तुम घुसाते रहो।

फिर जैसे ही उसने अपना लंड थोड़ा और दबाया तो तब मेरा दर्द बर्दास्त से बाहर हो गया और फिर मैंने कहा कि अब रुक जाओ और अंदर बाहर करना शुरू कर दो और ज़्यादा अंदर मत घुसाना। तब उसने धक्के लगाने शुरू कर दिए और फिर थोड़ी देर के बाद बोला कि इस बार तो बहुत मज़ा आ रहा है। तो तब मैंने कहा कि तुम मज़ा लेते रहो और तेज़ी से अंदर बाहर करते रहो। अब मुझे भी कुछ-कुछ मज़ा आ रहा है, अभी थोड़ी देर में जब मेरा दर्द कम हो जाएगा तो तब मुझे और ज़्यादा मज़ा आएगा और फिर वो धक्के लगाता रहा। अभी में उसका पूरा लंड अपनी गांड के अंदर नहीं ले पाई थी कि तभी वो बोला कि मेरे लंड से फिर से पानी निकलने वाला है। तब मैंने कहा कि निकलने दो, अब वो बहुत ज़्यादा जोश में आ गया था और अब उसने बहुत ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए थे और फिर थोड़ी देर के बाद मोनू मेरी गांड में ही झड़ गया। तब मैंने पूछा कि इस बार कितना घुस गया था? तो तब वो बोला कि 4 इंच तक घुसा था। तब मैंने कहा कि ठीक है अगली बार पूरा घुस जाएगा।

फिर पूरी तरह से झड़ जाने के बाद उसने अपना लंड मेरी गांड में से बाहर निकाला और बोला कि में और मज़ा लेना चाहता हूँ। फिर तब मैंने कहा कि जरूर मज़ा लो, में थोड़े ही कहीं जा रही हूँ, अभी जब तुम्हारा लंड फिर से खड़ा हो जाएगा, तो तब तुम फिर से मज़ा ले लेना। तब वो बोला कि ठीक है और फिर वो मेरे बगल में लेट गया और मेरे बूब्स को मसलने लगा था और में उसका लंड सहलाती रही। फिर करीब 10-15 मिनट में ही उसका लंड फिर से खड़ा होकर लोहे जैसा सख्त हो गया। तब वो बोला कि में फिर से मज़ा ले लूँ। तब मैंने कहा कि हाँ ले लो, लेकिन इस बार अपना लंड पूरी तरह से मेरी गांड में डाल देना, अगर इस बार तुम पूरा लंड अंदर नहीं डाल पाए तो में तुम्हें फिर से मौका नहीं दूँगी। तो तब वो बोला कि ठीक है, में इस बार अपना लंड पूरा डाल दूँगा। अब में फिर से पेट के बल लेट गई थी। अब मेरी गांड एकदम गीली थी। फिर उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखा और अंदर दबाने लगा तो इस बार उसका लंड मेरी गांड में 4 इंच तक आराम से घुस गया था।

फिर उसने अपना लंड मेरी गांड में अंदर तक और ज़्यादा दबाना शुरू किया। तब मैंने कहा कि ज़ोर- ज़ोर से धक्के लगाकर इसे पूरा अंदर डाल दो, मेरे चिल्लाने की चिंता मत करना। वो ताकतवर था ही तो मेरा इशारा पाते ही उसने ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए। अब मुझे दर्द होने लगा था और में चिल्लाने लगी थी और फिर उसने और ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाए तो तब में तड़प उठी। अब मेरे चेहरे पर पसीना आ गया था। अब मेरी टांगे थर-थर काँपने लगी थी। तब वो बोला कि अब मेरा लंड पूरा अंदर घुस चुका है, अब तो तुम मुझे ये मज़ा लेने का फिर से मौका दोगी। तब मैंने कहा कि तुम बहुत अच्छे हो। अब तुम जब चाहो मज़ा ले लेना, में तुम्हें कभी नहीं रोकूंगी, अब तुम तब तक ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाते रहो जब तक तुम्हारे लंड का पानी फिर से नहीं निकल जाता। तब वो बोला कि ठीक है, अब में नहीं रुकूँगा, अब मुझे बहुत मज़ा आ रहा है।

