लिफ्ट में अनुराधा की पहली ट्रैनिंग

hindi porn stories हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अमित है। मेरे सामने के घर में एक बहुत ही खूबसूरत लड़की रहती है, उसकी उम्र 18 साल थी, उसका नाम अनुराधा है, वो दिखने में फिट है और बहुत सेक्सी है। में उसकी खूबसूरती पर फिदा था और रोज अपने ख्यालों में उसके साथ सेक्स करने की सोचता रहता था। मेरे घर की छत और उसके घर की छत पर सिर्फ़ एक 10 फुट की दीवार का अंतर है, लेकिन यदि थोड़ी सी हिम्मत की जाए तो छत से छत पर कूदकर किसी के भी घर में जाया जा सकता है। अब में उसे देखकर स्माइल देता, लेकिन आखरी में मैंने उसे फ्लर्ट करना शुरू किया और जानबुझकर शुरू में उसे बता दिया कि तुम बहुत खूबसूरत हो और में तुम्हें ख्यालों में किस करता हूँ। तब उसने मुझे देखा और स्माइल देकर छत से चली गयी थी।

फिर उसके बाद हम दोनों फ्रेंड बन गए। वो मेरे घर कभी भी नहीं आती थी, अब में ही उससे मिलने सामने से चला जाता था। वो रात को 8 से 9 बजे तक कोचिंग के लिए जाती थी। में उससे इतना फ्रेंक था कि उसे टच करने लगता था, जानबूझकर उससे टकराता था और उसे पकड़ता था, तो तब वो भी सिड्यूस हो जाती थी। फिर उस रात मेरे घरवाले किसी शादी में गए हुए थे। अब में घर में अकेला था, अनुराधा की कोचिंग टीचर किसी फ्लेट में रहते थे। फिर अनुराधा जैसे ही 8 बजे घर से निकली तो तब में भी घर से निकल आया। तब उसने पूछा कि घर में कोई नहीं है क्या? तो तब मैंने कहा कि नहीं। तो तब उसने मुझसे कहा कि मुझे आगे तक नहीं छोड़ोगे। तो तब में मान गया, बल्कि में तो इसी वक़्त का इंतज़ार कर रहा था।

फिर हम दोनों कुछ दूर चले गये। अब हम टीचर के घर के लिफ्ट के पास आ गये थे और अंदर हो गये। फिर उसने लिफ्ट के बटन दबाये, जहाँ उसे जाना था। उस लिफ्ट का दरवाज़ा खोलते ही एक बड़ा सा शीशा है। अनुराधा की टीचर का फ्लेट चौथे फ्लोर पर था। अब अनुराधा शीशे की तरफ करके खड़ी थी। अब में उसके बिल्कुल पीछे था और वो शर्ट और पेंट पहने हुई थी। फिर मैंने उसे पीछे से थोड़ा हाथ लगाया और फिर उसकी गर्दन पर अपना एक हाथ ले गया, तो तब मैंने उसके बूब्स खड़े होते देखे। अब उसे मज़ा आने लगा था। फिर में उसके थोड़ा और नजदीक गया तो तब उसने कहा कि कोई आ जाएगा। फिर उसके थोड़ी देर के बाद ही लिफ्ट में प्रोब्लम हो गयी। (लिफ्ट बंद हो गयी थी) तब मैंने अनुराधा से कहा कि अब कोई नहीं आएगा और फिर मैंने उसकी गर्दन पर किस किया। तब उसने अपनी आखें बंद कर ली। फिर मैंने उसे हर जगह टच किया।

 

अब वो आगे शीशे पर अपने हाथ फैर रही थी, क्योंकि मैंने उसे पीछे से आगे ज़ोर दे रखा था। फिर मैंने उसकी शर्ट के बटन खोले और अपनी शर्ट भी उतार दी। तब मुझसे रहा नहीं गया और फिर मैंने जल्दी से उसकी पेंट उतारी और उसके पीछे से उसके पूरे जिस्म पर किसिंग की। फिर मैंने उसकी चूत पर अपना एक हाथ फैरा तो वो पूरी तरह से गीली हो चुकी थी। फिर मैंने अपनी पेंट और अंडरवेयर उतारी और उसकी ब्रा को भी पीछे से खोल दिया था। फिर मैंने उसकी पेंटी उतारी और उसे लिफ्ट में ही लेटा दिया। फिर उसके बाद मुझसे सब्र नहीं हुआ और फिर मैंने उसकी चूत के अंदर अपना लंड डाला। उसकी चूत का छेद बहुत टाईट था। फिर मैंने अपने लंड की टोपी उसके टाईट छेद में घुसाई तो तब उसने चीख मारी और दर्द से करहाने लगी थी। तब मैंने अपने लंड को बाहर निकाला और अनुराधा से कहा कि इसे अपने मुँह में लो और गीला करो। तब वो एक बार तो घबरा गयी, लेकिन मैंने कहा कि गीला नहीं करोगी तो तुम्हें थोड़ी तकलीफ होगी। तब वो मान गयी और फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया, वाह बहुत मज़ा आ रहा था। अब मेरा लंड भीग चुका था और अब हम और गर्म हो रहे थे।

फिर मैंने अपना लंड उसकी टाईट चूत में डालने की कोशिश की और एक बार में ही पूरा सूपाड़ा अंदर कर दिया। अब मेरा आधा लंड अंदर चला गया था और उसे कम तकलीफ हुई, जिसके कारण उसका पूरा साथ मिल रहा था। फिर मैंने बहुत देर तक कोशिश की और उसके बाद उसके अंदर अपना पूरा लंड घुसा दिया। तब उसमें बिजली दौड़ उठी। अब उसकी चूत में से खून आने लगा था, लेकिन उसने कुछ नहीं कहा। फिर मैंने उसे खूब चोदा और चोदते-चोदते मैंने उससे पूछा कि तुम्हरी ये पहली चुदाई है ना? तो तब वो हाँ बोली। अब लगभग 9 बजे चुके थे और अब में एक बार झड़ चुका था। फिर जब में पहली बार झड़ा तो मैंने उसे उसके ऊपर गिरा दिया। तब अनुराधा ने कहा कि कितना सारा पानी छोड़ते हो? तो तब मैंने कहा कि अब की बार में अंदर ही पानी छोड़ूँगा। तो वो डर गयी और कहने लगी कि ऐसा मत करना, नहीं तो में प्रेग्नेंट हो जाऊंगी। तब मैंने कहा कि ऐसा कुछ नहीं होगा और फिर में धक्के पे धक्के देता चला गया। तब उसने कहा कि प्लीज अब जाने दो, में लेट हो गयी हूँ। अब वो इतनी चुद चुकी थी कि वो उठ भी नहीं सकती थी। लेकिन इस बार मैंने अपना पानी उसकी चूत में ही छोड़ दिया था। तो तब उसे अहसास हुआ कि उसकी चूत में गर्म-गर्म मलाई जैसा क्या लग रहा है? फिर हमने कपड़े पहने और लिफ्ट चला दी। फिर वो अपने घर पहुँची और में अपने घर पहुँचा। फिर हम दोनों ने प्लानिंग की और अब हमारा जब भी मन करता है तो तब हम मौका खोजते है और हम फिर से इन्जॉय कर लेते है ।।
धन्यवाद