मौसी की लड़की को रगड़कर चोदा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राव है और में जालंधर का रहने वाला हूँ, लेकिन में आज कल में इंग्लेंड में रहता हूँ और मेरी उमर 29 है. गोरा रंग अच्छी सेहत और में दिखने में एकदम ठीकठाक हूँ. दोस्तों मेरी यह कहानी जिसको में आज आप सभी को सुनाने जा रहा हूँ करीब सात साल पहले की है जब में भारत में था तब यह मेरे साथ घटित हुई. दोस्तों मेरी मौसी की एक लड़की है उसका नाम जस्सी है और उसकी उमर मुझसे करीब दो साल छोटी है और जब मैंने उसको चोदा तब वो 20 साल की थी और उसके फिगर का आकार उस समय 34-28-36 था.

वो दिखने में बहुत सुंदर गोरी बड़ी हॉट सेक्सी लगती थी. एक दिन वो हमारे घर पर एक सप्ताह के लिए रहने के लिए आ गई और उस समय वो अपनी छुट्टियाँ बिताने हमारे घर पर आई थी. तो एक दिन हम सभी लोग एक साथ बैठकर टीवी देख रहे थे तब मेरा ध्यान अचानक से उसके बूब्स पर चला गया जो उस समय बहुत सुडोल, उभरे हुए आकर्षक दिख रहे थे, लेकिन फिर एक नजर देखकर मैंने अपनी नजर को वापस टीवी पर लगा दिया और में वो फिल्म देखने लगा, लेकिन दोस्तों जब से वो हमारे घर पर आई थी में बार बार उसके बूब्स, गांड को ही देख रहा था और दो तीन बार उसने भी मुझे ऐसा करते हुए देख लिया था और उस रात को टीवी देखते समय भी ठीक ऐसा ही हुआ मेरी नजर दोबारा उसकी तरफ चली गई और ऐसे ही उसको देखने लगा वो पहले तो मुझसे शरमाई, लेकिन बाद में तो वो मेरी तरफ देखकर थोड़ा सा मुस्कुरा गई और उसकी इस हरकत की वजह से मेरी हिम्मत ज्यादा बढ़ गई और अब में भी उसे बिल्कुल निडर होकर देख रहा था और मुझे ऐसा करने में बहुत मज़ा आ रहा था. मेरे मन में ना जाने क्या क्या चल रहा था? मेरी सोच अब उसके लिए बिल्कुल बदल सी गई थी.

फिर रात को करीब 9 बजे मेरी मम्मी ने उसको बोला कि ज्यादा ठंड है तो तुम भी हमारे साथ इस रज़ाई में बैठकर टीवी देख लो क्या तुम्हे सर्दी नहीं लगती? तो वो बिना कुछ बोले मेरे पैरों की तरफ उस रज़ाई में बैठ गई और उसने रजाई को अपने पैरों के थोड़ा ऊपर तक ले लिया था जिसकी वजह से अब उसके नरम नरम पैर मेरे पैरों से छू रहे थे जिसकी वजह से में तो अब बिल्कुल पागल हो रहा था और उस वजह से मेरा लंड धीरे धीरे लंबा होने लगा और कुछ देर के बाद मैंने अपने पैर पर खुजली के बहाने से अपना एक हाथ उसके पैरों पर छू दिया, तो वो मेरी तरफ देखकर स्माइल देने लगी, जिसकी वजह से में मन ही मन खुश होने लगा था और में समझ गया कि यह अब मुझसे ज़रूर अपनी चुदाई करवाएगी और उसके बाद में रुक नहीं सका और में लेटने का नाटक करते हुए उस रज़ाई में घुस गया जिससे मेरा हाथ बड़ी आसानी से उसके पास जा सके.

