कसे और मोटे ताज़े लंड का झटका

Hindi sex story, kamukta हेल्लो मेरे छोटे बड़े भाई लोग आज मैं आप सभी को एक बहुत ही मजेदार चुदाई की कहानी सुनाने जा रहा हूँ |  मुझे मालूम है कि आप को मेरी ये कहानी पसन्द आयेगी | जब मै करीब 20 साल का था तब मै एक किराने की दुकान में काम करता था और उस समय एक भौजी भी वहां पे काम करती थी | उसका काम पर आने का समय ठीक 9.30 बजे का था और मेरा काम में आने का समय भी ठीक 9.30 बजे का था | वो जिस रास्ते से आती थी मैं भी उसी रास्ते से आता था | एक दिन वह मुझसे बोली कि आप का क्या नाम है ? मैंने बोला कि मेरा नाम तो छोटू ठाकुर है | फिर मैंने पूछा आपका क्या नाम है ? तो उसने कहा कि मेरा नाम कंचन सोनी है | तो मैंने बोला कि आप को कितने साल हों गये इस दुकान में काम करते | वो बोली मुझे तो अभी 2 महीने ही हुए है | उसने बोला कि मैं काम नही करती लेकिन मेरे पति के ख़तम होने के बाद से मुझे ही काम करना पड़ रहा है मेरी एक 3 साल की लड़की है उसकी भी देख रेख करनी है | वो अभी दूसरी कक्षा में है इसलिए मैं काम करती हूँ |

मैंने बोला आपका कोई और नही है क्या ? तो उसने कहा नही फिर हम दोनों बात करते करते दुकान पहुँच गये | हम दोनों दोस्त बन गये और धीरे धीरे एक साथ रोज काम में आने लगे और एक दिन वो मुझे बोली कि आप मेरा एक काम करोगे तो मैंने बोला क्यूँ नही आप बोलो क्या काम है | तो उसने बोला कि आप मेरे साथ मेरे घर चलो और मेरे घर में थोडा सा काम है | उसने कहा पलग को अंदर वाले कमरे में रखवाना है और पेटी को बाहर बाले कमरे में करना है | तो मैंने बोला इतनी सी बात है तो चलो और हम दोनों उसके घर गये | जब मैंने देखा कि वो तो बहुत ही अच्छे घर में रहती है लेकिन उसका और कोई नही है बस एक लड़की है तो मन में कुछ आया | पर मैंने उसका काम पूरा करवाया और उसके बाद आने लगा तो वो मुझसे बोली कि अभी नही जाना हम खाना बना रहे है | खाना खा के जाना तो मैंने बोला नही हम कभी और खा लेंगे तो उसने कहा ठीक है अब तो आप आते ही रहोगे आपने घर तो देख ही लिए है | मै घर आ गया और जब मै दूसरे दिन उसके घर गया तो वो नहा रही थी और में उस समय पहुँच गया और जब मैंने उसको देखा कि वो अपने बड़े बड़े दूधो को जम जम के घिस रही थी तो मेरा लंड खड़ा होने लगा और मैं उसे देखता ही रह गया |

