दोस्त की पड़ोसन को पटा कर चोदा और उसकी माँ को भी भाग -2

हाय फ्रेंड्स मैं प्रशांत आपके सामने हाजिर फिर से अपनी कहानी को पूरा करने के लिए | मैं ज्यादा टाइम व्यर्थ ना करते हुए सीधा स्टोरी पे आता हूँ |

मैंने कहा ठीक है तो सबसे पहले तुम अपने दूध के दर्शन कराओ तो उसने कहा की पहले तुम दरवाजा बंद कर दो | मैं तुरंत ही उठ के गया और दरवाजा बंद करके फिर वापस आ गया मैंने बोला अब दिखाओ | उसने सबसे पहले अपनी कुर्ती उतारी उसने पिंक कलर की ब्रा पहली हुई थी क्या मस्त लग रही थी यार | मेरे मुह में तो लार भर गयी थी फिर उसने अपनी ब्रा भी खोली उसके दूध ज्यादा बड़े नहीं थे पर बहुत प्यारे दिख रहे थे गोर गोर और उसके पिंक निप्पल थे | मैं उसके दूध को दबाने ही वाला थाकी उसकी मम्मी की आवाज़ आई बेटा नीचे आ जाओ खाना खा लो फिर उसने अपने कपडे पहने लिए और हम दोनों नीचे आ गए | तो आंटी ने बताया की बेटा पानी रुक गया है तुम अब जा सकते हो घर | तो मैंने ओके कहा और स्नेहा को भी बाय बोल के अपने घर की तरफ बढ़ गया | मैं रस्ते भर उसके दूध के ही बारे में सोचता जा रहा था और घर आ के खाना खाया और रात भर उसी के बारे में सोच रहा था की कैसे चोदुंगा उसको और कैसी होगी उसकी चूत | येही सोचते सोचते मैं ब्लू फिल्म लगा के हस्थ्मैथून करने लगा फिर मैं सो गया |

अगले दिन स्कूल में भी मेरा मन पढाई में नहीं लग रहा था बस मैं उसी के बारे में सोच रहा था न ही खेल में मेरा मन लग रहा था न ही और किसी काम में | स्कूल से घर आने के बाद मैंने अपनी झांटे बनाई और मस्त नहा कर डीओ लगा कर उसके घर के लिए निकल पड़ा था और वही रास्ते भर सोचा रहा था की अब क्या होगा कैसे होगा | मैं उसके घर गया तो पता चला की वो आज नहीं पढ़ा पायगी और उसके भी एग्जाम चालू होने वाले हैं तो 1 हफ्ते बाद ही पढ़ा पायगी जब उसके एग्जाम खत्म हो जायेंगे|
मैं बहुत निराश हो गया था ये बात सुन के फिर मैंने सोचा की चलो कोई बात नहीं एक हफ्ते की ही तो बात है आखिर कब तक बचेगी | एक हफ्ते तक मैं बस मुट्ठ मार के ही काम चला रहा था मुझे से रहा नही जा रहा था उसके बिना | जैसे ही एक हफ्ते हुए मैं उसके घर पहुंचा तो मुझे उसकी शक्ल देख कर बहुत ख़ुशी हुई | मन तो कर रहा था की उसको गले से लगा लीं पर बच्चे थे इस वजह से मैंने अपने आप पर काबू रखा और मैंने पूछा कि आपके एग्जाम ओवर हो गये हैं अब तो आप फ्री हैं न | उसने कहा हाँ मैं अब फ्री हूँ फिर मैंने पूछा की कैसे गये सारे एग्जाम तो उसने बोला कि बहुत अच्छे गये हैं और मैं अपनी क्लास की टॉपर हूँ |

मैंने फिर अपना बैग खोल के किताब निकाली और उसे बताया तो फिर वो मुझे मैथ्स सिखाने लगी |

फिर मैंने उसे धीरे से कहा की मुझे तुम्हे चोदना है टाइम निकालो | उसने कहा की अभी तो कोई कहीं नहीं जा रहा है घर से तो मैं कैसे टाइम निकालू | मैंने कहा की मैं नहीं जानता मुझे तुम्हे चोदना है | उतने में एक बच्चा आ गया और उससे पूछने लगा की दीदी इस सवाल को कैसे करेंगे फिर वो उसको बताने लगी उसकी कोचिंग क्लास में मैं ही अकेला बड़ा बच्चा था बाकी सब मुझसे छोटे थे | फिर मैंने उससे कहा की मुझे टाइम चाहिए तुम्हारा उसने कहा की देखते हैं जब मौका मिलेगा मैं बता दूँगी | फिर सन्डे आया और सन्डे को छुट्टी रहती है तो मैं अपने दोस्त के घर गया हुआ था मैंने देखा की उसके घर वाले कहीं जा रहे है मैंने 10 मिनट वेट किया और उसके बाद अपने दोस्त से कहा की भाई मैं घर जा रहा हूँ | मैं उसके घर से निकल के स्नेहा के घर गया और दरवाजा खटखटाया वो बाहर निकली और मुझे देख के दंग रह गयी की ये कैसे आ गया | मैंने उससे कहा की मैंने तुम्हे कहा था न कि जब भी मौका मिले मुझे बताना तो वो बोली सॉरी मैं भूल गयी थी | फिर मैंने कहा की चलो अब अन्दर चलो | फिर हम दोनों उसके कमरे में गए और जाते ही मैंने उसे पकड़ लिया |