फिर उसने अपने पैरों को आधा खड़ा कर लिया और मैंने अपने दोनों पैर उसके पैरों के नीचे से आगे कर दिए, जिसकी वजह से अब मेरा हाथ उसके पैरों के पास जा सकता था. अब मैंने रज़ाई ठीक करने के बहाने उसकी गोरी गरम जांघ को छूकर मज़े लिए और वो एक बार फिर से मेरी तरफ मुस्कराई. फिर तभी मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसने भी मेरा हाथ पकड़ लिया था जिसकी वजह से में अब आउट ऑफ कंट्रोल हो रहा था इसलिए मैंने थोड़ी देर उसका हाथ पकड़ने के बाद अपना 6 इंच का लंबा और इंच मोटा लंड उसके हाथ में पकड़ा दिया.

अब वो चुपचाप मेरा लंड अपने हाथ में पकड़कर धीरे धीरे अपना हाथ लंड के ऊपर नीचे करने लगी उसके हाथ का स्पर्श पाकर में जोश में आ गया और फिर मैंने भी अपने हाथ को धीरे से आगे बढ़ाकर उसकी सलवार के ऊपर से उसकी चूत को छूकर महसूस करने लगा और तब मैंने महसूस किया कि उसकी चूत एकदम गरम बहुत गीली हो चुकी थी.

करीब 11 बजे मम्मी पापा और सब लोग सोने अपने कमरे में चले गए, लेकिन हम दोनों तब भी वहीं पर लेटे रहे और हम दोनों रात को आने वाली फिल्म देखने के बहाने टीवी देखते रहे. फिर मम्मी ने जस्सी को बोला कि जब तुम्हे सोना हो तो तुम राव के साथ ही सो जाना, वो तेरा भाई है तो उसको कोई आपत्ति नहीं होगी और उनके इतना कहकर चले जाने के बाद मैंने उससे बोला कि जस्सी तू उठकर दरवाजा अच्छी तरह से बंद कर दे. फिर उसने मेरे कहने पर तुरंत उठकर दरवाजा बंद करके लाइट को भी बंद कर दिया और अब हमारे रूम में हम दोनों ही थे और हल्की हल्की टीवी की रौशनी भी थी और फिर वो मेरे पैरों के पास बैठने लगी.

तभी मैंने उससे कहा कि तुम अब मेरे साथ में लेट जाओ और मेरी बात को सुनकर वो थोड़ा सा हंसकर तुरंत मेरे पास में आकर लेट गई. अब मैंने ज्यादा देर ना करते हुए तुरंत उसको अपनी बाहों में लेकर में उसके गुलाबी होंठो को किस करने लगा और वो भी मेरा पूरा साथ देते हुए मुझे अपनी बाहों में कस रही थी. फिर कुछ देर बाद एक हाथ से में उसके बूब्स को मसल रहा था जिसकी वजह से वो अब गरम होकर जोश में आकर सिसकियाँ लेने और अब में उसको किस कर रहा था हम दोनों को बहुत मज़ा आ रहा था.

तभी उसने अपने आप मेरे कुछ कहे बिना ही वो मेरा लंड अपने एक हाथ में पकड़कर हिलाने लगी और तभी करीब दस मिनट के बाद मैंने उसकी कमीज़ को उतार दिया और सलवार को भी उतार दिया तो उसने मेरा पजामा और टीशर्ट को भी उतार दिया उसके बाद मैंने उसको किस करना शुरू कर दिया और अपने एक हाथ से मैंने उसकी पेंटी को उतार दिया में उसकी गरम चूत पर अपना हाथ फेरने लगा.

अब वो भी मेरा अंडरवियर नीचे खींच रही थी इसलिए मैंने अपनी अंडरवियर को उतार दिया उसके बाद हम दोनों ने एक दूसरे को अपनी बाहों में लेकर हम दोबारा किस करने लगे. फिर में उसके बूब्स को मसलने लगा तो कुछ देर बाद मैंने महसूस किया कि उसकी साँसे अब तेज होने लगी थी और वो पूरे जोश में थी और फिर में उसके निप्पल को अपने मुँह में लेकर सक करने लगा जिसकी वजह से वो कसमसाने लगी और उसके बाद में उसके नरम मुलायम पेट पर किस करने लगा.