फिर उसने मेरे सीने के नीचे अपना हाथ डालकर मेरे बूब्स को पकड़ लिया और फिर मेरे बूब्स को मसलते हुए बहुत ही ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाने लगा था। अब मेरा दर्द कुछ ही देर के बाद कम हो गया था और अब मुझे भी मज़ा आने लगा था। अब वो बहुत ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाते हुए मेरी गांड मार रहा था। फिर इस बार उसने लगभग 15 मिनट तक मेरी गांड मारी और फिर मेरी गांड में ही झड़ गया और झड़ने के बाद वो फिर से मेरे बगल में लेट गया था। तब मैंने कहा कि तुम लेटो मत, इस बार में तुम्हें दूसरा मज़ा दूँगी। तब वो बोला कि अब कौन सा मज़ा? तो तब मैंने अपनी चूत की तरफ इशारा करते हुए उससे कहा कि अब तुम इसे अपनी जीभ से चाटो, इस बार में तुम्हारा लंड इस छेद के अंदर लूँगी। फिर वो मेरी टागों के बीच में आ गया और मेरी चूत को बड़े ध्यान से देखने लगा था। फिर उसने मेरी चूत चाटनी शुरू कर दी। फिर तब मैंने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी थी। अब उसकी जीभ अपनी चूत पर महसूस करते ही में और ज़्यादा जोश में आने लगी थी।

फिर थोड़ी देर के बाद मेरी चूत में से पानी निकलने लगा। तब उसने अपनी जीभ से मेरी चूत का सारा पानी चाट लिया। अब इधर उसका लंड फिर से खड़ा हो चुका था। फिर जब वो मेरी चूत का पानी चाट गया तो तब मैंने कहा कि अब अपना पूरा लंड मेरी चूत में डालकर ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाते हुए अंदर बाहर करो। फिर उसने अपने लंड का टोपा मेरी चूत के बीच में रखा, तो तब मैंने अपने दोनों पैर उसके कंधे पर रख लिए और फिर मैंने कहा कि इस बार जैसे तुमने मेरी गांड के अंदर अपना पूरा लंड घुसा दिया था, वैसे ही अब मेरी चूत में भी अपना पूरा लंड घुसा देना। फिर तब उसने एक जोरदार धक्का मारा तो तभी मेरे मुँह से चीख निकल गई, तुम पूरी ताकत के साथ धक्के लगाओ। तब उसने ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए, उसका लंड लंबा होने के साथ-साथ बहुत मोटा भी था। अब में दर्द से तड़पने लगी थी और फिर वो धक्के लगाते रहा। फिर कुछ ही देर में उसका पूरा का पूरा लंड मेरी चूत के अंदर घुस गया और अब में उसके लंड का टोपा अपनी बच्चेदानी के मुँह पर महसूस करने लगी थी।

तब वो बोला कि मैंने अपना पूरा लंड अंदर डाल दिया है, इस छेद में तो और ज़्यादा मज़ा आ रहा है। तब मैंने कहा कि अब खूब तेज़ी से मेरी चूत में अंदर बाहर करो। तब उसने बहुत ही ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए। तो में लगभग 5 मिनट में ही झड़ गई। फिर वो बोला कि तुम्हारी चूत में से तो फिर से पानी निकल रहा है। तब मैंने कहा कि जब तक तुम्हारे लंड का पानी निकलेगा, तब तक मेरी चूत से कई बार पानी निकलेगा। अब मेरी चूत गीली हो चुकी थी और वो धक्के लगाता रहा। अब पूरे रूम में छप-छप की आवाज गूंज रही थी। अब उसकी स्पीड बहुत तेज हो गई थी। अब अभी 10 मिनट भी नहीं बीते थे कि में फिर से झड़ गई थी।

अब में अपने चूतड़ उठा-उठाकर उसका साथ देने लगी थी। अब वो पूरी मस्ती के साथ मेरी चुदाई कर रहा था। फिर लगभग 10 मिनट तक और चोदने के बाद वो झड़ गया। अब उसके साथ ही साथ में भी झड़ गई थी। फिर जब उसने अपना लंड मेरी चूत में से बाहर निकाला तो तब मैंने इस बार उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी थी। फिर जब मैंने उसका लंड चाट-चाटकर साफ कर दिया। तो तब वो हट गया और अब वो मेरी बगल में लेट गया था और बोला कि मुझे इस छेद में ज़्यादा मज़ा आया है। फिर थोड़ी देर आराम करने के बाद में खाना बनाने चली गई। अब में अभी खाना बना ही रही थी कि वो किचन में आया और बोला कि मुझे और मज़ा लेना है। तब मैंने कहा कि में खाना बना लूँ, फिर उसके तुम मज़ा ले लेना। तब वो बोला कि नहीं मुझे अभी मज़ा चाहिए, देखो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया है। अब में तो खुद ही प्यासी थी तो में किचन में ही डॉगी स्टाइल में हो गई और फिर मैंने उससे कहा कि अब तुम मेरे पीछे आ जाओ और मज़ा लो। में देखना चाहती थी कि उसे मेरी चूत चाहिए या गांड। फिर वो मेरे पीछे आया और अपना लंड मेरी चूत में डालने लगा। तब में समझ गई कि उसे मेरी चूत को चोदने में ही ज़्यादा मज़ा आया था।

