चाची की हवस की प्यास को अपने लंड से शांत किया

Chachi ki hawas ki pyas ko apne lund se shaant kia:

हैल्लो दोस्तों मेरा नाम है सिद्धार्थ मुखर्जी | मैं पटना का रहने वाला हूँ और मैं अपने पुरे परिवार के साथ रहता हूँ | मेरे परिवार में मेरे मम्मी पापा और मेरे बड़े और छोटे चाचा चाची रहते है | मैंने अभी अभी कॉलेज ज्वाइन किया है और देखने में भी स्मार्ट दिखता हूँ | मेरे छोटे चाचा की शादी 2 साल पहले ही हुई है और वो मिलिट्री में हैं और उनके बच्चे नहीं है | ज्यादातर चाची घर पर अकेली ही रहती है लेकिन मेरा भरा पूरा परिवार है इसलिए उन्हें ज्यादा अकेलापन महसूस नहीं होता | लेकिन चुदाई की प्यास तो प्यास होती है और वो सिर्फ चुदाई से ही भर्ती है | तो ये कहानी है मेरी और चाची की चुदाई की जो मैं अभी आपको बताने जा रहा हूँ |

मेरी चाची का नाम है पूजा और देखने में तो वो किसी क़यामत से कम नहीं है | उनके दूध तो बड़े है ही और गांड तो और भी मस्त है | अक्सर जब वो सुबह झाड़ू लगाती हैं तो मैं उन्हें सामने से देखता रहता हूँ और उनकी क्लीवेज का मज़ा लेता रहता हूँ | बहुत बार मैंने उनको सोच कर मुट्ठ भी मारा है | एक बार जब मैं घर से कॉलेज के लिए निकल रहा था तो चाची मेरे पास आई और बोली कि सिद्धु (मेरे घर का नाम) मुझे रास्ते में काम है मुझे वहाँ तक छोड़ दो | मैंने कहा हाँ चाची चलो और हम निकल गए | रास्ते में जाते वक़्त मैंने ज़ोर से ब्रेक लगाया तो वो एकदम से मुझसे से चिपक गई और उनके दूध मुझे पीछे से महसूस हुए | तभी मेरा लंड खड़ा होने लगा तो मैंने फिर से ब्रेक लगा दिया और मुझे बहुत मज़ा आया | मेरा लंड खड़ा हो चूका था और चाची ने मेरे जांग पर हाँथ रखा था तो कभी कभी उनका हाँथ मेरे लंड को छु रहा था | मुझे बहुत मज़ा आ रहा था लेकिन फिर चाची ने कहा बस यहीं रोक दो और वो उतर गई और मैं कॉलेज चला गया |

एक बार हमारे बाजू वाले घर में शादी थी तो सभी घरवाले शादी में गए हुए थे बस मैं और चाची ही घर पर थे | हम दोनों दोपहर का खाना खा रहे थे और टी.वी. देख रहे थे | टी.वी. पर हम डी.वी.डी प्लेयर पर अंग्रेजी पिक्चर देख रहे थे | हमारा खाना ख़त्म हो गया था और हम आराम से सोफे पे बैठे थे | तभी एक अश्लील सीन आया और हम यहाँ वहाँ देखने लगे | फिर चाची ने बोला कि मैं बर्तन धो के आती हूँ और चली गई वहाँ से उठकर | मुझे भी बहुत अजीब सा लगा तो मैं उठा और टी.वी. बंद करके अपने कमरे में चला गया | मैं अपने कमरे में गया और कंप्यूटर चलो करके उसमें ब्लू फिल्म देखने लगा | मैं उत्तेजना में दरवाज़ा लगाना ही भूल गया था | थोड़ी देर बाद जब मैं अपना लंड हाँथ में ले कर हिला रहा था तो मुझे पीछे से आवाज़ आई “सिद्धु क्या कर रहे हो ?“ | तो मैं पीछे पलटा और देखा की चाची खड़ी है और मैंने अपना लंड अपने हाँथ में पकड़ रखा था | तभी चाची मेरे लंड को देखने लगी | फिर चाची ने कहा कि यही सब करते हो तुम कंप्यूटर पर ? मैंने कहा नहीं चाची और सिर झुकाके पैन्ट से अपना लंड छुपाने लगा | फिर चाची बोली कि रुको तुम्हारे मम्मी पापा को आने दो उन्हें बताती हूँ सब कुछ तो मैंने कहा नहीं चाची प्लीज | चाची बोली कि नहीं रुको तुम बस और फिर चाची जाने लगी | मुझे डर लगा तो मैंने भाग के चाची को पीछे से पकड़ लिया और कहा कि प्लीज चाची मत बताना | जैसे ही मैंने चाची को पीछे से पकड़ा तो मेरा लंड चाची की गांड को छु गया और उस वक़्त चाची थोड़ी से अकड़ गई थी |

