जवान लडकियों की चूत की मस्त चुदाई भाग -1

Jawan ladkiyon ki chut ki mast chudai part 1:

हेलो दोस्तों | मै प्रकाश लखनऊ से हूँ | मेरी उम्र 26 साल है | मैंने अपनी पढाई पूरी करने के बाद एक कंप्यूटर सेंटर अपने ही शहर में खोल लिया था | मुझे नौकरी मिल रही थी लेकिन मैं घर से दूर नाह जाना चाहता था इसी लिए | अब थोडा अपने बारे में भी बता दूँ | मै रोज़ जिम जाता हूँ | और जिम करके अपना शरीर बनाया है | मेरी बॉडी देख कर तो अच्छी से अच्छी लड़कियां फिसल जाती है | मैं चुदाई का बहुत शौक़ीन हूँ | मुझे चोदने ने इतना मज़ा आता है कि मै बता नही सकता | वैसे मेरा लंड भी 7 इंच लम्बा है | जिस की भी चूत में जाता है उसका भोसड़ा बना देता है | वैसे तो मै कई लडकियों को छोड चुका हूँ | एक बार तो एक आंटी की गांड भी फाड़ी थी |

मेरी एक गर्ल फ्रंड भी है जो मेरे साथ पढ़ती थी | वो करीब 2 साल से मेरी गर्ल फ्रंड है | मै उसे कई बार चोद चुका हूँ | वैसे तो मै हर बार एक नई चूत की तलाश में रहता हूँ | फिर भी अपनी गर्ल फ्रंड को तो महीने में कम से कम एक बार जरुर चोदता हूँ | वैसे मेरी गर्ल फ्रंड भी बहुत चुदक्कड किस्म की लड़की है वो भी एक बार कहने पर ही चुदने के लिए तैयार हो जाती है | और जम कर मेरे साथ चुदाई के मज़े लेती है | वो अपनी गांड उठा उठा कर चुदती है |

चलिए अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ | ये बात तब की है जब स्कूलों में गर्मी की छुटियाँ हो गई थी | तभी ज्यादा बच्चे मेरे कम्प्यूटर सेंटर को ज्वाइन करते है | मेरे सारे बैच भर गए थे | मैं बहुत खुश था अपने सेंटर की कामयाबी से | लेकिन अब मै बहुत थक जाता था | मेरे सारे बैच सुबह 8 बजे से रात 7 बजे तक चलते थे | एक बार शाम को मैं अपने सारे बैच पढ़ा के थक कर अपनी कुर्सी पर बैठा हुआ था | तभी एक सुंदर से लड़की ने मेरे कंप्यूटर सेंटर प्रवेश किया | जैसे ही मैंने उसे देखा मै तो बस पागल हो गया था उसकी ख़ूबसूरती देख कर | क्या फिगर था उसका | उसकी जीरो कमर तो और भी आकर्षित कर रही थी | मेरी सारी  थकान उसे देखते ही गायब हो गई थी | वो पास आई और फिर उसने बताया की वो मेरा कम्प्यूटर सेंटर ज्वाइन करना चाहती है | मैंने तुरंत हामी भर दी | वो खुश हो गई | फिर मैंने उसे फॉर्म दिया और उसने जल्दी से उसे भर दिया | जगह न होते हुवे भी मैंने आखिरी बैच में डाल दिया | क्योकि मै उसे किसी भी हालत में जाने नही देना चाहता था |

उसके जाने के बाद मैंने उसके नाम की पहले तो मुठ मारी और सोच लिया की अब तो कैसे भी बस इसे चोदना है | अब उसकी क्लासेज़ स्टार्ट हो गई | पढ़ाने के बीच बीच में मै उसे देख लेता था | अब तो बस मौके की तलाश थी | वो भी ये सब गौर कर रही थी |शायद वो भी मुझ पर फ़िदा हो गई थी | इसी लिए बार बार कुछ न कुछ पूछने के बहाने मेरे पास आ जाती थी | मै भी आराम से मज़े ले ले कर उसे बताता था |एक बार वो मुझसे कुछ डाउट पूछने आयी  | बैच का समय ख़त्म हो चुका था | सब जाने लगे थे मैंने कहा की अगर जल्दी में न हो तो बैठो आज तुम्हारे सारे डाउट क्लीयर कर देता हूँ वो मान गई | कुछ देर बाद सब वहां से चले गए | सिर्फ हम दिनों बचे |फिर मैं उसके डाउट बताने लगा वो मेरे पास कड़ी थी | उसकी गर्मी ने तो मुझे बस मदहोश कर दिया था | या=मैंने उसे झट से पकड़ा और जोर से उसके लिप्स पे किस कर दिया | उसने कहा ये आप क्या कर रहे हैं सर | मै उससे माफ़ी मांगने लगा | मैंने कहा की तुम इतनी जवान हो |की मै अपने आप को रोक नही पाया मुझे माफ़ कर दो | उसने कहा कोई बात नही सर ये सब करने से पहले कम से कम दरवाज़ा तो बंद कर लेते | ये सुनकर मै तो एक डीएम भौचक्का रह गया | मै बस उसे देख रहा था | वो मुस्कुरा रही थी | मैंने तुरंत दरवाज़ा बंद किया ओर फिर जल्दी से आकर उसके ऊपर किसो की बौछार करने लगा | फिर उसकी स्कर्ट निकल दी | और एक हाथ से उसके बूब्स को दबा रहा था | फिर मैंने उसकी ब्रा खोल दी और उसके बूब्स बाहर निकल आए | मैंने उससे उसका साइज़ पूछा तो उसने बताया  32-28-34 है |