फिर उसने ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाते हुए अपना लंड मेरी चूत में डालना शुरू कर दिया। मेरी चूत अभी तक उसके लंड के साईज की नहीं हुई थी। अब मुझे दर्द होने लगा था और में चिल्लाने लगी थी, लेकिन वो रुका नहीं और अपना लंड मेरी चूत में घुसाता रहा। फिर अपना पूरा लंड घुसा देने के बाद उसने ज़ोर- ज़ोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए। अब मुझे इस बार ज़्यादा मज़ा आ रहा था। फिर लगभग 5 मिनट की चुदाई के बाद में झड़ गई। अब वो मेरी कमर को पकड़कर ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगा रहा था। अब में भी आगे पीछे होते हुए उसका साथ देने लगी थी। फिर 10 मिनट तक और चुदवाने के बाद में फिर से झड़ गई। अब उसकी स्पीड और तेज हो चुकी थी। अब मेरी चूत छप-छप की आवाज कर रही थी। अब मेरी चूत ने उसके लंड को ज़ोर से जकड़ रखा था। अभी 10 मिनट और बीते थे कि में फिर से झड़ गई थी, लेकिन उसने अभी भी मेरी चुदाई जारी रखी थी।

अब वो मुझे एकदम आँधी की तरह चोद रहा था। फिर करीब 5 मिनट और बीते तो तब उसने अपना लंड मेरी चूत में से बाहर निकाला और मेरी गांड में घुसाने लगा था। तब मुझे पहले तो थोड़ा सा दर्द हुआ, लेकिन फिर बहुत मज़ा आने लगा था। अब वो बहुत तेज़ी से मेरी गांड मार रहा था। फिर लगभग 10 मिनट तक मेरी गांड मारने के बाद उसने अपना लंड फिर से मेरी चूत में डाल दिया और इस बार बहुत ही ज़ोर-ज़ोर के धक्के लगाने लगा था। मैंने ऐसा मज़ा कभी नहीं पाया था, में इस मज़े के लिए ही तड़प रही थी, आज मेरी तमन्ना पूरी हो रही थी, में जानती थी कि मुझे अब ये मज़ा बहुत दिनों तक मिलने वाला है। अब तक उसे मुझे चोदते हुए 10 मिनट और बीत चुके थे, तो तभी में फिर से झड़ गई। तो तब वो बोला कि तुम्हारी चूत में से कई बार पानी निकल चुका है, अभी और कितनी बार निकलेगा? तो तब मैंने कहा कि जब तक तुम मुझे चोदते रहोगे तब तक कई बार निकलेगा।

फिर तब वो बोला कि अभी तो मुझे नहीं लग रहा है कि मेरा पानी निकलने वाला है। तब मैंने कहा कि जब तक तुम्हारा पानी नहीं निकलता, तब तक तुम चोदते रहो। अब तक मुझे चुदवाते हुए लगभग 50 मिनट हो चुके थे। अब वो था कि चोदता ही जा रहा था, मेरी चूत भी इतना लंबा और मोटा लंड अंदर लेते-लेते कुछ सूज चुकी थी। अब मुझे मज़ा भी बहुत आ रहा था। फिर करीब 10 मिनट और बीते तो तब वो बोला कि अब लगता है कि मेरा पानी निकलने वाला है और इतना कहकर वो और ज़्यादा ताकत के साथ धक्के लगाने लगा था। अब उसके इन धक्को से मेरे बदन के सारे जोड़ हिलने लगे थे और फिर 5 मिनट के बाद वो झड़ गया और अब में भी फिर से उसके साथ ही साथ झड़ गई थी। फिर इस बार उसके लंड से ढेर सारा पानी निकला। फिर जब उसने अपना लंड बाहर निकाला तो तब मैंने उसका लंड चाट-चाटकर साफ कर दिया। फिर वो बोला कि इस बार मुझे जो मज़ा आया ऐसा मज़ा मुझे पिछली बार नहीं मिला था।

फिर उसने मुझे खूब मज़ा दिया और उसे भी खूब मज़ा मिला। अब तक वो चोदने में एक्सपर्ट हो चुका था, उसने मुझे तरह-तरह की स्टाइल में पूरे घर में हर जगह चोदा है। अब मेरी चूत की प्यास एक हद तक शांत हो चुकी थी ।।

धन्यवाद …

error: