जवान लड़की मेरी तरफ आकर्षित हो गई

antarvasna, hindi sex story

मेरा नाम दिनेश है मैं 40 वर्ष का एक शादीशुदा व्यक्ति हूं, मेरे घर पर मेरी पत्नी और मेरे दो लड़के हैं, मैं सरकारी विभाग में काम करता हूं और मैं पुणे का रहने वाला हूं। मैं अपने जीवन में खुश रहना पसंद करता हूं, मैं किसी भी प्रकार से तनाव नहीं लेता, मेरे घर वाले हमेशा ही कहते हैं कि तुम बहुत ज्यादा खर्चा करते हो बिल्कुल भी पैसे सेविंग नहीं करते हो  लेकिन मैं अपनी ही दुनिया में रहता हूं। मेरी जैसी इच्छा होती है मैं उसी प्रकार से अपना जीवन जीता हूं लेकिन मैंने अपने घर वालों को कभी भी कोई कमी नहीं होने दी। मैं उनसे हमेशा कहता हूं कि मैंने जब तुम्हें किसी भी प्रकार की कोई कमी नहीं होने दी तो तुम्हें भी मेरी बात माननी चाहिए। मेरे माता-पिता हमेशा ही मुझे समझाते हैं और कहते हैं कि तुम्हारी उम्र भी हो चुकी है लेकिन उसके बावजूद भी तुम बहुत ही अयाशी करते हो, तुम्हें थोड़ा बहुत अपने ऊपर कंट्रोल करना पड़ेगा तभी तुम कुछ पैसे बचा पाओगे। मेरे पिताजी ने मेरे नाम पर दो फ्लैट लिए हुए हैं, एक हमने किराये पर दिया हुआ है और दूसरे  में हम लोग रहते हैं।

मैं एक दिन अपने घर पर गाने सुन रहा था मुझे पुराने गाने सुनने का बहुत शौक है और मेरे पड़ोस में ही एक परिवार रहता है, उनके घर पर एक लड़की आई हुई थी, वह जब मुझसे मिली तो कहने लगी कि आपके पास पुराने गानो का एक बहुत ही अच्छा कलेक्शन है, क्या आप मुझे भी वह कलेक्शन दे सकते हैं। मैंने उसे कहा कि हां तुम मुझसे वह गानों के कलेक्शन ले लेना। उस लड़की की उम्र 27 28 वर्ष की रही होगी, उसका नाम कावेरी है। मैंने उससे पूछा कि क्या तुम भी पुराने गाने सुनना पसंद करती हो, वह कहने लगी हां मुझे पुराने गाने सुनने का बहुत ही शौक है और जब भी मैं खाली होती हूं तो उस वक्त मैं पुराने गाने सुन लिया करती हूं और मुझे पुराने गाने सुनना बहुत पसंद है लेकिन मेरे पास आपके जितने कलेक्शन नहीं है। मैंने कावेरी को वह कलेक्शन दे दिया और उस दिन वह हमारे पर काफी देर तक बैठी रही। मैंने उससे पूछा कि तुम कहां रहती हो, वह कहने लगी कि मैं भी पुणे में ही रहती हूं और मैं जॉब करती हूं। मैंने ससे पूछा कि तुम्हारे घर पर कौन-कौन है तो वह कहने लगी कि हमारे घर पर मेरे माता-पिता और मेरा बड़ा भाई है, मेरा बड़ा भाई भी जॉब करता है और मेरे पिताजी भी जॉब पर ही, मेरे पिताजी कुछ समय बाद रिटायर होने वाले हैं।

Loading...