मैंने सोचा कि मै इसको एक बार तो जरूर चोदुंगा और फिर वो तैयार हो के मेरे साथ काम में जाने के लिए आ गयी | मैंने बोला कि चलो आज मै गाड़ी लाया हूँ और हम दोनों काम पर आ गये फिर जब रात को हम लोग घर के लिए निकले तो वो पूछने लगी कि आपकी शादी हो गई क्या ? तो मैंने कहा नही और मै आप को आज बताता हूँ कि मेरे साथ भी कोई नही है मेरा बस एक भाई है | वो भी आपनी लुगाई के साथ रहता है | हमसे जादा मतलब नही रखता है | तो उसने कहा कि खाना कौन बनाता है आपका ? मैंने बोला कि मै खुद तो वो बोली कि अब से आप मेरे घर में खाना खा के जाना | अगले दिन जब मैं उसके घर में खाना खाने के लिए गया तो उसने मेरे लिए छोले की सब्जी और पुड़ी बनाई और बोली आओ और उसकी लड़की भीं आई और बोली की मम्मी ये कौन है ? मैंने बोला कि मै आपका चाचा जी हूँ ठीक है बेटा ? फिर मैंने पूछा आपका क्या नाम है ? तो उसने कहा कि मेरा नाम पलक है और हम तीनो खाना खाने लगे और मैं उसको देख रहा था और वो भी मुझे देख रही थी और खाना खाते जा रही थी | जब हम लोगों का खाना हो गया तो मैंने बोला कि अब मै जा रहा हूँ | तो उसने मुझसे कहा कि नही जाओ न आज यही सो जाओ न | तो मैंने बोला नही यार कभी और फिर मै आपने घर आ गया और फिर मै दूसरे दिन काम पर नही गया तो वो मेरा इंतजार करती रही पर मेरी तबियत खराब हो गई थी | 4 दिनों तक काम मैं काम पर नही गया तो उसने मेरे सेठ से मेरा मोबाईल नंबर लिया और मुझे कॉल किया |

 

उसने कहा छोटू बोल रहे हों क्या ? तो मैंने बोला हाँ आप कौन तो उसने कहा मै कंचन बोल रही हूँ आप को क्या हो गया आप काम पर क्यों नही आ रहे हो | तो मैंने बोला हाँ यार मेरी तबियत सही नही है | इसलिए मै काम पर नही आ रहा हूँ पर अभी ठीक हूँ | मैं बोला मैं आप के घर आता हूँ आज शाम को और मैंने सोचा कि आज तो मै इसको चोद ही दूंगा | जब मै शाम को उसके घर गया तो उसने मेरे लिए गाजर का हलवा बना के रखा था | जैसे ही मै उसके घर गया तो उसने मुझसे बोला कि आप इतना लेट क्यों आये तो मैंने बोला यार मुझे एक काम था तो मै उसे करके आ रहा हूँ इसलिए लेट हो गया | वो बोली कि आपकी तबियत तो सही है न तो मैंने बोला हाँ और आप तो सही हो ? तो वो मुझे देख के हसने लगी और बोली मैंने तो सोचा कि मुझसे कोई गलती हो गई है क्या ? मैंने कहा नहीं ऐसा क्यों पूछा ? फिर मैंने उसको बोला कि आज मै आपको एक बात बोल रहा हूँ आप किसी को बताओगे तो नही ना ? वो बोली नही बोलो तो मैंने बोला मै आपसे प्यार करता हूँ आप बताओ कि आप करती हो या नही ? तो उसने का कि आप अन्दर वाले कमरे मै आ जाओ जैसे ही मै कमरे के अन्दर गया तो वो मुझे जोर से किस करने लगी और बोलने लगी मै भी आपसे बहुत प्यार करती हूँ | आप मेरी प्यास को बुझाओ और मैंने भी उसको जोर जोर से किस करना चालू कर दिया और उसको बिस्तर में गिरा दिया और उसके दूध को जोर जोर से दबाने लगा धीरे से उसकी साड़ी को ऊपर कर दिया और उसकी चड्डी में अपना हाथ डाल के उसकी चूत को सहलाने लगा वो आह उह आह ओह्ह करने लगी |