कुछ देर बाद वो मेरे सर को पकड़कर अपनी प्यासी कामुक चूत की तरफ धकेलने रही थी और में समझ गया था कि वो अब मुझसे अपनी चूत को चटवाना चाहती है और इसलिए में धीरे धीरे अपना मुँह उसकी चूत के पास ले जाकर में उसकी चूत को चूमने लगा, लेकिन वो तो बिल्कुल बेसब्री होकर मेरा सर पकड़कर अपनी चूत में घुसेड़ रही थी और अब उसकी सिसकियों की आवाज़ें भी आने लगी थी वो सीईईईई आह्ह्ह्हह उफ्फ्फ्फ़ करने लगी और अपने होंठो पर जीभ घुमा रही थी.

फिर मैंने अपनी एक उंगली को उसकी चूत में डालकर में उसकी चूत के दाने को सहलाने लगा जिसकी वजह से वो बिल्कुल मदहोश होकर अपनी आखें बंद करके अपने कूल्हों को ऊपर कर रही थी. फिर मैंने अपनी दो उँगलियों को चूत में डालकर हिलाने लगा और उसके दाने को सहलाने लगा.

करीब पांच मिनट तक लिक करने और ऊँगली से उसकी चूत को चोदने से वो एकदम से उछल पड़ी और उसके बाद में वो अचानक से ठंडी होने लगी और में उसकी हालत को देखकर तुरंत समझ गया कि उसकी चूत ने अब पानी छोड़ दिया है, वो अब झड़कर बिल्कुल निढाल होकर पड़ी रही तो में उसको होंठो पर किस करने लगा और थोड़ी देर के बाद वो भी मुझे किस करने लगी और मेरा साथ दोबारा देने लगी और अब वो मेरा मोटा लंड पकड़कर धीरे धीरे ऊपर नीचे करने लगी.

करीब तीन चार मिनट के बाद वो मेरे लंड के टोपे पर अपनी जीभ को फेरने लगी. मुझे उसके ऐसा करने से बहुत मज़ा आ रहा था और में उसके सर पर अपना हाथ घुमाकर सहला रहा था. फिर जब थोड़ी देर के बाद मेरा लंड पूरी तरह से सरिये की तरह तनकर खड़ा हो गया तो मैंने उसको उसके दोनों पैरों को ऊपर करने के लिए कहा तो उसने मुझसे बोला कि ठीक है में अभी करती हूँ, लेकिन आप बहुत धीरे से डालना आपका लंड बहुत मोटा और लंबा है मुझे बहुत दर्द होगा. अब मैंने उससे पूछा कि क्या इससे पहले भी कभी तुमने अपनी चूत को चुदवाया है?

वो बोली कि हाँ भैया में इससे पहले भी अपने एक बॉयफ्रेंड से अपनी चूत की चुदाई करवा चुकी हूँ, लेकिन अब मुझे सेक्स किए हुए बहुत समय हो चुका है और मेरी चूत अब किसी के लंड के लिए बहुत तरस रही हूँ प्लीज अब ज्यादा देर मत लगाओ और चोद दो मुझे और मुझे वो मज़े दे दो जिसके लिए मैंने अब तक इंतजार किया. मेरा बॉयफ्रेंड तो मुझे आधे रास्ते में ही धोखा देकर चला गया. अब आपसे मुझे वो सुख चाहिए प्लीज थोड़ा जल्दी से मेरी प्यास को बुझा दो.

मैंने उसको बोला कि ठीक है तुम्हे दर्द तो होगा, लेकिन खून नहीं आएगा. अब में उसके पैरों के बीच में आकर उसके दोनों पैरों को ऊपर करके उसकी छाती के पास तक ले जाकर मैंने अपना लंड उसकी चूत के ऊपर रख दिया तभी वो मेरी तरफ देखकर मुस्करा रही थी.