फिर मैं उसके पिंक निप्प्ल्स को चूस रहा था मैंने उसकी निपल पर दांत का निशान कर दिया वो चिलाने लगी |अब मैंने जींस उतार दी और अपनी पैंट और अंडरवेअर भी उतार दी | वह मेरा 7 इंच का लंड देख कर बोली आज तो चुदाई का पूरा मजा लुंगी आप के लंड से | मैंने कहा ये आज पूरी तरह से तुम्हारा है | ये आज तुम्हारे सारे डाउट क्लीयर कर देगा | वो हसने लगी | फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया | और वह सक करने लग गई | मैंने उसकी पैंट को खींच कर निकाल दिया | और फिर पैंटी भी निकल दी | जो एकदम गीली हो चुकी थी | उसकी चूत एकदम साफ़ थी | मैं धीरे धीरे उसकी चूत में उंगली करने लगा | वो जोर जोर से आवाजे निकल रही थी | आह्ह्ह्ह… उफ्फ्फह्ह्ह …. फ़क मी सर | उधर चूसते चूसते उसने मेरा पानी निकल दिया | और मेरा रस पी गई |

मैं उसकी चूत पर आया और उसकी चूत को चाटने लग गया वह सिसकियां ले रही थी वह गर्म हो चुकी थी | मैं 5 मिनट तक उसकी चूत को चाटता रहा | अब उसका निकलने वाला था | तो मैं उसका सारा रस पी गया |उसका चूत रस बहुत ही टेस्टी था | ऐसी चूत का मज़ा मुझे पहले कभी भी नही मिला था |

फिर वह बोली अब मत तड़पाओ सर चोद डालो अपनी मुझे |

फिर मैंने अपना लंड पकड़ कर उसकी चूत पर लगाने लगा और धक्का मारने पर मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया और सीमा उछलने लग गई | और जोर जोर से चिल्ला रही थी | ओह्ह्ह येस्स फक मी…आःह्ह्ह ….फक मी हार्ड …… आह्ह्हह्ह….. ओह्ह्ह्ह…. आह्ह.. |

मैने 30 मिनिट तक उसकी चूत मारी और उसकी चूत में ही मैने माल निकाल दिया |

फिर मैंने उसको कुत्ती बनने को कहा और वह बन गई | मैंने अपना लंड पीछे से चूत में डाल दिया | वह बहुत आवाजे निकाल रही थी | और उसका रस 3 बार निकल चुका था | मेरा लंड अभी भी उसकी चूत को मार रहा था | वह रुकने को कहने लग गई, मैंने कहा जानेमन आज तो जन्नत का मजा लो पूरा |

फिर मेरा रस उसकी चूत में निकल गया | फिर वो उठी और अपने कपड़े पहने और चली गई | अगले दिन वो नही आई | शायद चुदाई के दर्द की वजह से | कुछ दिनों बाद वो फिर क्लास आने लगी | अब मैं जब उसे देखता तो तुरंत स्माइल करने लगती | उसके बाद जब हमार मूड बनता | वो डाउट के बहाने रुक जाती और मैं उसकी जम कर चुदाई करता था | फिर एक बार उसने कहा कि उसे मेरी हेल्प चाहिए | मैंने कहा बताओ मै तुम्हारी हेल्प जरुर करूँगा | वो खुश हो गई | उसने कहा की कल वो क्लास के बाद मेरे बारे में बात करेगी |

बाकी कहानी अगले भाग में …….