कावेरी मुझे कहने लगी कि मुझे आपके साथ बात कर के बहुत अच्छा लगा। मैंने उस दिन कावेरी को अपने घर वालों से भी मिलवाया, वह मेरे घर पर पहली बार आई थी इसलिए मैं भी उसे पहली बार ही मिला था। थोड़ी देर बाद वह हमारे घर से चली गई। जब भी वह हमारे पड़ोस में आती तो मुझसे जरूर मिलती थी, मुझे भी कावेरी के साथ में बात करना अच्छा लगता था, मुझे ऐसा लगता था जैसे उसके अंदर मैं अपने आप को देख रहा हूं क्योंकि जिस प्रकार से उसका जीने का तौर तरीका है वह बिल्कुल मेरे तरीके का ही है इसलिए मैं उसे हमेशा कहता कि तुम बिल्कुल मेरे तरीके से जीना पसंद करती हो। वह कहने लगी कि मैं अभी अपने जीवन में किसी भी प्रकार की बंदगी पसंद नहीं करती और अपने तरीके से ही अपना जीवन जीना पसंद करती हूं, मुझे मेरे घर वालों ने आज तक कभी भी किसी चीज के लिए नहीं रोका और इसीलिए मैं उनकी बहुत ज्यादा रिस्पेक्ट करती हूं, उन्होंने भी मेरे खुले विचारों का हमेशा ही सम्मान किया है। मैंने कावेरी से कहा कि हां मैं भी बिल्कुल तुम्हारी तरह ही हूं, मैं बचपन से ही अपने जीवन में किसी भी प्रकार की बंदिश नहीं चाहता। कावेरी और मेरी मुलाकात काफी बार हुई, मैं जब भी अपने ऑफिस से लौटता तो मैं अक्सर कावेरी को फोन कर दिया करता और वह भी मुझसे काफी बात करती थी। उसे भी मुझसे बात करना अच्छा लगने लगा, हम दोनों ही एक दूसरे से बात कर लिया करते थे। वह हमेशा ही मुझसे पुराने गानों का कलेक्शन मांगती रहती और मैं उसे हमेशा ही पुराने गानों का कलेक्शन दे दिया करता। मुझे यह बात समझ नहीं आ रही थी कि कावेरी के साथ मुझे समय बिताना क्यों अच्छा लग रहा है, मेरे दिल में उसके लिए कोई भी फीलिंग नही थी लेकिन उसके बावजूद भी मुझे उससे बात करना बहुत अच्छा लगने लगा। वह भी मुझे हमेशा ही मेरी बातों का जवाब दे दिया करती थी।

मैं जब भी उसे कॉल करता तो वह हमेशा ही मेरा फोन उठाती और मुझे ऐसा लगता कि जैसे वह मेरे कॉल का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रही है लेकिन उसके बावजूद भी मैंने कभी भी उसे अपने दिल की बात नहीं कही क्योंकि मुझे समझ नहीं आ रहा था कि मेरे दिल में उसके लिए क्या चल रहा है। मुझे डर भी लगा रहता की कहीं मेरी पत्नी को मेरे बारे में पता चलेगा तो वह मेरे बारे में गलत सोचने लगेगी लेकिन कावेरी का जिस प्रकार का नेचर है वह मुझे बहुत ही पसंद है, वह मुझे अपनी तरफ हमेशा खींचता है। एक दिन मैं घर पर ही था और उस दिन कावेरी घर पर आ गई, वह मुझसे पूछने लगी कि आप कैसे हो, मैंने उसे कहा कि मैं तो बहुत अच्छा हूं लेकिन काफी समय से तुम दिखाई नहीं दे रही हो, ना ही तुमसे मेरी फोन पर बात हो पाई है। वह कहने लगी कि हां मैं कुछ समय के लिए ऑफिस के काम से कहीं बाहर गई हुई थी इसलिए मैं आप से फोन पर भी बात नहीं कर पाई। उसने भी मेरे बारे में पूछा और कहने लगी, आपके घर में सब लोग कैसे हैं, मैंने उसे कहा कि सब लोग अच्छे हैं और मैं भी बहुत अच्छा हूं, मैं सुबह अपने काम पर चला जाता हूं और आज शाम को ही घर लौट ना होता है।

