मारिया को खेत में ले जाकर चोदा

desi sex stories हेलो दोस्तों | मेरा नाम निवास है | मेरी उम्र 29 साल है | मै बिहार के पटना शहर में रहता हूँ | मैंने अपनी पढाई पूरी करने के बाद एक अच्छी सी जॉब करने लगा था | लेकिन मै अपने घर में इकलौता लड़का हूँ | और मेरे पापा के पास बहुत सारी जमीन पड़ी हुई है |उनके कई फॉर्म हॉउस है | हमारी जमीन दूर दूर गाँवो में है | इसी लिए जमीन में बुवाई का काम वहां जाकर ही देखना पड़ता है | जब तक पापा ठीक थे तब तक तो मैंने जॉब की लेकिन जैसे ही उनकी तबियत गड़बड़ हो गई मुझे अपनी नौकरी छोडनी पड़ी | अब पापा का सारा काम मुझे संभालना पड़ता है | वैसे तो मुझे खेती के बारे में कुछ भी नही पता था | लेकिन अब मुझे थोडा थोडा पता चलने लगा था | अब मुझे अपने फॉर्म हॉउस पर जाकर अपनी निगरानी में काम करवाना होता है अब मै कुछ अपने बारे में भी बता दूँ | मै एक लम्बा चौड़ा लड़का हूँ | मेरा लंड 6 इंच लम्बा है | वैसे तो मैंने कॉलेज टाइम में बहुत ही लड़कियों को चोदा है | लेकिन जब से मेरी जॉब छूती है मै तो बस चूत के लिए तरस गया हम अब तो बस चूत की ही तलाश थी |

अब कहानी के बारे में बताता हूँ | ये करीब 1 साल पहले की बात है | मेरा एक फॉर्म हॉउस आरा जिले के एक छोटे से गाँव में पड़ता है | मै हमेशा वंहा जाने से कतराता हूँ | क्योकि ये फॉर्म हॉउस बहुत ही अन्दर है | वहां कोई ढंग की फैसिलिटीज़ नही है | तभी पापा का फरमान आया की मै वहां जाकर बुवाई करवाकर आऊँ | इस काम के लिए मुझे करीब 10 दिन वहां रुकना था | मेरा बिलकुल भी मन नही था फिर भी पापा की बात मै टाल नही सकता था | फिर क्या था मैंने अपनी गाड़ी निकाली और चल दिया | वंहा शाम को पहुंचा | मै बहुत थक गया था | वहां का फॉर्म हॉउस एक पति पत्नी देखते थे | जोजफ ही वहां की सारे खेतो का हिसाब रखता था | और उसकी पत्नी मारिया फॉर्म हॉउस की देखभाल करती थी | वो वही फॉर्म हॉउस कर बगल में एक कमरे में रहते थे | जब मै पहुँचा तो दोनों बहुत खूश हुवे | उन्होंने ने मेरे खाने पीने की अच्छी व्यवस्था कर ली थी | मैंने भी खाना खाया और जाकर कमरे में सो गया | अगले दिन सुबह मारिया चाय लेकर मेरे कमरे में आई | उसने एक चूड़ी दार सूट पहन रखा था | जिसमे वो बहुत ही खूबसूरत लग रही थी | वैसे उसका फिगर कुछ खास अच्छा नही था लेकिन फिर भी उसके बड़े बड़े बूब्स तो ऐसे थे | मनो बुला रहे हो कि आओ और पी जाओ मुझे | एक पल उसे ऐसे ही देखने के बाद | मैंने चाय ली और पीने लगा | फिर तैयार होकर खेतो में चला गया | वहां दिन भर काम देखा फिर दोपहर में चला आया | अब वहां टाइम पास का कोई साधन तो था ही नही | मै बोर हो रहा था | तो शाम को ऐसे ही बाहर निकला | मै जोजफ के घर के पास खड़ा था तभी मुझे पानी की आवाज आई | मै समझ गया कि कोई नहा रहा है | तभी पास में एक टूटा सा बाथरूम बना हुआ था | मै पास गया और उसके एक छेद से झाँकने लगा | अंदर जो देखा तो मेरी आँखे फटी की फटी रह गई | मरिया नहा रही थी | वो एकदम नंगे थी | उसका ये रूप तो मेरे टन बदन में आग लगा रहा था | मै थोड़ी देर तक उसके बूब्स और चूत को निहारता रहा | फिर उसके वहां से निकलने से पहले भाग कर अपने कमरे में चला गया | और फिर मुठ मार कर अपनी वासना को शांत किया |

अब शायद मुझे लग रहा था कि मेरी चूत की कमी मारिया पूरी करेगी | मैं तो बस उतावला हो रहा था | अब तो बस मरिया को चोदने का प्लान करने लगा | अब जब भी वो मेरे पास अति मै उसके बूब्स को देखने की कोशिश करता | तो कभी उसे जान बूझ कर टच कर देता था |

