बीवी का गांड सेक्स देखा

रितु को फोन किया और अभी भी उसका नंबर बीजी आ रहा था, मुझे लगा के यह साली अभी भी अपने बॉयफ्रेंड के साथ ही लगी होंगी, इस हरामी से शादी कर के मेरे भाग्य ही फुट गए थे. रितु दिखने में और बिस्तर दोनों में मेरे साथ खुश रहती थी और मैं उसे अपने 8 इंच लम्बे लंड से हर दुसरे तीसरे दिन चोद लेता था. पर पता नहीं क्यूँ फिर भी वह खोई खोई रहती थी, मुझे मेरी बहन नंदिनी ने बताया की उसका गली के नुक्कड़ पर आये मेडिकल स्टोर वाले बिरजू और दुसरे एक दो और लोंदो के साथ चक्कर था. मुझे खबर नहीं पद रही थी की मैं क्या करूँ, क्यूंकि मेरे सामने वह हमेंशा सती सावित्री होने का ढोंग करती थी. उसके खिलाफ मेरे पास कोई सबूत नहीं था और ऊपर से उसका बाप सबूत के बगेर कुछ माने ऐसे कम ही चांस थे. मैंने मनोमन सबूत जुटाने की योजना बनाई और फिर मुझे पता चला की रितु को क्या चाहिए था….मुझे फिर पता चला की उसको तो लंड चूत से ज्यादा गांड के अन्दर लेना अच्छा लगता था, और मैं उसे केवल चूत के अंदर ही लंड देता था.

मेरा दोस्त अनूप एक प्राइवेट डिटेक्टिव था और मैंने उस से बात की, उसने मुझे एक ख़ुफ़िया केमेरा दिया और मुझे अपने बेडरूम के अन्दर लगाने को कहाँ. मैंने केमेरा अलमारी के उपर इस एंगल से लगाया की बेड और कुर्सी का पूरा हिस्सा उसमे आ जाए. मैं रोज जब रितु सब्जी लेने जाती तो केमेरा चला के देख लेता, एक हफ्ता हो गया था अभी तक कुछ हाथ नहीं लगा था. मैं रोज पुराने रेकोर्डिंग डिलीट करता और रितु की मटकती गांड अब मुझे दुशमन सी लगने लगी थी, उसके साथ मैं केवल सेक्स नाम के लिए करता था. मेरा सम्पूर्ण ध्यान तो उसकी चुदाई को केमरे के माध्यम से पकड़ने पर केन्द्रित था.

एक दिन जब रितु बाजार गई थी मैंने केमेरा देखा और आंखे खुली रह गई जब मैंने केमरे में बिरजू को देखा, बिरजू एक हट्टाकट्टा लौंडा था और उसकी हाईट भी बढ़िया थी. मैंने तुरंत केमेरा बंध किया और मैं उसे लेके सीधा अपने फार्म पर चला गया, जहाँ बैठ कर मैंने बाकी की रेकोर्डिंग देखी..इसमें मेरी बीवी रितु बिरजू से गांड मरवा रही थी…पूरी रेकोर्डिंग देख के मेरे गुस्से का ठिकाना ही ना था….रेकोर्डिंग के द्रश्य कुछ इस प्रकार के थे.

loading...

बिरजू करीब दोपहर 1 बजे आया था घर पे, जब मैं ऑफिस गया था और घर पे रितु के अलावा कोई और नहीं था. गर्मी के चलते 1 बजे बहुत कम चहलपहल होती है. वैसे भी हम लोग कम घुलते मिलते थे इसलियें बिरजू को कोई पूछने वाला भी नहीं था. पता नहीं रितु ने द्रोइंग रूम में बिरजू को बिठाया की नहीं क्यूंकि मेरे पास के द्रश्य केवल बेडरूम के ही थे, लेकिन उन्हें देख मुझे मेरी बीवी की गांड के अंदर रही लंड की तलब का अंदाजा अच्छी तरह चल गया था. बिरजू को उसने तुरंत पलंग के उपर ढकेला और वह उसके सामने जैसे की नग्न डान्स कर रही हों वैसे अपने कपड़े एक एक कर के उतारने लगे. बिरजू रितु को कुछ कह रहा था लेकिन केमेरा में सुनने का इन्तेजाम ना था इसलिए मैं समझ नहीं पाया. रितु ने अपने सारे कपड़े उतारे और वह एक जम्प लगा के पलंग़ के उपर चढ़ गई. बिरजू की पेंट रितु ने तुरंत उतार दी. बिरजू का लंड होगा कुछ मेरे जितना ही लेकिन उसका लंड एकदम काला था जैसे बेन्चोद धोता भी ना हो उसे. रितु उसका काला लंड पकड़ के हिलाने लगी और बिरजू रितु की गांड के उपर अपना हाथ फेरने लगा.

रितु अब बिरजू के लंड को धीमे धीमे सहला रही थी और फिर तो उसने सीधे इस लंड को अपने मुहं में भर लिया और उसके गले तक ले ले के चूसने लगी. बिरजू अपना हाथ रितु की गांड पर धीरे धीरे फेरने लगा. रितु की चुसाई और भी तीव्र होने लगी और वह उसे और भी जोर से चूसने लगी. रितु की गांड के उपर ठपठप मार रहा था और रितु बिच बिच में मुहं उठा के हंस रही थी. बिरजू भी रितु का मुहं लंड के ऊपर दबा दबा के उसको अपना लंड चुसाए जा रहा था. रितु अब खड़ी हुई और उसने गांड को बिरजू के आगे किया. बिरजू ने गांडमें अपना मुहं घुसाया और उसके उपर ढेर सारा थूंक लगाया. अच्छा अब पता चला की रितु मेरे से खुश क्यों नहीं थी, वह गांड मरवाने की मशीन थी औ उसे अपनी दुकान में डंडा चाहिए होता था और मैं उसे 20 मिनिट तक चूत में लंड दिए रहेता था…..! बिरजू ने रितु को वही उल्टा लिटा दिया और रितु घुटनों के बल अपने कूलो को उपर किये हुए थी.बिरजू ने अपना डंडा लिया हाथ में और रितु के कूलो के बिच होते हुए उसकी गुदा में धकेल दिया….!

बिरजू रितु को पेट से पकड कर अब उसकी गांड को जोर जोर से ठोकने लगा, रितु के कूलो पर बिरजू के ठपाके लगने लगे, आवाज तो नहीं आ रही थी लेकिन चुदाई के समय जरुर मस्त आवाजे अ रही होगी. रितु पहले बिना हिलेदडुले गांड मरवा रही थी और थोड़ी देर बाद उसने अपनी गांडको हिलाना चालू कर दिया. मेरा लंड रितूका गुदामैथुन देख खड़ा हो रहा था…मुझे लगा की मैंने इस रसीली गांडको कभी ठुकाई की लिए सही नहीं समझा…! बिरजू अब और जोर जोर से रितु की गांड को धकेलने लगा और रितु भी अब और जोरों से हिलने लगी थी. बिरजूने हाथ आगे कर के मेरी बीवी के सेक्सी चुंचे दबाये. रितु की गांड से इसका लंड पूरा अन्दर बहार होने लगा था. तभी बिरजू के लंड से वीर्य निकला औ रितु के कूलो से निचे टपकने लगा…थोड़ी देर में दोनों कपडे पहनने लगे और रितु ने अलमारी से बिरजू को कुछ पैसे भी दिए…मुझे केमरे में पता नहीं चला लेकिन उसने कम से कम उसे 500 जितने रूपये दिए थे….!