उसने कहा छोड़ो अभी घर वाले ज्यादा दूर नहीं गए हैं आधे घंटे में आ जायंगे तो मैंने कहा की मुझे कौनसा ज्यादा देर रुकना है वो समझ नहीं पायी | फिर मैंने उसका हाथ पकड़ा और किस करने लगा उसे बड़ा अजीबं लग रहा था थोड़ी देर बाद उसे भी मजा आने लग गया तो वो भी साथ देने लगी थी | फिर मैं उसके दूध पीने लगा था | उसे मजा आ रहा था और वो अहहः अह्हाहह्हा हहहाहह्हा हहहः हहहहहः ऊउन्न्ह करने लगी थी |मेरे पास ज्यादा टाइम नहीं था तो मैंने सोचा की जल्दी जल्दी इसे चोद देता हूँ | फिर मैंने उसे लेटाया और उसके पूरे कपडे उतार के नंगी कर दिया था | फिर मैंने उसकी पेन्टी उतार कर देखा कि उसकी चूत पे एक भी बाल नहीं है और चूत भी गुलाबी थी उसके होंठ की तरह | मैं लालची की तरह उसकी चूत की तरफ देखने लगा था मैंने सोचा की चाट के चूत मारूंगा | जैसे ही मैं उसकी चूत चाटने लगा तो पता चल की वो तो वर्जिन है उसकी चूत बहुत टाइट थी फिर मैं उसकी चूत को जीभ से चोद रहा था और चाट रहा था | मैं उसकी चूत गीली कर रहा था और वो अहहः अहहहः अहहहः अहहःअहह्ह्ह्हनानना अहहहहहः औऊऊन्न्ह्हह अहहहः ऊऊन्न्ह अहहाहः अहह्बह्बह आहा हा ह अह अह अह हा अह कर रही थी मैं समझ गया था की अब ये चुदने के लिए रेडी है | फिर मैंने अपना लंड निकाला जो की 6 इन्चा का था वो समझ चुकी थी मैं उसको चोद के ही मानूंगा | जैसे ही मैंने उसकी चूत में लंड का टोपा बस डाला उसके मुह से चीख निकल गई और वो बोलने लगी की प्लीज इसे निकालो बहुत दर्द हो रहा है मैं मर जाउंगी उसकी चूत से खून निकलने लगा था |

पर मैं बहुत जोश में था तो मैंने कहा की नहीं बाद में तो तुम्हे ये सहना ही है तो अभी ही सह लो | फिर मैंने उसके दोनों हाथ पकडे और जोर से धक्का मारा उसकी चीख निकल गयी थी पर मैं नहीं रुका और चोदता रहा 10 मिनट बाद उसे भी मजा आने लगा था और वो आहा आहा आहा अ हा हा हा हा ह अह अह अ अझाहहहहहाहा अहहहह्हा हाहा करने लगी थी और मैं उसे चोद रहा था | उसके बाद मैंने उसकी चूत के ऊपर वीर्य निकाल दिया था और मैंने कहा कि मैं तुमसे प्यार करता हूँ और शादी भी करूँगा फिर मैं वहाँ से निकल गया | फिर जब भी मुझे मौका मिलता मैं कहीं उसकी किस लेता कभी दूध दबा देता कभी गांड पे हाथ मारता | एक दिन मैं उसे चोद रहा था तो उसकी मम्मी ने पकड़ लिया था फिर हमारी बात बंद हो गई थी बस फ़ोन पे ही कभी कभी बात हो जाया करती थी | फिर एक दिन उसके घर में कोई नहीं था उसकी मम्मी बस अकेली थी और एक आंटी आई थी | मैं उसके घर के गया मुझे लगा की शायद उसके पहचान वाला होगा पर मैं गलत था |

मैं अपने दोस्त के घर की छत से देख रहा था की वो दोनों किस कर रहे और मैं तुरतं अपना मोबाइल निकाल के रिकॉर्डिंग करने लगा | जब वो आदमी वहाँ से निकला गया तब मैंने मैंने आंटी से कहा की ये कौन था तो उन्होंने कहा कि तुझे इससे क्या मतलब तू निकल यहाँ से और आना नहीं कभी मेरे घर | तो मैंने आंटी को वीडियो दिखा दिया आंटी की गांड फट गई | तो आंटी मुझसे बोली की बेटा ये किसी को भी मत दिखाना तू जो बोलेगा मैं तेरे लिए करूंगी | तो मैंने आंटी से बोला की मुझे तुम्हे चोदना है | उन्होंने तुरंत हाँ बोल दिया मैं समझ गया था की साली रंडी है इसको भी लंड बहुत पसंद है फिर क्या था मैंने भी बोला अब मैं ही तुम्हे चोदा करूंगा और कोई अगर आया तो मैं ये वीडियो तम्हारे घर में दिखा दूंगा | फिर मैंने उसे खूब चोदा|

और अब तो ऐसा हो गया है की मैं उसकी बेटी और ऊसको जब भी मौका मिलता है तो चोदता हूँ और दोनों ही मुझसे खूब चुद्वाती हैं | स्नेहा के पास भी कोई चारा नही था तो वो भी मझसे अब प्यार करने लगी है | मैं अपनी लाइफ से बहुत खुश हूँ क्यूंकि मुझे एक ही घर में दो चूत मिल रही है | दोस्तों ये थी मेरी सच्ची कहानी आप लोगो को मैंने बोर तो नहीं किआ ना | मुझे उम्मीद है आप लोगों को मेरी ये कहानी पसंद आई होगी |