ऐसे ही करीब 7 दिन बीत गए | अगले दिन शाम को मैं फॉर्म हॉउस के बाहर टहल रहा था | तभी मरिया आ गई | मैंने अच्छा मौका देखा | मैंने मरिया से कहा चलो आज तुम मुझे अपने पास वाले खेत में ले चलो मै यहाँ बोर हो रहा हूँ | उसने हामी भर दी मै उसके साथ चल दिया | हम जैसे ही खेत में पहुंचे | मरिया कुछ उठाने के लिए झूकी कि उसकी सलवार चर्र से फट गई | वो शरमाने लगी | मैंने सोचा ये अच्छा मौका है इसे चोदने का | मैंने उसको पकड़ लिया और कस के उसके होंठो पर किस करने लगा | मरिया ने मुझे धक्का दिया और बोली ये क्या कर रहे हैं आप | मैंने कहा देखो मारिया मैं तुम्हे चोदना चाहता हूँ | मेरी इच्छा पूरी कर दो | अगर तुम मेरी इच्छा पूरी करोगी तो मैं तुम्हे बोनस दूंगा वर्ना तुम्हे और तुम्हारे पति को नौकरी से निकल दूंगा | वो मान गई | अब मै उसे फिर से किस करने लगा |अब वो भी मेरे साथ दे रही थी | अब शायद वो भी चुदने के लिए एकदम तैयार हो गई थी | मैं उसे खेत के बीचों बीच ले गया | और उसके कपड़े निकलने लगा | उसके बाद मैं उसकी चूत की तरफ बढ़ गया और वहां पर बड़े ही प्यार से किस करने लगा | मेरी जबान और ऊँगली दोनों को मारिया के चूत में थे वो भी बस मज़े लेने लगी थी | मारिया अह्ह्ह्ह अह्ह्ह आह्ह्हह्ह.. कर रही थी | और बोल रही थी साहब आप तो एक दम अच्छे से चूत चाटते हो मेरे मर्द को तो ये आता ही नही है | मैं और भी जोर से उसकी चूत मे अपनी जबान डाल कर चाटने लगा | चूत को चटवाने की इसलिए उसकी ये बेताबी समझी जा सकती थी | मैंने उसकी गांड को पकड़ के उसको ऊपर की तरफ उठाया और वो एकदम से झड गई |

5 मिनिट के बाद मैं खड़ा हुआ और मारिया को सीधा जमीन पर ही लिटा दिया और अपनी लोअर नीचे कर ली | उसने झट से उसे पकड़ लिया और उसे हिलाने लगी | फिर उसने मेरे लंड को अपने मुहं में ले लिया और देसी अंदाज़ में चूसने लगी | मैंने अपने लंड को उसके निपल्स के ऊपर घिसा | मेरा लंड भी अब एकदम उबाल मार रहा था |

फिर मैं मारिया के ऊपर आ गया | मैंने धीरे धीरे कर के अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया और उसको चोदने लगा | पहले पहले मैंने एकदम स्लो स्लो चोदा इस सेक्सी मरिया को | फिर मेरी स्पीड बढ़ गई | वो भी आह्ह्हह्ह्ह्हह्ह… आय्ह्ह्ह…अय्य्य्हह्ह्ह कर के हिल रही थी | और अब मस्त चुदवा रही थी | फिर मेरे लंड का पानी मारिया की चूत में निकल गया | मैंने कुछ देर ऐसे ही लंड को उसकी चूत में रखा | और ऐसे ही लेटा रहा | फिर मै उठा औरअपने लंड को एक बार फिर उसके मुंह में दे दिया | उसने लंड को थोडा चूसा और वो एकदम कडक हो गया | अब वो वो खड़ी हुई और मैं नीचे लेट गया | वो चूत में लंड को ले के ऊपर चढ़ गई | मेरे दोनों हाथ उसके बूब्स के ऊपर थे और मैं उसको चोद रहा था | वो भी अपनी गांड के धक्के मेरी जांघो के ऊपर दे के मजे से लंड अपनी चूत में ले रही थी | और आआह्ह्ह्ह… उह्ह्ह्ह…. और बोल रही थी साहब और जोर से चोदो मुझे आह्हह.. अआह्ह्ह…कर के मज़े ले रही थी | करीब आधे घंटे तक मैंने उसे कई बार जम के चोदा |

फिर हमने कपड़े पहने और वापस चले आये | इसके बाद मैं जब तक वहां रहा मारिया को रोज़ जम कर चोदा | मैंने उसको बोनस भी दिया और कुछ पैसे अलग से भी दे दिए | अब मैं जब भी वहां जाता हूँ | मेरी तो मौज होती है उसे जम कर चोदता हूँ |