अब मैंने उसके कंधो को पकड़कर धीरे धीरे दबाव डालते हुए अपना लंड उसकी चूत में डालना शुरू कर दिया. अभी मेरे लंड का उसकी चूत में टोपा ही गया था कि वो मुझसे कहने लगी उफफ्फ्फ्फ़ आईईईईई माँ मर गई प्लीज़ मुझे बहुत दर्द हो रहा है ऊईईईइ माँ में मर जाउंगी आप इसके ऊपर कुछ लगा लो, सूखा लंड अंदर जाने में दर्द हो रहा है प्लीज बाहर निकाल लो इसको.

फिर मैंने वैसे ही रुककर अपने लंड को उसकी चूत से बाहर निकाल लिया और अपने मुहं से थूक बाहर निकालकर मैंने अपने लंड पर लगा लिया उसके बाद मैंने अपने लंड को चूत के मुहं पर दोबारा लगाया और में उसको बोला कि तुम तुम्हारे दोनों हाथों से अपने कूल्हों को खोल लो.

अब उसने जैसे मैंने उससे कहा था वैसा ही किया और मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुहं पर रखकर एक जोरदार धक्का दे दिया, जिसकी वजह से मेरा आधा लंड उसकी चूत के अंदर फिसलकर जा चुका था और तब मैंने रुककर उससे पूछा कि क्यों अब तो तुम्हे दर्द नहीं हो रहा है ना?

तब वो कहने लगी कि नहीं उसके बाद में मैंने अपने लंड से उसकी चूत में धीरे धीरे झटके लगाने शुरू कर दिए और थोड़ी देर के बाद उसकी चूत भी अब जोश में आकर गीली हो गई थी जिसकी वजह से मेरा पूरा लंड उसकी चूत में अंदर तक बिना किसी रुकावट के जाने लगा था और वो भी अब बहुत खुश होकर अपने कूल्हों को ऊपर उठाकर मुझे अपनी चुदाई करवा रही थी और मैंने उससे बोला था कि तुम अपने मुँह से कोई भी आवाज नहीं निकलना, इसलिए वो अपने होंठो पर अपनी जीभ को घुमा घुमाकर मेरे साथ अपनी चुदाई के मज़े ले रही थी और करीब 15 मिनट के बाद उसने मुझे ज़ोर से अपनी बाहों में पकड़कर कस लिया और में तुरंत समझ गया कि उसकी चूत ने दोबारा पानी छोड़ दिया है, लेकिन में अभी भी धक्के लगा रहा था और मेरा लंड हर एक धक्के से उसकी चूत के पूरे अंदर तक जा रहा था.

में तो उस मज़े में पागल हो रहा था पूरे 45 मिनट तक उसको लगातार धक्के देकर चोदने के बाद मेरे लंड का पानी निकल गया, जिसको मैंने जस्सी की चूत में अंदर तक जाने दिया था.

दोस्तों जस्सी उस चुदाई में करीब चार बार अपनी चूत का पानी छोड़ चुकी थी. फिर में उसके ऊपर ही पड़ा रहा तो जस्सी ने मुझसे कहा कि भाई मैंने अपनी चूत की चुदाई तो पहले भी बहुत बार करवाई है, लेकिन जितना मज़ा आज मुझे आपने चुदाई का दिया शायद वो मुझे दोबारा जिंदगी में भी ना मिले. आपने मुझे वो पूरा मज़ा दिया जिसके लिए मैंने आपसे अपनी चूत को चुदवाया है और आप बहुत अच्छी चुदाई करते हो, वाह मज़ा आ गया. फिर दोस्तों जस्सी हमारे घर पर पूरे दो सप्ताह तक रही और हम दोनों हर रोज रात को टीवी पर फिल्म देखने के बहाने एक साथ सोते और घरवालों के सो जाने के बाद चुदाई करते बहुत मज़े लिया करते.

(Visited 627 times, 1 visits today)