उसने भी मेरे पेन्ट की बटन को खोल दिया और मेरे लंड को हिलाने लगी और बोली आपका औज़ार तो बहुत बड़ा है | मैंने इतना बड़ा सामान पहली बार देखा है और मेरे लंड को चूसने लगी और मै भी उसके ब्लाउज को उतार के उसके दूध को जम जम से चूसने लगा और उसकी साड़ी को भी उतार दिया | जब हम दोनी पूरे नंगे हो गये तो वो बोली कि आप अब से हरदम मेरी प्यास को बुझाओगे ना | मैंने बोल हां और वो मेरे पूरे अंग को चूमने लगी और मैं उसको टेबिल में बैठा के उसकी दोनों टांगो को आपने कंधे के ऊपर रख के उसकी अच्छी मोटी चौड़ी चूत को चाटने लगा और वो जम जम से सिसकारी ले रही थी | मैंने उसको घोड़ी बनाया और अपना मोटा लम्बा सा लंड उसकी चूत के उपर रख के घिसने लगा और धीरे से चूत के अन्दर डाल दिया और धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा | फिर मैंने अपनी तेजी को बढ़ाया और जब मैं उसको तरीके से चोदने लगा और वो जम जम से चुदवाने लगी तो वो बोली मुझे बहुत मजा आ रहा है | और जम जम से मुझे चोदो मैंने बोला आप आपनी टांगो को और थोडा सा चिप्कालो जब उसने आपनी टांगो को चिपका लिया तो मैंने उसे इस कदर का चोदा कि वो बोलने लगी बस करो और जोर जोर से चिल्लाने लगी |

जब मेरा माल निकलने को आया तो मैंने अपना लंड निकाल के उसके मुंह में डाला और चोदने लगा और आपना माल उसके मुंह में भर दिया और उसने मुझे जम के पकड लिया और बोली कि अब खाना खा लो और हम लोग मुंह हाथ धो के खाना खाने के लिए गयें | वो बोली कि आज आप हमारे साथ सोने वाले हो ना तो मैंने बोला हां जान आपने ये हलवा तो बहुत अच्छा बनाया है | आप अपने हाथ से खिलाओ और उसने जैसे ही खिलाया तो मैंने उसके दूध को जोर से दबा दिया उसने बोला कि अभी मन नही भरा क्या ? मैंने बोली नही अभी और चाहिए है | उसने कहा खाना तो खा लो पहले और हम दोनों ने खाना खा लिया और मैंने बोला कि आप बिस्तर लगाओ मै जरा आ रहा हूँ | मै मार्किट जा के दो 100 पावर की गोली ले के आ गया और एक डेरी मिल्क | जैसे ही घर पहुंचा तो वो बिस्तर लगा के मेरा इंतजार ही कर रही थी | हम दोनों बिस्तर पर लेट के चोकलेट को खा रहे थे और मेरा लंड फिर खड़ा होने लगा और मैंने बोला कि आप दो गिलास पानी ले के आओ और वो पानी ले आई तो मैंने बोला कि ये गोली एक आप खा लो एक मै खा लेता हूँ | तो उसने बोली कि ये कौन सी गोली है | मैंने बोला की ये गोली सम्भोग की उत्तेजता को बढाती है | और हम दोनों एक एक गोली खा कर एक दूसरे से लिपट गये और वो मेरे पैर को दबाने लगी और बोली आज का दिन मुझे याद रहेगा क्यूंकि पहली बार ऐसे रगड़ के चुदी हूँ  | मैंने उसके हाथ को पकड के अपनी तरफ खींच लिया और उसके होटो को चूसने लगा और बोला आपका मन है क्या फिर से मरवाने का ? उसने कहा आपका क्या मन है ?

मैंने बोला हां और उसने मेरे लंड को निकल लिया और अपने मुंह में डाल के चूसने लगी और मै जम जम के सिस्कारिया ले रहा था और उसके बड़े बड़े चिकने दूध को अपने हाथो से दबा रहा था | उसको मैंने बोला कि अब मै आपको एक नया तरीका सिखाता हूँ | मैंने उसकी दोनों टांगों को अपने कन्धो पर रख लिया और उसकी चूत के छेद को मिला के अपना मोटा सा लंड को उसकी चूत में डाल के चोदने लगा और वो बोली कि छोटू बहुत मजा आ रहा है | मैंने बोला कि मै चोद रहा हूँ मज़ा क्यों नही आयेगा | मैंने ऐसी तेजी से चोदा कि उसकी चूत से सफ़ेद पानी आने लगा फिर भी मै चोदे पड़ा था |

ये रही मेरी कहानी अच्छा मै अब अपने लंड से आपको नमस्कार करता हूँ |