फिर चाची ने कहा ठीक है जाओ और फिर वो अपने कमरे में चली गई | मैं जब अपने कमरे में गया तो ये सोच सोच मेरी गांड फटे जा रही थी कि अगर चाची ने मम्मी पापा को बता दिया तो मेरी गांड मर जाएगी | फिर मैं अपने कमरे में गया तो देखा कि कंप्यूटर पर ब्लू फिल्म अभी भी चल ही रही थी | इस बार मैंने दरवाज़े की कुंडी लगाई और फिर से मुट्ठ मारने लगा | फिर मुट्ठ मार कर मैं बिस्तर पर जाके सो गया | मेरी नींद शाम को खुली और मैं कमरे से बाहर आया तो मुझे चाची की आवाज़ सुनाई दी कि सिद्धू चाय पी लो | तो मैं डरते हुए किचिन में गया और चाय उठा कर आने लगा तो चाची ने पूछा कि क्या कर रहे थे इतनी देर से आवाज़ लगा रही हूँ | तो मैंने डरते हुए कहा कि वो चाची मैं सो रहा था और अपने कमरे में आ गया | फिर कुछ देर बाद चाची ने कहा चलो खाना खा लो | मैं जाके खाना खाने बैठ गया और चुपचाप से खाना खाने लगा | तभी चाची ने पूछा कुछ और चाहिए तो मैंने डरते हुए कहा नहीं | तो चाची बोली डरने की बात नहीं है नहीं बताउंगी किसी से कुछ भी | मैं फिर भी शांत था तो चाची ने कहा कि होता है इस उम्र में सब करते हैं ऐसा डरो मत | फिर मेरी साँस में साँस आई और मैं खाना खाके अपने कमरे में चला गया |

मैं अपने बिस्तर पर बैठा तो थोड़ी देर बाद चाची मेरे कमरे में आई और बिस्तर पर बैठ गई | फिर चाची ने मुझसे पूछा कि तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है क्या ? मुझे थोडा अजीब सा लगा लेकिन मैंने कहा नहीं है चाची | तो चाची बोली इसलिए ये सब खुद ही करते रहते हो | फिर चाची ने बोला कि तुम जो देख रहे थे वो मुझे भी दिखा सकते हो ? तो मैंने पूछा क्या ? तो चाची बोली अब ज्यादा भोले मत बनो | तो मैं उठा और कंप्यूटर स्टार्ट करके उसमे ब्लू फिल्म चालू कर दी | अब हम दोनों बैठके ब्लू फिल्म देख रहे थे | तभी चाची बोली कि तुमने कभी सैक्स किया है ? मैंने बोला नहीं | तो चाची बोली करोगे और इतना बोलते ही मुझे किस होंठों पर किस कर दिया | जैसे ही चाची ने मुझे किस किया तो मैं एक पल के लिए चौंक गया और फिर मेरे मन में लड्डू फूटने लगे | अब मैं भी चाची की किस का जवाब देने लगा और उनके होंठ चूसने लगा |

फिर मैंने चाची को उठाया उनका ब्लाउज खोला और ब्रा उतार दी | चाची के दूध बहुत गोरे और निप्पल ऑरेंज से थे | मैंने फ़ौरन चाची के दूध को पकड़ा और चूसने लगा | चाची उम् उम्म्म की आवाजें निकालने लगीं | फिर मैंने चाची की साडी उठा दी और उनकी पैंटी के ऊपर से चूत मलने लगा | चाची मुझे किस करने लगीं और मेरे लंड को मेरी पैन्ट के ऊपर से रगड़ने लगीं | फिर मैंने उनकी पैंटी उतारी तो देखा की उनकी चूत बिलकुल साफ थी तो मैं खुद को रोक नहीं पाया और उनकी चूत चाटने लगा | चाची आअह्ह्ह्ह औऊउम्म्म यय्या करे जा रही थी | मैंने उनकी चूत में ऊँगली करी और ऊँगली निकल कर चाची के मुंह में डाल दी | फिर चाची उठी और मैंने अपनी पैन्ट उतार के लंड चाची के पास ले गया |

जैसे ही चाची ने मेरे लंड को छुआ तो मेरे शरीर में बिजली सी दौड़ गई | फिर चाची ने मेरा लंड हिलाया और चूसने लगीं | मुझे तो बड़ा मज़ा आ रहा था और फिर मैं चाची के मुंह में ही झड गया | फिर चाची ने मेरे लंड को हिलाते हुए कहा कि तुम्हारा तो अभी झड गया | फिर मैंने कुछ नहीं बोला और चाची के दूध के बीच में अपना लंड फसा कर और ऊपर नीचे करने लगा | थोड़ी देर बाद मेरा लंड तन गया और चाची को चोदने के लिए मैंने चाची को बिस्तर पर लिटा दिया | फिर मैंने चाची की चूत पे लंड रखा और जोर का झटका मारा तो मेरा लंड अन्दर चला गया | चाची ने जोर से आवाज़ करी आहह्ह्ह….. और फिर मैं चाची को चोदने लगा | मेरा लंड अब ज्यादा अन्दर तक जा रहा था और चाची को मज़ा आने लगा था | मैंने चोदते हुए चाची से कहा कि चाची क्या तुम मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी ? तो चाची ने कहा मैं तो तुम्हारी गर्लफ्रेंड बन चुकी हूँ | फिर मैं बिस्तर पर लेट गया और चाची को अपने ऊपर बैठा लिया | चाची मेरे ऊपर जमके उचक रही थी और आहाह्हा ऊउम्मम्म आह्हाहा यया आहाहाह की आवाजें निकल रही थी | फिर मैंने चाची को बोला कि मेरा झड़ने वाला है, कहाँ झडाना है ? तो चाची बोली कि ये तो मेरे अन्दर ही गिरेगा | ये बोलकर चाची और जोर जोर से उचकने लगीं और मेरा मुट्ठ उनकी चूत में झड गया |

जैसे ही मेरा मुट्ठ उनकी चूत मेरा गिरा तो चाची बोली ये गरम मुट्ठ मुझे बहुत पसंद है | फिर हम दोनों चिपक कर लेट गए | फिर आधे घंटे बाद हमने फिर चुदाई करी और उसके बाद हमने कई बार चुदाई मचाई | अब चाची के दो बच्चे हैं और उनमें से एक मेरा है |