मैंने कावेरी से पूछा कि तुम्हारे घर पर सब लोग कैसे हैं, वह कहने लगी हमारे घर पर भी सब लोग कुशल मंगल है।  इतने में मेरी पत्नी भी आ गई और वह कावेरी से उसका हालचाल पूछने लगी। उस दिन मेरे माता-पिता और मेरे दोनों बच्चे हमारे किसी रिस्तेदार के घर गए हुए थे। मेरी पत्नी और कावेरी आपस में बात कर रहे थे और मैं अपने रूम में चला गया। मैंने अपने रूम में पुराने गाने धीरे धीरे आवाज में प्ले कर दी, कावेरी कहने लगी की आपने तो जैसे मेरी दिल की बात सुन ली हो, मैं आपसे यही कहने वाली थी कि आप पुराने गाने लगा दीजिए। वह बहुत खुश हो गई और मेरी पत्नी कहने लगी कि मैं तुम्हारे लिए चाय बना कर लाती हूं। मेरी पत्नी कावेरी के लिए चाय बना कर ले आई, मैंने अपनी पत्नी से कहा कि मैं चाय नहीं पिऊंगा क्योंकि मैंने कुछ देर पहले ही चाय पी थी। कावेरी चाय की चुस्की ले रही थी और गाने का आनंद ले रही थी, उसे बहुत अच्छा लग रहा था। बातों बातों में मैंने कावेरी से पूछा कि क्या तुम्हारी शराब पीने की आदत छूट चुकी है। वह कहने लगी नहीं मेरी शराब पीने की आदत अभी तक नहीं छूटी है मैं बहुत ज्यादा परेशान हो गई हूं और सोच रही हूं किस प्रकार से मैं अपने शराब पीने की आदत को छोडू। हम लोग आपस में बात कर रहे थे और मेरी पत्नी कहने लगी कि मैं कुछ काम से बाहर जा रही हूं थोड़ी देर में आती हूं। मैंने कहा ठीक है तुम आ जाओ हम लोग साथ में ही बैठे हुए हैं और बात कर रहे हैं। कावेरी मुझसे बहुत अच्छे से बात कर रही थी बातों बातों में वह मुझसे कुछ ज्यादा ही चिपकने लगी और मुझे ऐसा लगने लगा कि शायद कावेरी को कुछ चाहिए। मैंने उसे कहा कि तुम मुझसे कुछ ज्यादा ही चिपक रही हो। वह कहने लगी हां मुझे आपका लंड अपनी योनि में लेना है। मैंने फिर से कहा कि यह अच्छी बात नहीं है क्योंकि मेरी उम्र तुमसे बहुत ज्यादा है और मैं तुमसे उम्र में भी बडा हूं। वह कहने लगी कोई बात नहीं लेकिन मुझे आपसे प्रेम हो गया है। जब कावेरी ने मेरे हाथ को पकडा तो मेरे अंदर से भी एक उत्तेजना का भाव पैदा होने लगा और मैंने भी उसे कस कर पकड़ लिया। वह मेरे गोद में बैठ गई और मेरा लंड उसकी गांड से टकरा रहा था उसे बहुत मजा आने लगा जिस प्रकार से मैं उसकी गांड से अपने लंड टकरा रहा था।

मैंने उसके गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठ को अपने होंठो में ले लिया और बहुत ही अच्छे से मैंने उसके होठों को काफी देर तक किस किया। जिससे कि उसके होठों से खून निकलने लगा था। मैंने उसे अपनी गोद में उठाते हुए अपने बेडरूम तक लेकर चला गया। मैंने उसके कपड़े खोलने शुरू किए और जब मैंने उसके कपड़े खोले तो उसके बड़े बड़े स्तन देखकर मेरा लंड खड़ा हो गया और वह भी पूरे मूड में आ चुकी थी। मैंने जैसे कि उसके स्तनों पर अपनी जीभ को टच किया तो उसे बहुत अच्छा महसूस होने लगा। मैंने उसके स्तनों को पूरा अपने मुंह के अंदर तक लेना शुरू कर दिया। मैंने जब उसकी जींस को खोला तो उसकी योनि पर एक भी बाल नहीं था और उसकी योनि पिंक कलर की थी। मैंने उसकी योनि पर अपने लंड को लगाया तो वह उत्तेजित हो गई और पानी बाहर की तरह निकलने लगा। वह कहने लगी मुझसे बिल्कुल भी नहीं रहा जा रहा है आप मेरी योनि के अंदर अपने मोटे और कड़क लंड को डाल दो। मैंने जैसे ही कावेरी की योनि में अपने लंड को डाला तो वह चिल्लाने लगी और कहने लगी आपका लंड तो मुझसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा है। मैंने उसके दोनों पैरों को कसकर पकड़ लिया और उसे झटके देने लगा। वह अपने मुंह से मादक आवाज निकाल रही थी और मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था वह जिस प्रकार से अपने मुंह से सिंसकिया ले रही थी। मैने काफी देर तक उसे चोदा लेकिन ज्यादा समय तक मैं भी उसके यौवन का रसपान नहीं कर पाया। जब वह झड़ने वाली थी तो उसने अपने दोनों पैरों से मुझे जकड़ लिया और मैंने भी उसे तेज तेज झटक दिए जिससे कि मेरा वीर्य पतन भी कावेरी की योनि के अंदर हो गया। हम लोगों ने जल्दी से अपने कपड़े पहन लिए और उसके कुछ समय बाद मेरी पत्नी भी घर पर आ गई।

error: