दोस्त के घर में रंडी को चोदा

Dost ke ghar me randi ko choda:

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम है अमन जैसवाल है और मैं उत्तराखंड में रहता हूँ | मैं दिखने स्मार्ट तो हूँ लेकिन मुझे लड़कियों से डर लगता है इसलिए मेरी अभी तक कोई भी गर्लफ्रेंड नहीं है | मेरा मन चुदाई के लिए बहुत मचलता है मगर मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है इसलिए मुट्ठ मार के काम चला लेता हूँ | अभी मैं कॉलेज में पढ़ रहा हूँ लेकिन ये कहानी है जब मैं 12वीं में था और बोर्ड एग्जाम की तैयारी कर रहा था | तब मैंने और मेरे दो दोस्तों ने मिलकर एक रंडी को घर पर चोदा था | तो ये है मेरी कहानी |

ये तब की बात है जब मेरे बोर्ड एग्जाम आने वाले थे और मैं कोचिंग जाता था | मेरे कोचिंग में दो दोस्तों थे आशीष और नितिन | दो बहुत ही मादरचोद किस्म के लड़के थे और आए दिन लड़कियां और रंडियां चोदते रहते थे | दो मुझे हमेशा समझाते रहते थे कि भाई तू कोशिश तो कर तेरे से कोई लड़की कैसे नहीं पटेगी | लेकिन मुझे मेरी किस्मत पर पूरा भरोसा था कि मैं कुछ भी कर लू मेरे से कोई लड़की नहीं पटनी | उन्होंने मुझे कई लड़कियों से मिलवाया लेकिन किसी से बात नहीं बनी और मैं अपना लंड खुद ही हिलाता रह गया |

एक बार की बात है हम तीनों कोचिंग में बैठे थे तो आशीष ने कहा कि नितिन तूने कितनी लड़कियां चोदी है तो उसने करीबन 8 चोदी है तो आशीष ने पूछा और रंडियां | तो नितिन बोला 3 रंडियां वो कोठे पर जा के | तो नितिन ने पूछा की तेरा स्कोर क्या है तो आशीष बोला 7 लड़कियां और 5 रंडियां वो भी घर पर ला के | हम लोग चौंक गए कि घर पर कैसे ला के चोदा तूने | तो उसने कहा कि सारी सेटिंग करके रखता हूँ और जब रात को मम्मी पापा सो जाते है तो चुपचाप से उसको ऊपर वाले कमरे में ले जाता हूँ और खूब चोदता हूँ और फिर जल्दी उसको भेज भी देता हूँ | तो मैंने पूछा कि तू कभी पकड़ा नहीं गया क्या ? तो वो बोला नहीं मेरी घर में ऊपर जाने के लिए सीढियाँ बाहर आँगन से ही है और मम्मी पापा अन्दर सोते है |

फिर आशीष ने बोला कि क्या तुम लोगों को भी चोदना है आ जाओ मेरे घर रात को मस्ती करेंगे | नितिन तो झटपट तैयार हो गया लेकिन मुझे डर लग रहा था इसलिए मैं कुछ नहीं बोला | तभी नितिन ने बोला कि बोल भाई अमन चलेगा | तो मैंने बोला नहीं भाई तभी दोनों बोले कि गांड क्यों फट रही है तेरी, कुछ नहीं होगा उलटा बहुत मज़ा आएगा | तो मैंने बोला कि घर से निकलने नहीं मिलेगा इतनी रात को तो उसने बोला कि बोल देना कि दोस्त के यहाँ पढाई करने जा रहा हूँ और कल सुबह आ जाऊंगा | तो नितिन बोला कि अभी तो बोर्ड आने वाले है तो घर वालों को कोई शक भी नहीं होगा | मुझे फिर भी कुछ सही नहीं लग रहा था तो दोनों ने कहा ठीक है तू रहने दे तू बस अपना लंड खुद ही हिला घर पे |

फिर कुछ दिन बाद मैंने आशीष से कहा कि भाई तैयारी नहीं हो पा रही है और एग्जाम भी आने वाले है तो उसने कहा कि भाई घर आ जाना पढ़ा दूंगा | तो मैंने शाम को उसको फ़ोन किया कि भाई घर आ जाऊ तो उसने कहा कि 9 बजे आ जाना | तो मैंने बोला कि भाई 9 बजे आऊंगा तो पढ़ूंगा कब और जाऊंगा कब ? तो उसने बोला कि घर पे बोल दे कि कल ही आऊंगा अब | तो मैंने घर पे बता दिया कि रात को दोस्त के यहाँ ही रहूँगा और पढाई करूँगा और कल आ जाऊंगा | चूंकि एग्जाम आने वाले थे इसलिए घर वालों ने भी कुछ नहीं कहा और मैं आशीष के घर चला गया |

रात के करीबन 11 बज रहे थे तो नितिन का फ़ोन आया आशीष को और उसने कहा कि मैं एक घंटे से आ रहा हूँ | मैंने पूछा कौन था उसने कहा कि नितिन था तो मैंने पूछा कि वो भी आ रहा है क्या ? तो आशीष ने कहा हाँ तो मैं खुश हो गया कि नितिन आ गया तो वो भी मुझे पढ़ा देगा क्यूंकि नितिन पढने में अच्छा था | फिर करीब 12:30 पे नितिन आया और आशीष को फ़ोन लगाया तो मैं भी अश्सिः के साथ बाहर गया तो नितिन एक लड़की के साथ खड़ा था | फिर दोनों ने यहाँ वहाँ नज़र दौडाई और देखा कि कोई नहीं है तो जल्दी से उस लड़की को लेकर ऊपर वाले कमरे में आ गए |

फिर मैंने नितिन से पूछा कि ये कौन हैतेरी कोई दोस्त है क्या ? तो उसने कहा की नहीं बे रंडी लाया हूँ अपन चोदेंगे मस्त | मैं डर गया कि कहीं कोई पकड़ न ले फिर मैंने रंडी की तरफ देखा तो उसने अपने मुंह से कपडा हटा लिया था और वो किसी नेपाली लड़की की तरह लग रही थी | लेकिन देखने में तो गज़ब की थी दूध बड़े बड़े पतली कमर और बड़ी से गांड | फिर आशीष मेरे पास आया और मुझे उस रंडी के पास ले गया और आशीष ने रंडी से कहा कि ये है अमन | तो रंडी ने मुझसे कहा की मेरा नाम रानी है हीरो | फिर रंडी ने नितिन से बोला कि यही है वो चिकना जिसकी तू बात कर रहा था | तो नितिन से कहा हाँ यही है और आज तुझे इसकी इज्जात लूटनी है | तभी उसने मेरा हाँथ पकड़ा और कहा कि क्यों हो जाये | तो मैंने फ़ौरन उससे हाँथ छुड़ा लिया तो वो बोली कि मत डर रे तुझे बहुत मज़ा आएगा |

तभी आशीष मेरे पीछे आया और मेरे हाँथ पकड़ लिए और कहा मत डर और शांत हो जा और वो जो कर रही है उसे करने दे | तो मैंने सोचा कि चलो आज ये भी कर लेते है तो मैंने कहा ठीक है | फिर रंडी ने मेरी पैन्ट खोली और चड्डी में से लंड निकल लिया और हिलाने लगी | रंडी ने मेरे लंड को हिलाते हुए मुझसे कहा कि तुझे पता है मेरा भी एक लोवर है वो बिलकुल तेरे जैसा दिखता है उसका नाम है सूरज | तो हम लोग हसने लग गए और अब वो मेरा लंड चूसने लगी | जैसे ही उसने मेरे लंड को मुंह से लगाया तो मुझे पुरे शरीर में गुदगुदी से लगने लगी फिर थोड़ी देर बाद बहुत जमके मज़ा आने लगा | फिर थोड़ी देर में मैंने उसके मुंह में ही अपनी मुट्ठ गिरा दिया तो वो बोली कि तू तो जल्दी आउट हो गया रे चिकने | फिर आशीष ने कहा कि अब मेरी बारी और उसने अपनी जीन्स उतारी और रंडी के कपडे उतार दिए और उसके दूध चूसने लगा | तभी नितिन ने भी अपने कपडे उतारे और जाके उसके गांड पे हाँथ लगाने लगा और दबाने लगा |

फिर हम लोग अन्दर वाले कमरे में गए जहाँ पर बिस्तर था और वहाँ जाकर रंडी को बिस्तर पर लिटा दिया | अब हम तीनो को बीच में झगडा होने लगी कि पहले मैं डालूँगा पहले मैं पहले मैं तो रंडी बोली कि जल्दी करो भोसड़ी वालों | तभी नितिन बोला कि मैं डालूँगा पहले क्योंकि मैं लाया था | फिर उसने अपने लंड पे कंडोम लगाया और रंडी की चूत में डालके उसे चोदने लगा | रंडी अब आअह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हा हह्हः आआआअ करने लगी तो आशीष बोला की आवाज़ मत करो कोई उठ जाएगा | तो रंडी बोली चूत मेरी फट रही है दर्द मुझे हो रहा है तू मेरे बदले गांड मरवाले पता चलेगा |

तो हम लोग हस दिए और नितिन रंडी को चोदता ही जा रहा था | फिर आशीष रंडी के पास गया और उसको अपना लंड चुसाने लगा तो मैंने सोचा कि मुझे भी कुछ करना चाहिए | तो मैंने सोचा कि चूत और मुंह पे काम चल रहा है तो मैं उसके दूध पे टूट पड़ा और उन्हें चूसने लगा | फिर नितिन ने अपना लंड बहार निकला और बोला की मेरा हो गया तो मैंने आशीष की तरफ देखा और बोला की मेरी बारी तो आशीष ने कहा ठीक है और मैं उसकी चूत की ओर चला गया | फिर मैंने अपने लंड पे कंडोम लगाया और उसकी चूत में डाल दिया |

जैसे ही मैंने उसकी चूत में लंड डाला तो मुझे परम आनंद की प्राप्ति हुयी | फिर मैंने उसकी चूत में लंड को आगे पीछे करना शुरू किया और झुक कर उसके दूध चूसने लगा और पेट को चूमने लगा | मैंने थोड़ी देर उसको चोदा और मेरा झड गया और फिर मैंने आशीष से कहा भाई तेरी बारी तो वो भी आया और उसने अपने लंड पे कंडोम लगाया और चूत मारने लगा | थोड़ी देर में आशीष का भी हो गया और रंडी ने कहा हो गया तुम लोगों का तो मैं जाऊ | तो मैंने कहा कि नितिन मुझे एक बार और करना है तो मैंने फिर से उसकी चूत मारी और फिर नितिन उस रंडी को लेके चला गया | फिर ऐसे ही हमे कई बार उसके घर में चोदा चादी की और खूब मज़े उडाए |